केरल: स्कूली छात्रा को 1 साल से हवस का शिकार बना रहे थे 18 दरिंदे

school-girl-rape-case-in-keral

केरल के कन्नूर जिले में 15 साल की एक स्कूली छात्रा का कथित तौर पर कई लोगों द्वारा अलग-अलग स्थानों पर यौन उत्पीड़न करने के मामले में आठ लोगों को गिरफ्तार किया गया। लड़की को सोशल मीडिया के जरिए लुभाया गया था। पुलिस ने बुधवार को यह जानकारी दी। इस मामले ने 1996 के चर्चित सूर्यनेल्ली सेक्स स्कैंडल को फिर से याद दिला दिया है जिसने पूरे राज्य को सकते में डाल दिया था।

पुलिस ने 10वीं की छात्रा के साथ दुष्कर्म करने वाले 18 लोगों की पहचान की है। पीड़िता ने पुलिस को बताया कि सोशल मीडिया पर एक महिला की उससे दोस्ती हुई। उसने उसे लुभाया और मंदिरों वाले शहर परासीनीकादावु के एक लॉज में लेकर आई। यहां छात्रा का एक युवक ने यौन उत्पीड़न किया। पुलिस ने बताया कि आरोपियों ने लड़की की अश्लील वीडियो बनाकर उसे ब्लैकमेल किया और इसके बाद कई बार कई लोगों ने उसका यौन उत्पीड़न किया। गिरफ्तार युवकों में से एक शख्स पीड़िता का रिश्तेदार है।

आरोपियों ने छात्रा के अश्लील वीडियो को हथियार बनाकर उसके भाई से पैसे वसूलने की भी कोशिश की। भाई ने जब अपनी बहन से मामले के बारे में पूछा तो उसने सब कुछ बताया।

थालीपाराम्बू के पुलिस उपाधीक्षक पी के वी वेणुगोपान ने बताया कि इस मामले में पांचवां आरोपी लॉज का प्रबंधक है क्योंकि उसने इस अपराध के बारे में पुलिस को जानकारी नहीं दी थी। उसे गिरफ्तार कर लिया गया है। पुलिस ने बताया कि लड़की के बयान के आधार पर पहली प्राथमिकी दर्ज कर ली गई है और पोक्सो अधिनियम के तहत मामला दर्ज कर लिया गया है।

वेणुगोपाल ने न्यूज एजेंसी पीटीआई को बताया कि नाबालिग का बयान थालीपाराम्बू मजिस्ट्रेट के समक्ष मंगलवार को दर्ज किया गया। मेडिकल जांच में यौन उत्पीड़न की पुष्टि हो गई है। पीड़िता ने इन जघन्य अपराधों के बारे में बताया है। पुलिस ने बताया कि जिले के अलग-अलग पुलिस थानों में 15 मामले दर्ज किये गए हैं।

वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा कि यह मामला बिल्कुल 1996 के सूर्यनेल्ली सेक्स स्कैंडल जैसा लग रहा है। 1996 में एक इदुक्की जिले में एक 16 साल की लड़की को वेश्यावृति के दलदल में धकेलने की कोशिश की गई थी। 40 दिन तक उसके साथ 39 लोगों ने बलात्कार किया था।

You May also Like

Share Article

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *