डायबिटीज की दवा के नाम पर कंपनियों का फर्जीवाड़ा

Diabetes Insulin

डायबिटीज के नाम पर दवा कंपनियां कहां तक गिर सकती है आप सोच भी नहीं सकते हैं. कुछ समय पहले स्‍पेन में शुगर की दवा बेचने वाली बड़ी बड़ी कंपनियों की एक बैठक हुई थी जिसमें दवाओं की बिक्री बढ़ाने के लिए सुझाव दिया गया कि अगर शरीर में सामान्‍य शुगर का मानक 120 से कम कर 100 कर दिया जाए तो शुगर की दवाओं की बिक्री 40 प्रतिशत बढ़ेगी. आपको जानकारी के लिए बता दें कि पहले शरीर में सामान्‍य शुगर का मानक 160 था जो कि दवाओं की बिक्री के लिए इसे कम करते करते 120 तक लाया गया. जिसे आने वाले समय में इसे 100 तक करने की संभावना है.

यह एलोपैथी दवा कंपनियां लूटने के लिए किस हद तक गिर सकते हैं ये इसका जीता जागता उदाहरण है कि आज मेडिकल साइंस के अनुसार शरीर में सामान्‍य शुगर का मानक 80 से 120 है. दवा कंपनियों के साथ मिलकर इन्‍होंने कुछ फर्जी शोध की आड़ में नया मानक 70 से 100 तय कर दिया. यदि एक स्‍वस्‍थ्‍य व्‍यक्ति शुगर टेस्‍ट करवाये और शुगर का स्‍तर 100 से 110 के बीच आ जाए तो डॉक्‍टर उसे शुगर का रोगी घोषित कर देगा. और वो व्‍यक्ति इस भय के कारण शुगर बीमारी की एलोपैथी दवाएं लेना शुरू कर देंगे जो कि पहले से ही शुगर सामान्‍य थी. अब इस भय के साथ शुगर की दवा लेने लगेंगे जिससे इसके उल्‍टा परिणाम होगा कि आपको कमजोरी महसूस होने लगेगी. यदि दो से तीन करोड़ लोग भी इस साजिश का शिकार होते हैं तो ये दवा बनाने वाली कंपनियां लाखों करोड़ कमा लेंगे.

इसे भी जरूर पढ़ें : सावधान: महिलाओं के लिए ये बीमारी है बहुत खतरनाक

1997 से पहले फास्टिंग डायबिटीज की लिमिट 140 थी. फिर फास्टिंग शुगर की लिमिट 126 कर दी गई जिससे विश्‍व जनसंख्‍या में 14 प्रतिशत डायबिटीक लोग अचानक बढ़ गए. उसके बाद 2003 में डब्‍ल्‍यू एच ओ ने इसकी लिमिट कम करके 100 कर दी. अर्थात फिर से 70 प्रतिशत लोग डायबिटीज से ग्रस्‍त माने जाने लगे. दरअसल डायबिटीज लिमिट तय करने वाली कुछ दवा कंपनियां थी जो डब्‍ल्‍यू एच ओ के साथ मिलीभगत करके अपना मुनाफा बढ़ाने के लिए कर रही थी. क्‍या आप जानते हैं कि डायबिटीज की जांच कैसे होती है या आप डायबिटीज के शिकार हैं भी या नहीं?

डायबिटीज चेक करने का एक सरल उपाय है – आप की उम्र और + 100. जैसे यदि आपकी उम्र 65 है तो आपका शुगर लेवल खाने के बाद 165 होना चाहिए. यदि आपकी उम्र 75 है तो आपका नॉर्मल शुगर लेवेल खाने के बाद 175 होना चाहिए.  यदि ऐसा होता है तो आपको डायबिटीज नहीं है. लेकिन डब्‍ल्‍यू एच ओ को अपने कॉन्फिडेंस में लेकर बहुत सारी फार्मा कंपनियों ने अपने व्‍यापार के लिए शुगर लेवल में उथल पुथल कर दी और आम जनता उस चक्रव्‍यूह में फंस गई.

डायबिटीज पर एक सबसे बड़ा सच यह है कि अगर आपकी पाचन शक्ति उत्‍तम है तो आपको कोई टेंशन लेने की कोई जरूरत नहीं है या फिर आप अपने जीवन में कोई टेंशन नहीं लेते हैं तो आपको डायबिटीज नहीं हो सकती है. यदि आप अच्‍छा खाना खाते हैं, आप जंक फूड, ज्‍यादा मसालेदार या तैलीय भोजन या फ्राईड फूड नहीं खाते, आप रेगुलर योगा या कसरत करते हैं और आपका वजन आपकी हाइट के हिसाब के बराबर है तो आपको कभी भी डायबिटीज नहीं हो सकती.

इसे भी जरूर पढ़ें : सर्दियों में इस वजह से दिल थाम कर रखें

You May also Like

Share Article

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *