जानिए: प्रदूषण से कैसे बचाएगा गुड़

दिल्ली और इसके आसपास के इलाको में इस समय प्रदूषण काफी खतरनाक स्तर पर पहुंच चुका है. सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बावजूद दिवाली में काफी जगह दो घंटे के बाद भी पटाखे जलाए गए. जिसके चलते प्रदूषण का स्तर और बढ़ गया है. आने वाले दिनों में प्रदूषण का स्तर और बढ़ने वाला है. ऐसे में प्रदूषण के कारण लोगों में अस्थमा, ब्रॉन्काइटिस, पल्मोनरी डिजीज और बच्चों में निमोनिया का खतरा बढ़ रहा है.

प्रदूषण से बचने के लिए हम आपको एक चीज बताने जा रहे हैं, जो आपके घर में रहती है और वो है- गुड़. बरसों से गुड़ भारतीय खानपान का हिस्सा रहा है. आज भी काफी लोग खाना खाने के बाद गुड़ जरूर खाते हैं, क्योंकि यह पाचन में मदद करता है. साथ ही शरीर का मेटाबॉलिज्म ठीक रखता है. गुड़ अस्थमा के रोगियों के लिए फायदेमंद है क्योंकि इसमें ऐंटी-ऐलर्जिक गुण होते हैं.

प्रदूषण के कारण सबसे ज्यादा तकलीफ सांस लेने में होती है. जहरीली हवा के कारण छोटे बच्चों, बुजुर्गों और कमजोर इम्यूनिटी वाले लोगों को कई बार दम घुटने का एहसास होता है. ऐसे में गुड़ के प्रयोग से राहत पाई जा सकती है. इसके लिए एक चम्मच मक्खन में थोड़ा सा गुड़ और हल्दी मिला लें और दिन में 3-4 बार इसका सेवन करें. यह तरीका आपके शरीर में मौजूद जहरीले पदार्थों को बाहर निकालेगा और उसे टॉक्सिन फ्री बनाएगा. गुड़ को सरसों तेल में मिलाकर खाने से सांस से जुड़ी दिक्कतों से आराम मिलता है.

गुड़ में सुक्रोज की मात्रा 59.7% होती है. ग्लूकोज 21.8% होता है. खनिज तरल 26% होता है. जल अंश की मात्रा 8.86% होती है. इसके अलावा गुड़ में कैल्शियम, फास्फोरस, लोहा और ताम्र तत्व भी अच्छी मात्रा में मिलते हैं.

 

Share Article

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *