कवर स्टोरीगुनाहजरुर पढें

भैय्यूजी महाराज के भक्‍त छेड़ रहे MADHYA PRADESH-MAHARASHTRA में आंदोलन, लेकिन उनकी पत्‍नी क्यों बना रहीं इससे दूरी

Share Article

भैय्यूजी महाराज की मौत की सच्‍चाई जानने के लिए चौथी दुनिया ने जो पहल की है, अब वो मुहिम बन चुकी है. भैय्यूजी महाराज के विभिन्‍न राज्‍यों में फैले भक्‍त एकजुट हो रहे हैं. इसी कड़ी में अकोला में 25 नवंबर को समर्थकों की मीटिंग हुई और उसमें तय किया गया कि अब भैय्यूजी महाराज के समर्थक 3 दिसंबर को इंदौर में मार्च निकालेंगे, डीआईजी को ज्ञापन सौंपेंगे और उन संदिग्‍ध लोगों को मीडिया के सामने लाएंगे, जो इस घटना के बाद से गायब हैं. लेकिन इस सबके बीच आश्‍चर्य की बात ये है कि भैय्यूजी महाराज की ही पत्‍नी इस अभियान से दूरी बना रही हैं. अब सवाल ये है कि क्‍या वो नहीं चाहतीं हैं कि इस मामले में जांच आगे बढ़े?

यह भी पढें : भैय्यूजी महाराज की औपचारिक मौत!

आयुषी ने टिकट बुक की और भाग गईं

इधर अकोला में मीटिंग के बीच निर्णय हुआ कि कुछ चुनिंदा 50-60 लोग तत्‍काल इंदौर निकलेंगे और वहां पहुंचकर पुलिस-प्रशासन के आला अधिकारियों से मिलेंगे. इसके बाद मीटिंग से ही भैय्यूजी महाराज की दूसरी पत्‍नी आयुषी को फोन किया गया. उनसे सीधे संपर्क नहीं हो पाया, तब ट्रस्‍टी के जरिए उनसे बात की गई. आयुषी ने इस अभियान की सराहना तो की लेकिन जैसे ही समर्थकों ने इंदौर आने की बात बताई. साथ ही उनसे इसमें शामिल होने को कहा तो उन्‍होंने तुरंत मना कर दिया. इसके पीछे कारण बताया कि वो चेन्‍नई जा रही हैं. हालांकि चेन्‍नई में ऐसा कौनसा महत्‍वपूर्ण काम था, जो उनके पति की मौत की जांच से ज्‍यादा अहम था, ये तो अब वही जानती होंगी. लेकिन यदि ये काम वाकई इतना महत्‍वपूर्ण था भी तो वो चेन्‍नई की बजाय मुंबई क्‍यों गई? दरअसल, ये खबर भी हमें इंदौर से ही मिली है कि आयुषी को मुंबई जाने वाली फ्लाइट में देखा गया. उधर आश्रम से जुड़े सूत्रों का कहना है कि असलियत में आयुषी का कहीं भी जाने का कोई प्‍लान ही नहीं था, आनन-फानन में टिकट बुक करके वो मुंबई गई हैं. जाहिर है, इसके पीछे वजह यही है कि सीबीआई जांच करने की मांग कर रहे समर्थकों के अभियान का हिस्‍सा नहीं बनना चाहती हैं. ये बात भी उनको संदेह के दायरे में लाती है कि अब तक उनकी ओर से इस मामले में सीबीआई जांच की मांग करना तो दूर मौजूदा जांच को आगे बढ़ाने तक की मांग क्‍यों नहीं की गई? क्‍यों‍ अब तक उन्‍होंने उन लोगों के खिलाफ पुलिस में मामला दर्ज नहीं कराया जिनसे भैय्यूजी महाराज घिरे रहते थे लेकिन उनकी मौत के बाद से गायब हैं. हमने इन सब सवालों के जबाव जानने के लिए कई बार आयुषी को संपर्क किया लेकिन उन्‍होंने कभी बात नहीं की. आखिर वो क्‍या कारण हैं कि वो मीडिया और भैय्यूजी महाराज के समर्थकों से छुप रही हैं.

यह भी पढें : चौथी दुनिया की खबर का असर: एकजुट हो रहे भैय्यूजी महाराज के समर्थकों को मिल रहीं धमकियां, कल जुटेंगे अकोला में

5 राज्‍यों के समर्थक 3 दिसंबर को पहुंचेंगे इंदौर

अकोला की मीटिंग में यह भी निर्णय हुआ कि अब समर्थक ही इस अभियान को आगे बढ़़ाएंगे और सरकार पर सीबीआई जांच कराने के लिए दबाव डालेंगे. इसके लिए महाराष्‍ट्र और मध्‍यप्रदेश के हर जिले में भैय्यूजी महाराज के समर्थकों की मीटिंग होंगी और इनमें से चुनिंदा लोग 3 दिसंबर को इंदौर पहुंचेंगे. इसके अलावा गुजरात, हिमाचल प्रदेश, हरियाणा के समर्थक भी इंदौर जाएंगे. करीब 2000 समर्थक सूर्योदय आश्रम से मार्च निकालेंगे और भैय्यूजी महाराज के घर जाकर उनकी मां से आर्शीवाद लेंगे. साथ ही आयुषी से इस अभियान में शामिल होने के लिए कहेंगे. आयुषी इसमें शामिल हों या न हों, इसके बाद समर्थक डीआईजी और कलेक्‍टर को ज्ञापन सौंपेंगे. बाद में प्रेस क्‍लब में प्रेस कॉन्‍फ्रेंस लेकर उन सेवादारों को मीडिया के सामने लाने की कोशिश करेंगे जो गुरूजी की मौत के बाद से गायब हैं. मीटिंग में यह भी तय किया गया कि यदि उन्‍हें न्‍याय नहीं मिला तो वो उच्‍च न्‍यायालय में जाएंगे.

गौरतलब है कि गुरूजी के समर्थकों के बीच इस मामले में चौथी दुनिया द्वारा की गईं खबरों के साथ-साथ एक और मैसेज भी वायरल हो रहा है जिसमें विनायक दुधाड़े, मनमीत अरोरा, अनूप राजुरकर, प्रवीण गाडगे, शेखर पंडित, मनोहर सोनी, शरद देशमुख, नरेश कदम, संजय यादव को फरार बताकर उन्‍हें ढूंढने की बात भी की जा रही है.

 

Sorry! The Author has not filled his profile.
×
Sorry! The Author has not filled his profile.

You May also Like

Share Article

Comment here