बिहारः सरकार के चहेते सिविल सर्जन

भ्रष्टाचार और विवाद से पूर्णिया सदर अस्पताल का रिश्ता गहराता जा रहा है. यह सिलसिला इसलिए जारी है, क्योंकि सिविल सर्जन राम चरित्र मंडल ख़ुद कई तरह के आरोपों के घेरे में हैं. राज्य सरकार द्वारा नियम-क़ानूनों को ताख पर रखकर मंडल पर की जा रही मेहरबानी शक पैदा करती है.

Read more

बिहारः नकली सरसों के तेल का काला कारोबार

अगर आप सरसों के तेल के प्रति सतर्क नहीं है तो आपकी किडनी कभी भी काम करना बंद कर सकती है और लीवर फेल हो सकता है, क्योंकि बाज़ार में विभिन्न ब्रांडों के नाम से मिलावटी और ज़हरीला तेल बेचा जा रहा है.

Read more

पूर्णिया में चापाकल घोटाला

नीतीश सरकार घोटालों और भ्रष्टाचार मुक्त बिहार बनाने के चाहे लाख दावे पेश कर ले, लेकिन घोटालेबाज व भ्रष्टाचारी अपने कारनामों से बाज नहीं आ रहे हैं. हाल ही में पूर्णिया में भी चापाकल नामक एक घोटाला चर्चा का विषय बना हुआ है. मालूम हो कि पूर्णिया ज़िले के पानी में काफी मात्रा में आयरन है, जिससे यहां के निवासी बीमारी की चपेट में आ रहे हैं

Read more

किशनगंजः गरीबों का अनाज बंगाल की मंडियों में

जहां बिहार की ग़रीब जनता खाने के लिए एक-एक दाने को मोहताज है वहीं किशनगंज में जनवितरण प्रणाली व एसएफसी के ठेकेदार ग़रीब जनता का हक़ मारकर अनाज को कालाबाज़ारी द्वारा किशनगंज से सटे पश्चिम बंगाल के रामपुर व पांजीपाड़ा की मंडियों में पहुंचा रहे हैं.

Read more

सीमांचलः देह के दलदल में फंसी मासूम जिंदगियां

एक ओर जहां पूरे देश में राष्ट्रीय बलिका दिवस मनाया जाता है, वहीं सीमांचल के चंद बे़खौ़फ दलालों द्वारा मासूम नाबालिक लड़कियों से अनैतिक ज़िस्मफरोशी जैसे धंधे करवाकर मानवता को कलंकित और शर्मसार किया जा रहा है.

Read more

केसरी हत्‍याकांडः कई और चेहरे बेनकाब होंगे

भाजपा विधायक राजकिशोर केसरी की हत्या के कारणों को लेकर पूर्णिया सहित पूरे सूबे में अटकलों का दौर जारी है. मुख्यमंत्री ने पूरे मामले की जांच के आदेश दे दिए हैं, जबकि उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने राजकिशोर केसरी को क्लीन चिट देते हुए हत्या को अंजाम देने वाली महिला रूपम पाठक को ब्लैकमेलर कहा.

Read more

खाने के नाम पर जहर

सरकार जनता के कल्याण के लिए चाहे कितनी भी कल्याणकारी योजनाएं चला ले लेकिन हक़ीक़त यही है कि ये सारी योजनाएं सही मायनों में धरातल पर उतरती नज़र नहीं आ रही हैं.

Read more

काम के नाम पर खानापूर्ति

सरकार जनता का जीवन स्तर सुधारने के लिए उन्हें सड़क, पेयजल, बिजली, नाला, पुल जैसी मूलभूत सुविधा देने के लिए चाहे लाख कल्याणकारी योजनाएं बना ले, लेकिन सही मायने में ऐसी योजनाएं उसी के कारिदों की कारस्तानी के कारण पूरी तरह से धरातल पर उतरती नज़र नहीं आ रही है.

Read more

बीमार और खास्ताहाल

बिहार की सबसे बड़ी और सबसे अधिक राजस्व देने वाली गुलाबबाग मंडी नीतीश के शासन में भी बदइंतजामी की मिसाल बनी हुई है. हालत यह है कि लोग गुलाबबाग मंडी जाने के नाम पर नाक-भौंह सिकोड़ने लगते हैं. बिहार सरकार को राजस्व देने के मामले में अव्वल रहने के बावजूद यह मंडी विकास के मामले में का़फी पिछड़ गई है. टूटी सड़कें, जाम, धूल, सड़कों और नालों के अभाव के साथ-साथ अतिक्रमण यहां की पहचान बन गया है. ऐसा नहीं है कि गुलाबबाग के स्थानीय निवासियों व व्यवसायियों ने प्रशासन से लेकर सरकार तक इस संबंध में गुहार नहीं लगाई है. टूटी सड़क व जाम की समस्या को लेकर विगत दिनों गुलाबबाग के लोगों ने बाज़ार बंद किया और सड़क जाम किया. उस समय प्रशासन के आश्वासन पर स्थानीय लोगों ने आंदोलन वापस ले लिया, लेकिन समस्या अभी भी जस की तस है. ऐसा नहीं है कि जाम की समस्या का हल नहीं हो सकती.

Read more

मकई के असली-नकली बीज के चक्कर में पिसते किसान

अच्छी पैदावार के लिए खेतों में पसीना बहाने वाले किसान इस बार मकई की बीज की खरीद को लेकर माथापच्ची कर रहे हैं. दरअसरल नकली बीजों का काला कारोबार करने वालों ने विगत वर्ष किसानों को असली बीज के पैकेट में मक्के के नकली बीज बेंचे, जिससे पैदावार सही नहीं हुई. बैंक व महाजनों से ब्याज पर पैसा लेकर किसानों ने मक्का इस ख्याल से लगाया था कि अच्छी पैदावार होने पर क़र्ज़ अदा हो जाएगा और गृहस्थी की अन्य ज़रूरतें भी पूरी हो जाएंगी, लेकिन उनका सपना पूरा नहीं हो सका. हालांकि इससे पहले भी किसान कई बार ठगी का शिकार हो चुके हैं.

Read more

सीमांचल:पब्लिक को सब मालूम है

अभी बिहारी जनता का मन बदल गया है. वह विकास, शांति और स्वास्थ्य व्यवस्था का अर्थ समझने लगी है. इस बार यहां केमतदाताओं ने खुलकर एनडीए के पक्ष में मतदान किया. लेकिन वहीं किशनगंज में तस्लीम फैक्टर जदयू को फायदा पहुंचाने में नकाम रहा. परिणामस्वरूप किशनगंज की चार सीटों में से किसी पर एनडीए का खाता तक नहीं खुल पाया. जैसा कि चौथी दुनिया ने चुनाव पूर्व सीमांचल की सीटों और रिजल्ट का आकलन किया था, चुनाव परिणाम ठीक इसी के अनुरूप निकला. किशनगंज की चार सीटों में से किशनगंज डॉ. जावेद आजाद, बहादुरगंज तौसीफ आलम, कोचाधामन राजद अख्तरूल ईमान और ठाकुरगंज नौशाद आलम की झोली में गया.

Read more

सीमांचलः बागी पलट सकते हैं बाजी

कहा जाता है कि राजनीति अनिश्चितताओं का खेल है. कब कौन नेता पाला बदल ले या किसी से हाथ मिला ले, इसकी गारंटी कोई नहीं ले सकता. कभी सीमांचल की राजनीति में राजद के अगुवा एवं लालू के प्रबल सहयोगी रहे तस्लीमुद्दीन आज नीतीश के साथ हैं और अपने प्रभाव से पुत्र समेत कई समर्थकों को टिकट दिलाने में कामयाब रहे हैं.

Read more

लॉटरी से कंगाल हो रहे

सुबह होते ही पूर्णिया एवं कोसी इलाक़े में अवैध लॉटरी टिकट की बिक्री शुरू हो जाती है. दलालों के माध्यम से इन टिकटों को सुदूर ग्रामीण इलाक़ों में भी पहुंचा दिया जाता है और इन टिकटों के मोहजाल में फंसकर भोले-भाले ग्रामीण अपना सब कुछ बर्बाद कर रहे हैं.

Read more

किसान की बेहाली कौडि़यों के दाम चाय पत्ती

किशनगंज के चाय उत्पादक किसानों के मामले में सरकार की नीति हवा हवाई साबित हो रही है. आज किशनगंज के चाय उत्पादक किसान बिहार सरकार के उदासीन रवैये के कारण परेशान हैं. वे चाय पत्ती को पश्चिम बंगाल के बिचौलियों के हाथों औने-पौने दामों पर बेचने को विवश हैं.

Read more

बहादुरगंज में शह-मात का खेल शुरू

जैसे-जैसे चुनाव की तारी़ख नज़दीक आती जा रही है, बहादुरगंज विधानसभा क्षेत्र में नेताओं के बीच अपने समर्थकों के साथ चुनावी रणनीति को लेकर शह-मात का खेल शुरू हो गया है. किशनगंज के सबसे संवेदनशील समझे जाने वाले बहादुरगंज विधानसभा से टिकट की दावेदारी को लेकर बाजी ज़मीन से जुड़े नेताओं के हाथ ही लगने वाली है.

Read more

कोचाधामन और अमौर विधानसभा क्षेत्रः कमर कसने लगे प्रत्‍याशी

जैसे-जैसे विधानसभा चुनाव का समय नज़दीक आता जा रहा है, किशनगंज लोकसभा क्षेत्र अंतर्गत कोचाधामन एवं अमौर विधानसभा क्षेत्र से चुनावी समर में कूदने को तैयार भावी प्रत्याशियों के दिलों की धड़कनें ब़ढती जा रही हैं. सभी प्रत्याशी अपने लाव-लश्कर के साथ गांव की पगडंडियों पर जनसंपर्क करते नज़र आ रहे हैं.

Read more

चेक पोस्‍ट के निर्माण की जांच कौन करेगा?

सुशासन सरकार राज्य में सड़कों, पुलों-पुलियों एवं भवनों के गुणवत्तापूर्ण निर्माण के चाहे लाख दावे कर ले, लेकिन पूर्वोत्तर राज्यों को शेष भारत से जोड़ने वाले राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 31 पर बिहार सरकार की परिवहन जांच चौकी के निर्माण में बड़े पैमाने पर अनियमितता बरती जा रही है.

Read more