चुनाव से ज्यादा महत्वपूर्ण है लोकतंत्र

सर्वशक्तिशाली लोग और सबसे मजबूत पार्टी डर जाए, तो उसका कारण जानने की इच्छा होती है. हमारे लिए सवाल है

Read more

माजिद और मुग़ीस : दो विद्रोहियों की एक कहानी

कश्मीर में हकीकत के कई रूप हैं. यह हकीकत दो युवाओं  द्वारा स्थापित उदाहरण से ज़ाहिर हुई. दोनों युवा अलग-अलग

Read more

क्या ये आत्मविश्वास की भाषा है

अंतिम चरण में भी गुजरात में चुनावी प्रक्रिया जोरो पर है. रोज सत्ता पक्ष और विपक्ष के बीच हर तरह

Read more

हार्दिक की अनुभवहीनता, कांग्रेस का अतिआत्मविश्वास और भाजपा की चिंता

गुजरात में चुनाव अभियान जोरों पर है. यहां घटनाक्रम रोज तेजी से बदल रहे हैं. भाजपा और कांग्रेस एक दूसरे

Read more

कश्मीर में विश्वास बहाली की प्रक्रिया मज़बूत की जानी चाहिए

भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव बढ़ने के कारण पुंछ-रावलकोट के समीप नियंत्रण रेखा के पार बस सेवा और व्यापार

Read more

न्यू इंडिया से तो पुराना इंडिया ही ठीक था

पिछले दिनों उत्तर प्रदेश में नगर निकाय के चुनाव हुए. योगी आदित्यनाथ ने छाती ठोक कर कहा कि वेे सब

Read more

किसान और भूख की बात करना ग़द्दारी नहीं है

आपको 1975 की एक प्रमुख उक्ति याद दिलाना चाहता हूं. देश में आपातकाल लग चुका था. कांग्रेस के अध्यक्ष देवकांत

Read more

चुनाव आयोग की विश्वसनीयता लोकतंत्र के लिए जरूरी है

हिमाचल प्रदेश में 9 नवंबर को चुनाव सम्पन्न हो गए. चुनाव के नतीजों की घोषणा 18 दिसंबर को गुजरात के

Read more

सिस्टम में जनता के द़खल देने का समय आ गया है

देश में सोची-समझी कुछ तकनीक अपनाई जा रही है. यह है लोगों के दिमाग को एक धारा में सोचने की

Read more

विदेशी इंडेक्स पर भरोसा मत कीजिए

पिछले दिनों दो मुख्य बातें समाचारों की सुर्ख़ियों में थी. पहली, 31 अक्टूबर को सरदार वल्लभ भाई पटेल की जयन्ती

Read more

गुजरात चुनाव से जनता के सवाल ग़ायब हैं

गुजरात चुनाव की प्रक्रिया शुरू हो गई है और ओपिनियन पोल आने लगे. ओपिनियन पोल के ऊपर मीडिया में खासकर

Read more

हिन्दू धर्म खुद सेकुलर सोशलिस्ट और डेमोक्रेटिक है

गुजरात और हिमाचल प्रदेश के चुनाव हो रहे हैं. हिमाचल प्रदेश में 9 नवम्बर को और गुजरात में 9 और

Read more

क्या ताजमहल वास्तव में मुसलमान है?

दुनिया के सात आश्चर्यों में से एक ताजमहल फिर से विवाद के केंद्र में है. अपनी पत्नी मुमताज महल की

Read more

गुजरात चुनाव से जनता के सवाल ग़ायब हैं

गुजरात चुनाव की प्रक्रिया शुरू हो गई है और ओपिनियन पोल आने लगे. ओपिनियन पोल के ऊपर मीडिया में खासकर

Read more

हिन्दू धर्म खुद सेकुलर सोशलिस्ट और डेमोक्रेटिक है

गुजरात और हिमाचल प्रदेश के चुनाव हो रहे हैं. हिमाचल प्रदेश में 9 नवम्बर को और गुजरात में 9 और

Read more

सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर अमल न होना लोकतंत्र के लिए भयावह संकेत है

कुछ सवाल ऐसे हैं, जिनका उत्तर कभी नहीं मिलता है. हर दिवाली पर, दिवाली से पहले प्रदूषण स्तर की बात

Read more

राजनाथ सिंह के पांच सी और हमारे पांच डब्ल्यू

एक महीने पहले, 11 सितंबर को, गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने जम्मू और कश्मीर मसले से निपटने के लिए एक

Read more

भाजपा के लिए खतरे की घंटी बज चुकी है

गुजरात चुनाव की खबरों के अलावा देश में कोई बहुत अधिक राजनैतिक हलचल नहीं है. गुजरात में राहुल गांधी का

Read more

अमित शाह जी, अग्निपरीक्षा की जगह साधारण जांच ही करा लीजिए

भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष के साथ बहुत शिक्षाप्रद घटना घटी और यह बहुत बड़ी सीख देती है. सीख ये

Read more

जय शाह मामले में प्रधानमंत्री को कठोर क़दम उठाना चाहिए

पिछले दिनों भाजपा की एक और कमजोरी उजागर हुई. अब तक बहस का मुद्दा विकास दर में गिरावट और मांग

Read more

सरकार काम से ज्यादा प्रचार पर खर्च कर रही है

भारत सरकार एक निश्चित तरीके से काम कर रही है. उसका मानना है कि उसका ये तरीका ही सही है,

Read more

समस्या से बयान पैदा होता है बयान से कोई समस्या नहीं है

देश की आर्थिक स्थिति चिंताजनक है. इसके दो-तीन मूल कारण हैं. एक तो अब ये सर्वविदित हो गया है कि

Read more

यशवंत सिन्हा की चिंताएं जायज़ हैं

ये हमारे दौर के बाप-बेटे की दूसरी कहानी है. यशवंत सिन्हा ने अपनी सीट अपने बेटे जयंत सिन्हा को ये

Read more

स़फेद हाथी साबित होगी बुलेट ट्रेन

क्या बुलेट ट्रेन एक सफेद हाथ साबित होगी या इसके सहारे भारत उन्नत प्रौद्योगिकी के नए युग में दाखिल होगा?

Read more

देश की स्थिति बिगड़ रही है

भारत एक कृषि प्रधान देश है और अगले कई साल तक कृषि प्रधान ही रहेगा. एक नीति, जो पिछली सरकार

Read more

सरकार क़र्ज़मा़फी के नाम पर किसानों के साथ मज़ाक़ कर रही है

ये तो शुरू से मालूम था कि भारतीय जनता पार्टी अभी ही नहीं, अपने पहले अवतार जनसंघ से लेकर मोदी

Read more

कश्मीर का इतिहास : कल्हण बनाम खालिद बशीर अहमद

पूर्व नौकरशाह खालिद बशीर अहमद की किताब कश्मीर: एक्स्पोजिंग द मिथ बिहाइंड नैरेटिव निस्संदेह अपनी तरह की पहली किताब है.

Read more

बदहाल संचार तंत्र से कैसे बनेगा डिजिटल इंडिया

एक बात समझ में नहीं आ रही है. अब हमारी समझ में नहीं आ रही है या सरकार की, ये

Read more

देश एक दुखद दौर से गुज़र रहा है

यह बहुत ही दुखद खबर है कि पत्रकार गौरी लंकेश की उनके बंगलुरू स्थित घर में हत्या कर दी गई.

Read more