इराक : क्या था और क्या हो गया

भारतीय मीडिया ग्रुप, जिसमें प्रिंट एवं इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के वरिष्ठ पत्रकार शामिल थे, को हज़रत इमाम हुसैन बोर्ड की ओर

Read more

दूसरों से बेहतर साबित होंगी किरण

किरण बेदी को भाजपा ने अपने मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार बनाया है. बेदी के आने के बाद सच मानिए तो

Read more

मोदी-नवाज की मुलाकात और पाकिस्तानी अख़बार

पाकिस्तान के अख़बारों में मोदी के इस निमंत्रण की काफ़ी सराहना हुई. कराची से प्रकाशित अख़बार जंग ने लिखा कि

Read more

15वीं लोकसभा महिलाओं में निराशा

पंद्रहवीं लोकसभा इस लिहाज़ से काफ़ी महत्वपूर्ण है कि इसकी अध्यक्ष मीरा कुमार हैं. वैसे तो सदन में सोनिया गांधी,

Read more

सरकारी योजनाओं से वंचित मुस्लिम विद्यार्थी

मुसलमानों के विकास के बड़े-बड़े वादे तो खूब किए जाते हैं, लेकिन सच्चाई यह है कि न तो मुस्लिम बच्चों

Read more

थाली पर सियासत

योजना आयोग ने 27 और 33 रुपये से अधिक ख़र्च करने वाले लोगों को अति निर्धन की श्रेणी से बाहर

Read more

सरकार नहीं चाहती मुस्लिमों को आरक्षण मिले

एक बार फिर मुस्लिम आरक्षण को लेकर पूरे देश में विवाद खड़ा हो गया है. कांग्रेस ने उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के समय मुसलमानों को 4.5 फीसदी आरक्षण के रूप में जो लॉलीपॉप दिया था, उसकी सच्चाई उस समय सामने आ गई, जब आंध्र प्रदेश उच्च न्यायालय ने उसे यह कहकर ख़ारिज कर दिया कि यह धर्म की बुनियाद पर है और संविधान के अनुकूल नहीं है.

Read more

बुलंदी की दहलीज़ पर शेखावटी की महिलाएं

राजस्थान के शेखावाटी क्षेत्र के गांवो में सभी छोटे बड़े घरों की दीवारों पर खूबसूरत कलाकृतियों के साथ बेटियों के सम्मान में कुछ पंक्तियां भी लिखी नज़र आती हैं. सड़क के किनारे से गुज़रते हर वाहन, व्यक्ति की नज़र इन घरों की दीवारों पर ज़रूर पड़ती है.

Read more

मोदी से सब डरते हैं : महेश भट्ट

दिल किसी पर क्यों यक़ीन करता है, इसका जवाब देना बहुत मुश्किल है. संजीव की बातों पर यक़ीन इसलिए है, क्योंकि गुजरात में उनके साथ जो हो रहा है, वह पहली बार नहीं हुआ और न आख़िरी बार होगा. 2002 के बाद हमने भाजपा की एलिमीनेशन पॉलिसी देखी है, जिसके द्वारा वहां हर उस व्यक्ति को टारगेट किया जाता है, जो नरेंद्र मोदी के विरुद्ध बोलने का साहस करता है.

Read more

गोपालगढ़ हत्याकांड : लाशें सड़ती रही, लेकिन इंसाफ नहीं मिला – मामले की सच्चाई क्या है

यह भरतपुर का गोपालगढ़ है, जिसकी मस्जिद की दीवार पर गोलियों के निशान हैं. पूरी मस्जिद इस समय छावनी बनी हुई है. पुलिसकर्मी जूता पहने घूम रहे हैं. मस्जिद के मेहराबों और इमाम के नमाज़ पढ़ाने की जगह पर गोलियों के निशान हैं.

Read more

पीछे हूं कहां आपसे रफ्तार में देखें

पाकिस्तान की मशहूर शायरा फ़ातिमा हसन एक अखिल भारतीय मुशायरे में हिस्सा लेने के लिए पिछले दिनों भारत में थीं. इस दौरान चौथी दुनिया (उर्दू) की संपादक वसीम राशिद ने उनसे एक लंबी बातचीत की. पेश हैं मुख्य अंश:

Read more

दिल के दरिया को किसी रोज़ उतर जाना है

पाकिस्तान के मशहूर शायर एवं नाटककार अमजद इस्लाम अमजद पिछले दिनों भारत में थे. वह यहां एक सेमिनार में हिस्सा लेने आए थे. इस दौरान चौथी दुनिया (उर्दू) की संपादक वसीम राशिद ने उनसे एक लंबी बातचीत की.

Read more

मुसलमान अपनी लड़ाई भारतीय नागरिक बनकर लड़ें: मदनी

जमीअत उलेमा-ए-हिंद के महासचिव एवं सांसद महमूद मदनी एक सुलझे हुए नेता हैं. वह स़िर्फ मुस्लिमों की बात नहीं करते, बल्कि पूरे देश के विकास और ख़ुशहाली की बात करते हैं. पिछले दिनों चौथी दुनिया उर्दू की संपादक वसीम राशिद ने विभिन्न मुद्दों पर उनसे एक लंबी बातचीत की.

Read more

अदब के लिए फुर्सत के लम्‍हे निकल आते हैं

महमूद शाम पाकिस्तान के प्रसिद्ध पत्रकार हैं. वह लगभग 48 सालों से पत्रकारिता जगत में सक्रिय हैं. पाकिस्तान के जंग समाचारपत्र के समूह संपादक की हैसियत से उन्होंने काफ़ी चर्चा हासिल की. वह पाकिस्तान के नवाए वक़्त, अख़बार-ए-जहां, मसावात एवं मियार जैसे बड़े समाचारपत्रों से भी जुड़े रहे.

Read more

हमें अपनी जिम्‍मेदारी का एहसास है

बिहार विधानसभा चुनाव के चार चरण संपन्न हो चुके हैं. अभी दो चरणों का मतदान शेष है. विभिन्न राजनीतिक दलों के उम्मीदवार मतदाताओं को लुभाने के हरसंभव प्रयास कर रहे हैं, रात के अंधेरे में लोगों को पैसा देने की भी बात सामने आई है, कई उम्मीदवारों की पृष्ठभूमि आपराधिक है, सभा के दौरान अशोभनीय भाषा का इस्तेमाल जैसे अहम बिंदुओं पर देश के मुख्य चुनाव आयुक्त एस वाई क़ुरैशी से चौथी दुनिया (उर्दू) की संपादक वसीम राशिद ने एक लंबी बातचीत की.

Read more

कश्‍मीरियों के सिर पर गोली मत मारो

पिछले चुनाव के बाद जब उमर अब्दुल्ला ने कश्मीर की सत्ता संभाली थी, तो लोगों ने उनसे बड़ी-बड़ी उम्मीदें लगाई थीं. आम धारणा यही थी कि उमर नई पीढ़ी के हैं, जवान हैं, केंद्र सरकार में मंत्री रहने का अनुभव उनके पास है, इसलिए उनके काम करने का तरीका कुछ अलग होगा.

Read more