जरुर पढेंफिल्म

‘द एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर’ के निर्देशक फंस गए झमेले में, अनुपम खेर ने भी कर दिया था इंकार

accidental prime minister director in difficulty
Share Article

accidental prime minister director in difficulty

भारत के पूर्व प्रधानमंत्री डॉ.मनमोहन सिंह पर आधारित फिल्‍म ‘द एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर’ विवादों में फंसती जा रही है. पहले तो इस फिल्‍म को चुनाव से ठीक पहले रिलीज किए जाने को लेकर विवाद हुआ. फिर मामला 11 जनवरी को ही रिलीज होने जा रही उरी द सर्जिकल स्‍ट्राइक के साथ अटक गया. अब विवादों की इस कड़ी में एक और नई कहानी जुड़ गई है. इस फिल्‍म  के निर्देशक विजय रत्नाकर गुट्टे से जुड़ी कंपनी वीआरजी डिजिटल कॉर्पोरेशन प्राइवेट लिमिटेड पर भारतीय कर कानूनों का उल्लंघन करने का आरोप लगा है. इतना ही नहीं उन पर  ब्रिटेन में भी टैक्स छूट के लिए धोखाधड़ी करने का आरोप लगा है. गौरतलब है कि विजय गुट्टे द्वारा निर्देशित ये पहली फिल्‍म है और इसमें ही इतने विवाद हो रहे हैं.

ब्रिटेन में ब्रिटिश फिल्म संस्थान ही  फिल्म का प्रमाणन करती है. यूके क्रिएटिव इंडस्ट्री टैक्स छूट के तहत, ब्रिटिश सरकार ऐसी योग्य फिल्मों के लिए 25 प्रतिशत तक कर रियायत देती है, जो कि ब्रिटिश फिल्मों के रूप में होती हैं.

इस टैक्स छूट को पाने के लिए, प्रोडक्शन कंपनियों को यूके कॉरपोरेशन टैक्स के दायरे में होना चाहिए और फिल्म निर्माण में हुए कुल खर्च का कम से कम 10 प्रतिशत पैसा यूके में खर्च किया जाना चाहिए. ब्रिटेन (यूके) में किए गए वास्तविक व्यय या कुल फिल्म निर्माण खर्चों में से 80 प्रतिशत, जो भी कम हो, पर टैक्‍स छूट मिलती है.

एक स्थानीय अदालत में डायरेक्टरेट जनरल ऑफ गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स इंटेलिजेंस (डीजीजीएसटीआई) द्वारा दायर एक रिमांड आवेदन में कहा गया है कि वीआरजी डिजिटल कॉरपोरेशन, बॉम्बे कास्टिंग टैलेंट मैनेजमेंट प्राइवेट लिमिटेड (बीसीटीएमपीएल), एक बोहरा ब्रॉस ग्रुप फर्म और होराइजन आउटसोर्स सॉल्यूशंस ने बीसीटीएमपीएल द्वारा द एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर में निवेश किए गए पैसे की अधिक मात्रा दिखाने के लिए हेर फेर करके लेनदेन किया गया है.

बोहरा ब्रदर्स द एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर फिल्म के निर्माताओं में से एक हैं. रिमांड आवेदन के अनुसार ये लेनदेन, कर छूट पाने के लिए ब्रिटिश फिल्म संस्थान को धोखा देने या छलने के लिए किए गया था. लिहाजा डीजीजीएसटीआई ने 2 अगस्त को गुट्टे को गिरफ्तार किया था और वह फिलहाल जमानत पर बाहर है.

इधर भारत में वीआरजी डिजिटल कॉर्पोरेशन पर नकली चालान बनाने का आरोप है, जिसमें होराइजन आउटसोर्स सॉल्यूशन प्राइवेट लिमिटेड से प्राप्त एनीमेशन और मैनपावर सेवाओं के लिए 34 करोड़ रुपये का जीएसटी शामिल है. होराइजन आउटसोर्स सॉल्यूशन प्राइवेट लिमिटेड 170 करोड़ रुपये से ज्यादा की जीएसटी धोखाधड़ी के लिए डीजीएसटीआई की जांच के दायरे में है. इसके अलावा वीआरजी डिजिटल कॉरपोरेशन पर जुलाई 2017 से इन फर्जी चालानों के लिए सीईएनवीएटी (केंद्रीय मूल्य वर्धित कर) क्रेडिट के खिलाफ सरकार से 28 करोड़ रुपये के नकद वापसी का गलत दावा करने का भी आरोप है.

डॉ.मनमोहन सिंह के मीडिया सलाहकार रहे संजय बारू की किताब पर बन रही इस फिल्‍म में मुख्‍य भूमिका अनुपम खेर निभा रहे हैं. उन्‍होंने भी पहले डॉ.मनमोहन सिंह का किरदार निभाने से मना कर दिया था. बकौल अनुपम खेर

पहले मैं मनमोहन सिंह की खूब आलोचना करता था. अन्ना आंदोलन के दौरान मैंने मंच भी शेयर किया था. फिर मैंने सोचा कि क्यों न दोबारा अब मनमोहन सिंह के बारे में बात करूं…जिंदगी में और भी गम हैं मोहब्बत और पॉलिटिक्स के सिवा… फिर एक दिन टीवी पर उन्हें चलते देखा और मेरे अंदर का कलाकार जाग गया. मैंने उनकी चाल में चलने की कोशिश की. मैंने काफी प्रैक्टिस की और स्क्रिप्ट पढ़ी. तब मैंने फिल्म करने के लिए हामी भरी. इस फिल्‍म में अक्षय खन्ना ने सिंह के मीडिया सलाहकार संजय बारू की भूमिका निभाई है.

Sorry! The Author has not filled his profile.
×
Sorry! The Author has not filled his profile.

You May also Like

Share Article

Comment here