कवर स्टोरी-2देशराजनीति

अयोध्या मसला अदालत के बजाये बातचीत से हल होना चाहिए : फारूक अब्दुल्ला

farooq-abadullah
Share Article

farooq-abadullah

नेशनल कांफ्रेंस के अध्यक्ष और जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला का कहना है कि अयोध्या विवाद दोनों पक्षों (हिन्दुओं और मुसलमानों) के बीच बातचीत से हल हो सकता है. इसे अदालत में क्यों  घसीटा जा रहा है? मुझे विश्वास है कि बातचीत के जरिया इसे हल किया जा सकता है. भगवन राम पूरी दुनिया के हैं, केवल हिन्दुओं के नहीं हैं.”

समाचार एजेंसी के हवाले से मिली खबर के मुताबिक फारूक अब्दुल्ला ने यह भी कहा है कि “भगवन राम से किसी को बैर नहीं, और न होना चाहिए. कोशिश करनी चाहिए (मसले को) सुलझाने की और (बात) बनाने की.  जिस दिन यह हो जाएगा मैं भी एक पत्थर लगाने जाऊँगा.”

गौर तलब है की आज ही सुप्रीम कोर्ट ने अयोध्या भूमि विवाद की सुनवाई को 10 जनवरी तक के लिए टाल दिया. इसके अलावा कोर्ट ने रोजाना सुनवाई की मांग को भी खारिज कर दिया है. चीफ जस्टिस रंजन गोगोई और जस्टिस संजय किशन कौल की बेंच से इस मामले में जल्द सुनवाई करने की मांग की गई थी.  इसी बेंच को यह भी फैसला करना था कि इस विवाद को किस बेंच के हलवाले किया जाए.

Sorry! The Author has not filled his profile.
×
Sorry! The Author has not filled his profile.

You May also Like

Share Article

Comment here