10 लाख का इनामी नक्सली चढ़ा पुलिस के हत्थे

naxalite in jharkhand

राँची. झारखण्ड और बिहार में आंतक फैलाने के मामले में शामिल 10 लाख का इनामी नक्सली जोनल कमांडर कुंदन यादव को दोनों राज्यों की पुलिस के प्रयास से गिरफ्तार कर लिया गया है. पलामू डीआईजी विपुल शुक्ला से मिली जानकारी के अनुसार कुंदन यादव को दोनों जिलों के सीआरपीएफ और जिला पुलिस ने गया जिले के आमस गांव के इलाके से गिरफ्तार किया है.

ज्ञात हो कि कुंदन यादव जून 2016 में गया-औरंगाबाद में कोबरा टीम पर हमले का भी मुख्य आरोपी है. इस हमले में कोबरा के 10 जवान शहीद हुए हैं. कुंदन माओवादियों के लिए लैंड माईंस एक्सपर्ट और हथियार एक्सपर्ट माना जाता रहा है.

कुंदन पलामू के मनातू थाना क्षेत्र के चक अदौरिया का रहने वाला है. झारखण्ड पुलिस ने करीब डेढ़ साल पहले उसकी एक करोड़ रुपये से भी अधिक की सम्पत्ति को जब्त किया था. कुंदन यादव झारखण्ड-बिहार में कई बड़े नक्सली हमले का आरोपी है. कुंदन माओवादियों के मध्य जोन का बड़ा कमांडर है. कुंदन की गिरफ्तारी से झारखण्ड-बिहार सीमावर्ती क्षेत्र में माओवादियों को बड़ा झटका लगा है.

कुंदन यादव बिहार में आमस के इलाके में पत्नी का ईलाज करवाने गया था, जिसकी सूचना वहां की पुलिस को मिल गयी, उसके बाद ही उसे गिरफ्तार कर लिया गया. कुंदन को पलामू पुलिस रिमांड पर लेगी. कुंदन यादव से पूछताछ के लिए पलामू पुलिस गया में कैंप कर रही है.

राज्य सरकार झारखण्ड में सक्रिय शीर्ष 20 नक्सलियो पर नये सिरे से इनाम घोषित किया जाएगा. पुलिस मुख्यालय ने नक्सलियों पर इनाम घोषित करने के लिए गृह विभाग को पत्र भेजा है. झारखण्ड में सक्रिय भाकपा माओवादी सेंट्रल कमेटी मेंबर प्रयाग मांझी उर्फ विवेक पर सर्वाधिक एक करोड़ का इनाम घोषित किया जाएगा.

मिली जानकारी के अनुसार एनआईए और झारखण्ड पुलिस के वांटेड टीपीसी सुप्रीमो ब्रजेश गंझू के खिलाफ भी 25 लाख का इनाम नये सिरे से घोषित किया जाएगा. 20 शीर्ष नक्सलियों पर इनाम की राशि दो सालों तक प्रभावी रहेगी. दो सालों के बाद इनाम के प्रस्ताव का नवीनीकरण करना होगा. जानकारी के अनुसार राज्य में कई माओवादियों पर इनाम की समयसीमा 25 सितम्बर, 2018 तक ही थी. ऐसे में दोबारा इनाम संबंधी प्रस्ताव गृह विभाग को भेजा गया.

वर्तमान में राज्य पुलिस के द्वारा 212 नक्सलियों को इनामी घोषित किया गया है. जिन 20 उग्रवादियों पर अब इनाम घोषित होगा, उनके खिलाफ कुर्की जब्ती की कार्रवाई जिलों की पुलिस ने की है. कार्रवाई के बाद डीआईजी, एसपी की अनुषंसा और विषेष शाखा के अधीन विषेष आसूचना ब्यूरो की रिपोर्ट के आधार पर इनाम घोषित किए जाने की कार्रवाई की गई है. राज्य पुलिस अधिकतम 400 अपराधियों-नक्सलियों पर एक साथ इनाम घोषित कर सकती है.

 

 

Share Article

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *