सावधान: महिलाओं के लिए ये बीमारी है बहुत खतरनाक

Breast Cancer

महिलाओं के लिए स्‍तन कैंसर बहुत खतरनाक बीमारी है. इससे बचाव के लिए लोगों में जागरूकता लाना बहुत जरूरी है ताकि समय रहते इसका सही इलाज हो सके. जबकि आज भी महिलाएं इसके प्रति जागरूक नहीं हैं. हाल ही में एक अध्‍ययन से पता चला है कि 28 में से एक महिला को अपने जीवनकाल में स्‍तन कैंसर का सामना करना पड़ता है. शहरी क्षेत्रों में इस बीमारी के मरीजों की संख्‍या 22 महिलाओं में से एक जबकि ग्रामीण क्षेत्र में 60 में से एक महिलाएं इस बीमारी से जूझ रही हैं. स्‍तन कैंसर के आंकड़े के मामले में भारत पश्चिमी देशों से अलग है. भारत में स्‍तन कैंसर की समस्‍या 30 से 40 के उम्र में ज्‍यादा होती है जबकि पश्चिम में स्‍तन कैंसर 50 साल से अधिक आयु की महिलाओं में होता है. भारत में इसके प्रति जागरूकता और जांच का अभाव काफी देखने को मिलता है. जब इसका पता चलता है तो उस महिला और उनके परिजनों को पूरी तरह तोड़ देता है.

पिछले कुछ सालों में भारत में स्‍तन कैंसर की चपेट में 50 वर्ष से कम उम्र की महिलाएं ज्‍यादा आई हैं. इसके प्रति जागरूकता का अभाव का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि इसकी पहचान तीसरे या चौथे स्‍टेज में होता है, जब यह रोग मरीज के लिए खतरनाक हो जाता है.

इसे भी जरूर पढ़ें : सिर्फ एक टेस्‍ट से सभी तरह के कैंसर का पता लगाएं

अगर इस बीमारी के प्रारंभिक लक्षण का पता लग जाए तब इलाज काफी आसान हो जाता है. जिससे 80 प्रतिशत तक मरीज ठीक हो जाते हैं. ऐसे मामले में लोगों को अंधविश्‍वास से दूर रहना चाहिए. स्‍तन कैंसर में प्रारंभिक तौर पर स्‍तन के अंदर दो सेंटीमीटर तक की गांठ बनती है और इससे सूजन, हल्‍का दर्द, शुरू हो सकता है. यदि शुरुआती दौर में इस बीमारी का पता चल जाए तो इसका उपचार संभव है. इसके अलावा कीमोथेरेपी और रेडियोथेरेपी के जरिए भी उपचार संभव हो गया है. जरूरत है तो सिर्फ इसके लिए जागरूक होने की.

स्तन कैंसर के बचाव

  • धूम्रपान न करें।
  • शरीर का वजन संतुलित रखें।
  • नियमित व्यायाम करें।
  • अल्कोहल का उपयोग सीमित करें।
  • यदि आप ड्रिंक करते हैं तो फोलेट सप्लीमेंट लेने से संभवत: आप खुद में स्तन कैंसर का जोखिम कम कर सकते हैं।

इसे भी जरूर पढ़ें : एंटीबायोटिक्स से हो सकेगा अपेंडिसाइटिस का इलाज

स्तन कैंसर के कारण

  • स्तन कैंसर किसी भी उम्र में हो सकता है, लेकिन 40 वर्ष की उम्र के बाद इसके होने की आशंका बढ़ जाती है।
  • उम्रदराज महिला की पहली डिलीवरी के कारण स्तन कैंसर की संभावना बढ़ जाती हैंl
  • गर्भ निरोधक गोली का सेवन और हार्मोंन की गड़बड़ी इसका अन्य कारण माना जाता हैं।
  • आपके परिवार में पहले से किसी को कैंसर रहा है, तो वंशानुगत कारणों से भी इस बीमारी के होने का खतरा बढ़ जाता है।
  • अगर आप धूम्रपान या मादक पदार्थो का सेवन करती हैं तो भी आपमें कैंसर की आशंका बढ़ जाती है।

इसे भी जरूर पढ़ें : पेट की समस्‍यों से छुटकारा पाने के लिए इन चीजों को प्रतिदिन खाएं

You May also Like

Share Article

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *