कवर स्टोरीगुनाहविदेश

इंडोनेशिया में सुनामी का बरसा कहर, सैकड़ों लोगों की मौत और कई लापता

indonesia tsunami
Share Article

इंडोनेशिया के सुंडा जलडमरु मध्य में शनिवार रात ज्वालामुखी फटने के बाद आई सुनामी की वजह से 281 लोगों की मौत हो गई है. स्थानीय प्रशासन के अनुसार अभी तक 800 से भी ज्यादा लोग लापता हैं. जिनकी तलाश के लिए अभियान चलाए जा रहे हैं.

स्थानीय प्रशासन का कहना है कि जिस वक्त ये सुनामी आई उस वक्त काफी बड़ी संख्या में यहां पर्यटक तटवर्ती इलाके के पास थे. इसी वजह से उन्हें खुद की जान बचाने का ज्यादा समय भी नहीं मिल पाया. इंडोनेशिया प्रशासन ने लोगों की खोज व बचाव का काम तेज कर दिया है.

इंडोनेशिया के मौसम विज्ञान और भूभौतिकी एजेंसी के वैज्ञानिकों ने कहा कि अनाक क्राकाटाओं ज्‍वालामुखी के फटने के बाद समुद्र के नीचे भूस्खलन सुनामी का कारण हो सकता है. उन्होंने लहरों के उफान का कारण पूर्णिमा के चंद्रमा को भी बताया है.

ऐजेंसी ने बताया है कि क्राकाटोआ ज्वालामुखी फटने के बाद शनिवार को रात 09:27 बजे दक्षिणी सुमात्रा और पश्चिमी जावा के पास समुद्र की ऊंची लहरें तटों को तोड़कर आगे बढ़ी जिसकी वजह से अनेकों मकान नष्ट हो गये हैं. इंडोनेशिया की भूगर्भीय एजेंसी सुनामी की असली वजह का पता लगाने मे जुटी है.

फेसबुक पर लिखा, भगवान का शुक्र है हम बच गए

वहीं प्रत्यक्षदर्शियों ने सोशल मीडिया पर सुनामी का मंजर बयां किया है. ओयस्टीन एंडरसन ने फेसबुक पर लिखा है कि लहरों की ऊंचाई 15 से 20 मीटर थी, जिसे देखते ही सभी ने तट से भागना शुरू कर दिया था.  उसने कहां कि वो ज्वालामुखी की तस्वीरें ले रहा था कि अचानक तेज गति से आती एक बड़ी लहर दिखी. मैं अपने परिवार के साथ किसी तरह जंगल और गांव के रास्ते से भागने में कामयाब रहा, फिलहाल कुछ स्थानीय लोग हमारी देखभाल कर रहे हैं, लेकिन शुक्र है कि हम सुरक्षित हैं.

 

 

 

 

 

Sorry! The Author has not filled his profile.
×
Sorry! The Author has not filled his profile.
Share Article

Comment here