इस देश की आशा थे अटल बिहारी वाजपेयी

अटल जी पिछले कई वर्षों से स्थितप्रज्ञ की अवस्था में थे. वे न बोलते थे न सुनते थे, बस उन्होंने

Read more

हम एक मरते हुए समाज में जी रहे हैं

हमारे देश में कुछ स्थितियां ऐसी बन जाती हैं जिनके पीछे कोई तर्क नहीं होता, लेकिन स्थितियां बन जाती हैं.

Read more

भाजपा के सामने विपक्ष नहीं जनता है

2019 आम चुनाव का महाअभियान प्रधानमंत्री मोदी ने शुरू कर दिया है. सारे देश में वो और अमित शाह घूमना

Read more

हिन्दी की चिंता दुनिया को है लेकिन हम ख़ुद बेख़बर हैं

पिछले दिनों जब पूरा यूरोप फुटबॉल वर्ल्ड कप के बुखार में था, उस दौरान लंदन में था. लंदन की हर

Read more

विपक्ष अपनी ग़लतियों से सीखने के लिए तैयार नहीं है

मुझे नहीं लगता कि विरोधी पक्ष में रहने वाले कोई सीख ले पाएंगे और यही प्रधानमंत्री मोदी और अमित शाह

Read more

शुजात बु़खारी सच और साहस भरी पत्रकारिता की मशाल थे

किसी की मौत के बाद, उसकी पहचान उसके लिखे हुए और बोले हुए शब्द ही होते है, जो हमेशा हमारे

Read more

भैय्यू जी महाराज एक महान संत, एक महान समाजसेवी थे

भैय्यू जी महाराज की आत्महत्या इस देश के उन लोगों की कहानी है, जो बड़े लोग होते हैं लेकिन अपने

Read more

देशभक्ति के नाम पर सेना को दरिद्र बना रहे हैं

देश की सेना क्या वाकई सैन्य साजो-सामान और हथियारों के संकट से जूझ रही है. सोशल मीडिया पर इन दिनों

Read more

उपचुनाव परिणाम: जनता की इस चेतावनी को समझिए

लोकसभा और विधानसभा उपचुनाव के परिणाम सामने आ गए हैं. अभी पिछले हफ्ते हमने चौथी दुनिया की लीड स्टोरी की

Read more

क्या भारत एक असुरक्षित राष्ट्र बनना चाहता है!

असम सहित उत्तर पूर्व के सातों राज्य इस समय एक बड़े आंदोलन के दरवाजे पर खड़े हैं. स्वयं असम के

Read more

राजनीतिक दलों से लोकलाज और नैतिकता की उम्मीद बेमानी है

वक्त, नैतिकता, नियम-कानून कैसे बदलते हैं, इसका प्रमाण और इसका मनोविज्ञान आज हमारे सामने है. आजादी के बाद देश के

Read more

जनता के सवालों पर बहस की उम्मीद करना बेमानी है

कर्नाटक चुनाव बीत गया. कर्नाटक का कोई भी असल मुद्दा किसी भी भाषण में न भारतीय जनता पार्टी ने उठाया

Read more

जनसमस्याओं के समाधान की इच्छाशक्ति किसी भी राजनीतिक दल में नहीं है

अभी भी देश में ऐसे लोगों की बड़ी संख्या है, जो चुनाव में किस पार्टी ने क्या किया और कौन

Read more

कर्नाटक चुनाव राष्ट्रव्यापी महत्व का चुनाव हो गया है

कर्नाटक का चुनाव भी देश के लिए एक नई सीख लेकर आने वाला है. लगभग सभी लोग मान रहे थे

Read more

सामाजिक विकृति का समाधान समाज को ही देना है

हमारे देश में सामान्य आदमी की संवेदना मरी हुई प्रतीत हो रही है, खासकर तब, जब वो खुद को धर्म

Read more

अन्ना हजारे के अनशन की अंतर्कथा

देवेंद्र फड़णवीस ने अन्ना को तैयार किया कि अन्ना की मांगों को लेकर प्रधानमंत्री कार्यालय के राज्य मंत्री जितेंद्र सिंह

Read more

जनता से जुड़े सवालों पर आंदोलन से जनता क्यों ग़ायब है

अन्ना की एक व्यक्तिगत कमजोरी जरूर है कि अगर उनके सामने भीड़ नहीं होती है, तो वो बहुत ज्यादा जोश

Read more

एक नए जातीय संघर्ष का संकट सामने खड़ा है

देश में एक बहुत ही दुखद स्थिति पैदा की जा रही है. इसे पैदा करने में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के

Read more

मीडिया ने अपनी पत्रकारीय ज़िम्मेदारी खो दी है

श्रीदेवी का पार्थिव शरीर मुंबई में अंतिम दर्शन के लिए उनके घर के पास एक स्पोट्‌र्स क्लब में रखा गया

Read more

क्या सरकार शांतिपूर्ण किसान आन्दोलन को आन्दोलन नहीं मानती

22 और 23 फरवरी को देश के अधिकतर हिस्सों में किसानों ने शांतिपूर्ण आंदोलन किया. इन शांतिपूर्ण आंदोलन कर रहे

Read more

अन्ना आन्दोलन का स्वागत करना चाहिए

अन्ना हजारे ने घोषणा की है कि वे दिल्ली में 23 मार्च से आंदोलन करेंगे. उनके सभी प्रश्न पुराने हैं.

Read more

हम वर्चुअल वर्ल्ड के चौतरफा हमलों से घिरे हैं

मैं आपकी जिन्दगी से जुड़ी एक बात करने जा रहा हूं. आप स्मार्ट फोन का इस्तेमाल जरूर करते होंगे. पिछले

Read more

कांग्रेस विपक्ष की एकता को महत्व नहीं देती

देश के इतिहास में दो बार ऐसे मौके आए, जब देश के दो बड़े नेताओं ने विपक्ष की गिरती हालत

Read more

भीमा-कोरेगांव आंदोलन दलित पुनर्जागरण की कहानी है

महाराष्ट्र में भीमा कोरेगांव में हुई हिंसा की वारदात ने व्यापक पैमाने पर पांव पसारने शुरू कर दिए हैं. दरअसल

Read more

क्या होगा जब देश के किसान और नौजवान सच समझ जाएंगे

कुछ चीजें कभी सामने नहीं आ पातीं और उन्हें जान-बूझकर सामने न लाने की कोशिश होती है. अब मैं प्रधानमंत्री

Read more

भाजपा और कांग्रेस के लिए गुजरात चुनाव के सबक़

गुजरात के चुनाव परिणामों ने सभी को सीख दी. भारतीय जनता पार्टी खुश है कि उसकी सरकार बन गई और

Read more

राहुल गांधी बड़ी रेखा खींचने का अभ्यास करें

गुजरात चुनाव ने बहुत सी पुरानी परंपराएं समाप्त कर दीं और नई परंपराएं डाल दीं. अब भविष्य में यही परंपराएं

Read more

चुनाव से ज्यादा महत्वपूर्ण है लोकतंत्र

सर्वशक्तिशाली लोग और सबसे मजबूत पार्टी डर जाए, तो उसका कारण जानने की इच्छा होती है. हमारे लिए सवाल है

Read more

हार्दिक की अनुभवहीनता, कांग्रेस का अतिआत्मविश्वास और भाजपा की चिंता

गुजरात में चुनाव अभियान जोरों पर है. यहां घटनाक्रम रोज तेजी से बदल रहे हैं. भाजपा और कांग्रेस एक दूसरे

Read more

गुजरात चुनाव में प्रधानमंत्री की तीस सभाओं के मायने क्या हैं

गुजरात चुनाव लोगों की ज़ुबान पर है. कांग्रेस ने वहां पूरी ताकत झोंक दी है और भाजपा भी अपनी संपूर्ण

Read more