चुनावदेशराजनीति

लोकसभा चुनाव:  पहले दलितों को खिचड़ी खिलाई, अब सवर्णों को दिया आरक्षण

upper class reservation
Share Article

upper class reservation

इस साल की दूसरी तिमाही में होने जा रहे लोकसभा चुनावों के लिए मतदाताओं को लुभाने का सिलसिला तेजी से चल पड़ा है. रविवार को भाजपा ने दलित वोट समेटने के लिए दिल्‍ली के रामलीला मैदान में समरसता खिचड़ी पकाई थी और उसके दूसरे दिन ही मोदी सरकार ने सवर्णों को लुभाने के लिए बड़ा ऐलान कर दिया.

सोमवार को हुई कैबिनेट बैठक में मोदी सरकार ने सवर्ण जातियों के लिए 10 फीसदी आरक्षण देने का फैसला लिया  है. बीते दिनों में सरकार के खिलाफ दिखी सवर्णों की नाराजगी को देखते हुए इसे बड़ा फैसला माना जा रहा है. खासकरके हाल ही में तीन हिन्‍दीभाषी राज्‍यों में भाजपा को मिली करारी हार के पीछे सवर्णों की नाराजगी बड़ी वजह रही है. ऐसे में लोकसभा चुनावों से पहले सवर्णों को मनाने में भाजपा कोई कसर नहीं छोड़ना चाहती है.

हालांकि, ये आरक्षण आर्थिक रूप से कमजोर सवर्णों को दिया जाएगा. बता दें कि 2018 में SC/ST एक्ट को लेकर जिस तरह सरकार ने मोदी सरकार ने सुप्रीम कोर्ट का फैसला पलट दिया था, उससे सवर्ण खासा नाराज बताए जा रहे थे. चूंकि संविधान में केवल जातिगत आरक्षण की ही बात कही गई है और मोदी सरकार आर्थिक आधार पर आरक्षण देने जारी है. ऐसे में सरकार को इसे लागू करने के लिए संविधान में भी संशोधन करना होगा. माना जा रहा है कि सरकार इसके लिए जल्द ही संविधान में बदलाव करेगी. इसके लिए संविधान के अनुच्छेद 15 और अनुच्छेद 16 में बदलाव किया जाएगा. दोनों अनुच्छेद में बदलाव कर आर्थिक आधार पर आरक्षण देने का रास्ता साफ हो जाएगा.

यह भी पढें : देखिए, दुनिया की ये सबसे बड़ी राजनैतिक पार्टी पका रही सियासी खिचड़ी लेकिन खाने नहीं आए लोग

Sorry! The Author has not filled his profile.
×
Sorry! The Author has not filled his profile.

You May also Like

Share Article

Comment here