हिन्दी की चिंता दुनिया को है लेकिन हम ख़ुद बेख़बर हैं

पिछले दिनों जब पूरा यूरोप फुटबॉल वर्ल्ड कप के बुखार में था, उस दौरान लंदन में था. लंदन की हर

Read more

विपक्ष अपनी ग़लतियों से सीखने के लिए तैयार नहीं है

मुझे नहीं लगता कि विरोधी पक्ष में रहने वाले कोई सीख ले पाएंगे और यही प्रधानमंत्री मोदी और अमित शाह

Read more

शुजात बुखारी का आखिरी कॉलम, फेक न्यू़ज पत्रकारिता की बड़ी चुनौती

आज पत्रकारिता के समक्ष कई प्रकार की चुनौतियां है. ये चुनौतियां सामान्य रूप से तकनीकी विकास के कारण उत्पन्न हो

Read more

उपचुनाव परिणाम: जनता की इस चेतावनी को समझिए

लोकसभा और विधानसभा उपचुनाव के परिणाम सामने आ गए हैं. अभी पिछले हफ्ते हमने चौथी दुनिया की लीड स्टोरी की

Read more

राजनीतिक दलों से लोकलाज और नैतिकता की उम्मीद बेमानी है

वक्त, नैतिकता, नियम-कानून कैसे बदलते हैं, इसका प्रमाण और इसका मनोविज्ञान आज हमारे सामने है. आजादी के बाद देश के

Read more

जनता के सवालों पर बहस की उम्मीद करना बेमानी है

कर्नाटक चुनाव बीत गया. कर्नाटक का कोई भी असल मुद्दा किसी भी भाषण में न भारतीय जनता पार्टी ने उठाया

Read more

अफस्पा: कश्मीर को लेकर ये चुप्पी क्यों?

केंद्र सरकार द्वारा मेघालय से सशस्त्र बल विशेषाधिकार कानून (अफस्पा) को हटाने और अरुणाचल प्रदेश में आठ पुलिस स्टेशनों तक

Read more

जनसमस्याओं के समाधान की इच्छाशक्ति किसी भी राजनीतिक दल में नहीं है

अभी भी देश में ऐसे लोगों की बड़ी संख्या है, जो चुनाव में किस पार्टी ने क्या किया और कौन

Read more

कर्नाटक चुनाव राष्ट्रव्यापी महत्व का चुनाव हो गया है

कर्नाटक का चुनाव भी देश के लिए एक नई सीख लेकर आने वाला है. लगभग सभी लोग मान रहे थे

Read more