कब होगी न्यायालय की अवमानना?

पिछले अंक में हमने आपको आरटीआई के तहत तीसरे पक्ष के बारे में बताया था. हम उम्मीद करते हैं कि

Read more

यह तीसरा मोर्चा नहीं है

जब 14 पार्टियों के 17 नेताओं ने एक दूसरे का हाथ उठाकर यह फोटो खिंचवाई तो वीपी सिंह के राष्ट्रीय

Read more

चार अलग अलग लुक में दिव्या

हाल ही में दिव्या दत्ता नीरज पांडे निर्देशित फिल्म स्पेशल छब्बीस में दिखीं. फिल्म में उनकी छोटी-सी भूमिका ज़रूर थी,

Read more

इंडियन एक्‍सप्रेस की पत्रकारिता- 2

अगर कोई अ़खबार या संपादक किसी के ड्राइंगरूम में ताकने-झांकने लग जाए और गलत एवं काल्पनिक कहानियां प्रकाशित करना शुरू कर दे तो ऐसी पत्रकारिता को कायरतापूर्ण पत्रकारिता ही कहेंगे. हाल में इंडियन एक्सप्रेस ने एक स्टोरी प्रकाशित की थी, जिसका शीर्षक था, सीक्रेट लोकेशन. यह इस अ़खबार में प्रकाशित होने वाले नियमित कॉलम डेल्ही कॉन्फिडेंशियल का एक हिस्सा थी.

Read more

इंडियन एक्सप्रेस की पत्रकारिता – 1

भारतीय सेना की एक यूनिट है टेक्निकल सर्विस डिवीजन (टीडीएस), जो दूसरे देशों में कोवर्ट ऑपरेशन करती है. यह भारत की ऐसी अकेली यूनिट है, जिसके पास खुफिया तरीके से ऑपरेशन करने की क्षमता है. इसे रक्षा मंत्री की सहमति से बनाया गया था, क्योंकि रॉ और आईबी जैसे संगठनों की क्षमता कम हो गई थी. यह इतनी महत्वपूर्ण यूनिट है कि यहां क्या काम होता है, इसका दफ्तर कहां है, कौन-कौन लोग इसमें काम करते हैं आदि सारी जानकारियां गुप्त हैं, टॉप सीक्रेट हैं, लेकिन 16 अगस्त, 2012 को शाम छह बजे एक सफेद रंग की क्वॉलिस गाड़ी टेक्निकल सर्विस डिवीजन के दफ्तर के पास आकर रुकती है, जिससे दो व्यक्ति उतरते हैं. एक व्यक्ति क्वॉलिस के पास खड़े होकर इंतज़ार करने लगता है और दूसरा व्यक्ति यूनिट के अंदर घुस जाता है.

Read more

पटना में राष्ट्रीय सेमिनार का आयोजन : मीडिया की भूमिका पर नज़र

आज राष्ट्रीय या फिर प्रादेशिक स्तर पर उत्पन्न परिस्थिति में मीडिया की भूमिका का़फी महत्वपूर्ण हो गई है. यही वजह है कि सबकी निगाह मीडिया पर लगी हुई है. ऐसे में मीडिया अपनी भूमिका को किस रूप में तथा किस हद तक निभा पा रहा है, इस पर चर्चा के लिए पटना में दो दिवसीय राष्ट्रीय सेमिनार आयोजित किया गया.

Read more

यह सिद्धांत की लड़ाई है

मैं जन्म तिथि मामले में सुप्रीम कोर्ट इसलिए गया, क्योंकि यह सिद्धांत की बात थी. मैंने सुप्रीम कोर्ट में भी यही कहा कि मुझे अपना कार्यकाल नहीं बढ़ाना है. इसमें सुप्रीम कोर्ट ने एक तरह से कोई फैसला नहीं दिया. उन्होंने इसके ऊपर यह कहा कि हमारे पास जो समस्या आई है, उसे हम इस तरीक़े से ले रहे हैं कि जो इनकी आयु है, जो रिकॉर्ड के अंदर है, उसमें हमें कोई दिक्क़त नहीं है और इस पर अटॉर्नी जनरल साहब और सरकार ने जो आदेश दिया है, वह उन्होंने वापस ले लिया है, इसलिए कोई समस्या नहीं बनती.

Read more

भारतीय सेना को बदनाम करने की साजिश का पर्दाफाश

बीते चार अप्रैल को इंडियन एक्सप्रेस के फ्रंट पेज पर पूरे पन्ने की रिपोर्ट छपी, जिसमें देश को बताया गया कि 16 जनवरी को भारतीय सेना ने विद्रोह करने की तैयारी कर ली थी. इस रिपोर्ट से लगा कि भारतीय सेना देश में लोकतांत्रिक व्यवस्था को समाप्त कर फौजी तानाशाही लाना चाहती है. इस रिपोर्ट ने सारे देश में न केवल हलचल पैदा की, बल्कि सेना को लेकर शंका का वातावरण भी पैदा कर दिया. सभी चैनलों पर यह खबर चलने लगी, लेकिन तीन घंटे बीतते-बीतते सा़फ हो गया कि यह रिपोर्ट झूठी है, बकवास है, किसी खास नापाक इरादे से छापी गई है और इसे छपवाने के पीछे एक बड़ा गैंग है, जो हिंदुस्तान में लोकतंत्र को पसंद नहीं करता.

Read more

चौथी दुनिया की रिपोर्ट सच साबित हुई : कोयला घोटाले का सच

चौथी दुनिया ने अप्रैल 2011 में कोयला घोटाले का पर्दा़फाश किया था. उस व़क्त न सीएजी रिपोर्ट आई थी, न किसी ने यह सोचा था कि इतना बड़ा घोटाला भी हो सकता है. उस व़क्त इस घोटाले पर किसी ने विश्वास नहीं किया. जिन्हें विश्वास भी हुआ तो आधा अधूरा हुआ. चौथी दुनिया ने आपसे अप्रैल 2011 में जो बातें कहीं, उस पर वह आज भी अडिग है.

Read more

सर्वश्रेष्ठ पत्र लेखकों का सम्मान

चौथी दुनिया उर्दू में प्रकाशित होने वाले पत्रों में से हर सप्ताह एक सर्वश्रेष्ठ पत्र को पुरस्कृत किया जाता है. पुरस्कार के रूप में उक्त पत्र के लेखक को क़ौमी काउंसिल बराए फ़रोग उर्दू द्वारा एक हज़ार रुपये की पुस्तकें प्रदान की जाती हैं.

Read more

महाराष्ट्र में डी वाई पाटिल ग्रुप की हकीकत शिक्षा का माफिया राज

शिक्षा माफिया. इस देश को नव उदारवाद का एक उपहार. धंधा ऐसा कि हींग लगे न फिटकरी, रंग चोखा आ जाए. और जब भैया हों कोतवाल तो फिर डर कैसा, चाहे जो मर्जी हो, वह कर लो. महाराष्ट्र के शिक्षा जगत में भी सालों से कुछ ऐसा ही हो रहा है. डी वाई पाटिल ग्रुप, एक ऐसा ही नाम है. पेश है, चौथी दुनिया की खास रिपोर्ट.

Read more

आडवाणी जी की रथयात्रा की असली कहानी

नरेंद्र मोदी और राजनाथ सिंह का मानना है कि आडवाणी जी के साथ न संघ है, न पार्टी तथा उनकी उम्र उन्हें अब ज़्यादा काम नहीं करने देगी. दोनों को लगता है कि प्रधानमंत्री पद के संघर्ष में आख़िरी मुक़ाबला उन्हीं के बीच होगा.

Read more

भ्रष्टाचार : सम्प्रभुता पर हमला

सामान्यत: भ्रष्टाचार को एक व्यक्ति के अपराध के रूप में देखा जाता है. इस भ्रष्टाचार से निपटने के लिए कई एजेंसियां भी बनाई गईं. मसलन, हर एक विभाग में विजिलेंस डिपार्टमेंट, केंद्रीय सतर्कता आयोग, केंद्रीय जांच ब्यूरो और उनके समकक्ष विभाग, जो दोषी लोगों के खिला़फ कार्रवाई करते हैं, लेकिन सबसे ब़डा सवाल यहां यह है कि आ़खिर जब कोई मामला सामने आता है तभी इस प्रकार की सक्रियता क्यों दिखाई देती है?

Read more

रंगों की कहानी रंगों की ज़ुबानी

मानव सभ्यता में रंगों का का़फी महत्व रहा है. हर सभ्यता ने रंगों को अपने तरीक़े से अपनाया. दुनिया में रंगों के इस्तेमाल को जानना भी बेहद दिलचस्प है. कई सभ्यताओं को उनके द्वारा इस्तेमाल किए जाने वाले रंगों की वजह से ही पहचाना गया.

Read more

षडयंत्र के साये में इंडियन आर्मी प्रधानमंत्री खामोश क्यों है

जब लेफ्टिनेंट जनरल बिक्रम सिंह कांगो में भारतीय शांति सेना के चीफ थे तो वहां रहे कुछ सिपाहियों और अ़फसरों पर यौन शोषण का आरोप लगा था. इसकी जांच भारतीय सेना कर रही है.

Read more

लोकपाल बिलः यह जनता के साथ धोखा है

सरकार ने लोकपाल बिल का मसौदा तैयार कर लिया है. इस मसौदे की एक रोचक जानकारी-अगर कोई व्यक्ति किसी अधिकारी के खिला़फ शिकायत करता है और वह झूठा निकला तो उसे 2 साल की सज़ा और अगर सही साबित होता है तो भ्रष्ट अधिकारी को मात्र 6 महीने की सज़ा. मतलब यह कि भ्रष्टाचार करने वाले की सज़ा कम और उसे उजागर करने वाले की सज़ा ज़्यादा.

Read more

यूआईडीः यह कार्ड खतरनाक है

वर्ष 1991 में भारत सरकार के वित्त मंत्री ने ऐसा ही कुछ भ्रम फैलाया था कि निजीकरण और उदारीकरण से 2010 तक देश की आर्थिक स्थिति सुधर जाएगी, बेरोज़गारी खत्म हो जाएगी, मूलभूत सुविधा संबंधी सारी समस्याएं खत्म हो जाएंगी और देश विकसित हो जाएगा. वित्त मंत्री साहब अब प्रधानमंत्री बन चुके हैं.

Read more

थल सेनाध्यक्ष के खिलाफ सरकार की साजिश

भारतीय सेना पर लिखने से हमेशा बचा जाता रहा है, क्योंकि सेना ही है जो देश की रक्षा दुश्मनों से करती है, पर पिछले कुछ सालों में सेना में भ्रष्टाचार बढ़ा है. अक्सर खाने के सामान की शिकायतें आती हैं कि वहां घटिया राशन सप्लाई हुआ है. लोग पकड़े भी जाते हैं, सज़ाएं भी होती हैं. सेना में खरीद फरोख्त में लंबा कमीशन चलता है, जिसके अब कई उदाहरण सामने आ चुके हैं. ज़्यादातर मामलों के पीछे राजनेताओं का छुपा हाथ दिखाई दिया है.

Read more

नकली नोट रिजर्व बैंक और सरकार

देश के रिज़र्व बैंक के वाल्ट पर सीबीआई ने छापा डाला. उसे वहां पांच सौ और हज़ार रुपये के नक़ली नोट मिले. वरिष्ठ अधिकारियों से सीबीआई ने पूछताछ भी की.

Read more

चौथी दुनिया को ऑन मोबाइल कम्पनी का नोटिस: हमारे कदम अडिग और इरादे नेक हैं

चौथी दुनिया (11 अप्रैल-17 अप्रैल) के अंक में प्रकाशित कवर स्टोरी (शीर्षक-दूरसंचार विभाग में नए घोटाले का पर्दाफाश राजा का एक और कारनामा) में बीएसएनएल की वैल्यू एडेड सर्विसेज (वीएएस) शाखा में एक घोटाले का खुलासा किया गया था. इस खुलासे के बाद बीएसएनएल वीएएस सर्विसेज देने वाली एक कंपनी ऑन मोबाइल की ओर से एक लॉ फर्म ने चौथी दुनिया के संपादक संतोष भारतीय और संवाददाता शशि शेखर के नाम से एक लीगल नोटिस भेजा है,

Read more

बदलाव के दौर में कांग्रेस खुद को बदले

महाभारत का युद्ध पांडवों ने जीता तो सही, लेकिन इसके लिए उन्होंने कई विवादित दांवों और गंदी चालों का इस्तेमाल भी किया. ऐसा करने के पीछे उनके पास पर्याप्त तर्क थे. चूंकि कौरवों ने उनके साथ बुरा व्यवहार किया था, उन्हें उनके अधिकारों से वंचित कर दिया था और जुआ जैसे खेल में बेईमानी से हराया था. शायद तभी युधिष्ठर ने अश्वथामा के बारे में गुरु द्रोण से झूठ बोला था. अर्जुन ने कर्ण को तब मारा, जब वह अपने रथ के फंसे पहिए को बाहर निकालने की कोशिश कर रहा था. भीम ने दुर्योधन का वध उसकी जंघा पर प्रहार करके किया था, जो युद्ध नियम के विरुद्ध था. और, यह सब कुछ हुआ कृष्ण के निर्देश पर.

Read more

आपके लिए ख़ास लाइटर

ये लाइटर रंग-बिरंगे हैं, जिन पर राशि चिन्ह के साथ उनके अनुमानित मतलब भी लिखे हैं. इसे चाहे आप अपने यूनिक स्टाइल में शामिल करें या प्रियजनों को बतौर तोह़फा दें.

Read more

सेना मुग्ध, जनता क्षुब्ध

पहले ट्यूनीशिया, फिर मिस्र के बाद लीबिया में मोअम्मर गद्दा़फी के तानाशाही शासन के विरुद्ध जन विद्रोह भड़का तो लगा कि अब गद्दा़फी का हश्र भी ट्यूनीशिया और मिस्र के शासकों की तरह होगा, लेकिन यहां की कहानी लगातार बदलती जा रही है.

Read more

ईश्वरीय सेवा के निमित्त

कभी आपने सोचा कि कोई व्यक्ति महात्मा, साधु-संत क्यों बनता है और कोई गृहस्थ व्यापारी, चोर, डाकू, वैज्ञानिक, डॉक्टर या भिखारी क्यों बनता है?

Read more

बजाज की नई डिस्कवर और बाक्सर

देश की दूसरी सबसे बड़ी दोपहिया वाहन निर्माता कंपनी बजाज ऑटो लिमिटेड जल्द ही डिस्कवर का नया मॉडल बाज़ार में पेश करने जा रही है. इसके अलावा कंपनी अपने बंद हो चुके मॉडल बॉक्सर को फिर से बाज़ार में लांच करने की तैयारी में है.

Read more

कमेंटेटर मंदिरा

मंदिरा बेदी क्रिकेट से जुड़े शो की लोकप्रिय होस्ट हैं. शुरुआत में भले ही वह ग्लैमर की वजह से चर्चा में रहीं, लेकिन आज उन्हें क्रिकेट का एक्सपर्ट माना जाता है.

Read more

फुकुशिमा भारत के लिए चेतावनी है

विकिलीक्स खुलासों को भूल जाएं और इससे हुए खुलासे की जांच की मांग को भी भूल जाएं. मामला भारत-अमेरिका न्यूक्लियर समझौते के मुद्दे पर संसद में हुए अत्यंत महत्वपूर्ण मतदान का था. यह मामला हमेशा से एक कूटनीतिक सामरिक गठबंधन का रहा है. इस मौक़े को उस सवाल का जवाब बताया जा रहा था जो भारत की ऊर्जा संबंधी ज़रूरतों को लेकर हमेशा से उठते रहे हैं.

Read more

जिनके लिए यह आख़िरी मौक़ा है

भारत में क्रिकेट अगर धर्म है तो विश्वकप भी महाकुंभ के आयोजन से कम नहीं होता. यह बात स़िर्फ भारत में ही नहीं, दुनिया के लगभग हर देश पर लागू होती है.

Read more

देशी बाजार में लग्जरी कार

इटली की लग्जरी स्पोर्ट्स कार फेरारी बहुत जल्द आधिकारिक तौर पर भारतीय बा़जार में दस्तक दे देगी. इसकी शुरुआत कैलिफोनया, 458 इटैलिया, 599 जीटीबी फियोरानो एवं नवीनतम एफएफ जैसे मॉडलों से होगी.

Read more

पत्रकारिता के अभिमन्यु

कॉलेज के उत्साही शिक्षक डॉ. हरीश अरोड़ा ने बेहद श्रमपूर्वक दो दिन की राष्ट्रीय संगोष्ठी आयोजित की थी. इस संगोष्ठी के अंतिम दिन और अंतिम सत्र में मुझे भी बोलना था.

Read more