ऑस्ट्रेलिया के स्कूली छात्रों ने पढ़ाया पर्यावरण बचाने का सबक़

ऑस्ट्रेलिया के हजारों स्कूली छात्रों ने 30 दिसम्बर को सडकों पर मार्च किया तथा अपनी अपनी कक्षाओं का बहिस्कार किया.

Read more

अमेज़न वर्षा वनों की कटाई अपनी मौत को दावत देना है

अमेज़न वर्षा वनों को “दुनिया का फेफड़ा” कहते हैं. लेकिन अब इन वनों का अस्तित्व सवालों के घेरे में आ

Read more

2019 में मुद्दा बन सकता है, असली गंगा-पुत्र बनाम नकली गंगा-पुत्र

गंगा की अविरलता व निर्मलता को लेकर लम्बे अनशन के दौरान गंगा पुत्र स्वामी सानंद की हुई मौत के विरोध

Read more

पर्यटकों से वाल्मीकि टाइगर रिज़र्व को गुलज़ार करने की क़वायद

हिमालय की तहलटी में पहाड़, हरेभरे जंगलों व नदियों के बीच अवस्थित वाल्मीकि टाइगर रिजर्व को नए तौर तरीके से

Read more

दिल्ली-एनसीआर में बढ़ते प्रदूषण के कारण फिर आ सकती है ODD-EVEN योजना

अभी तो ढंग से सर्दियों की शुरूआत भी नहीं हुई कि दिल्ली में प्रदूषण अभी से ही बढ़ने लगा है.

Read more

15 वर्ष पुराने डीजल वाहनों के खिलाफ दिल्ली में आज से कार्रवाई

  अब दिल्ली में 15 साल पुराने चल रहे डीज़ल वाहनों के खिलाफ आज से कार्रवाई शुरू होगी. इसके लिए

Read more

सप्ताह के अंत तक दिल्ली समेत 5 राज्यों में तेज बारिश के आसार

मौसम विभाग के अनुसार सप्ताह के अंत में फिर मौसम का मिजाज़ बदल सकता है. मौसम विभाग ने पूर्वानुमान जारी

Read more

मौसम विभाग का पूर्वानुमान, लगातार तीसरे साल सामान्य रहेगा मानसून

मौसम विभाग की तरफ से जारी किए गए पूर्वानुमान के मुताबिक, इस साल जून से सितंबर के दौरान 97% बारिश

Read more

नर्मदा सरदार सरोवर बांध विस्थापितों की मांग: विस्थापन मंजूर पर पहले हो पुनर्वास

नर्मदा आंदोलन ने पर्यावरण तथा विकास के मुद्दों को राष्ट्रीय स्तर पर चर्चा का विषय बना दिया है. सुप्रीम कोर्ट

Read more

गर्मी को लेकर अलर्ट जारी, इस साल मार्च महीने से ही झेलने पड़ेंगे लू के थपेड़े

अभी मार्च का महीना समाप्त होने को है और गर्मी का कहर दिखाई देने लगा है. मार्च के महीने में

Read more

दिल्ली को प्रदूषण मुक्त बनाने के लिए अरविंद केजरीवाल का प्लान ‘JET’

नई दिल्ली (ब्यूरो, चौथी दुनिया) : राजधानी में पारा गिरते ही प्रदूषण की समस्या बढ़ जाती है। पिछले साल अरविंद

Read more

स्मॉग: अस्थमा और एलर्जी के मरीजों में इजाफा, खुद को रखें ध्यान

नई दिल्ली (ब्यूरो, चौथी दुनिया): दीवाली के बाद से दिल्ली एक गैस के चैंबर में तब्दील होती जा रही है।

Read more

कश्मीर घाटी में पर्यटक सीज़न ख़तरे में…

  अफ़ज़ल की फांसी के बाद यहां काफी फ़र्क़ पड़ा है. दरअसल, मार्च और अप्रैल के पर्यटन सीज़न को बहुत

Read more

जल, जंगल और ज़मीन बचाने में जुटे आदिवासी

आदिवासियों की पहचान जल, जंगल और ज़मीन से ज़रूर है, लेकिन प्राकृतिक संसाधनों के अत्यधिक दोहन के कारण उन्हें इन

Read more

किसानो की मांग समर्थन मूल्य नहीं लाभकारी मांग चाहिए

खुदरा बाज़ार में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश को केंद्र सरकार भले ही किसानों की भलाई के लिए उठाया गया क़दम मानती

Read more

सीमेंट कारखानों के लिए भूमि अधिग्रहण : किसान आखिरी दम तक संघर्ष करें

देश में जब भी भूमि अधिग्रहण की बात होती है, तो सरकार का इशारा आम आदमी और किसान की तऱफ होता है. आज़ादी के बाद से दस करोड़ लोग भूमि अधिग्रहण की वजह से विस्थापित हुए हैं. अपनी माटी से अलग होने वालों में कोई पूंजीपति वर्ग नहीं होता. विकास की क़ीमत हमेशा आम आदमी को ही चुकानी पड़ी है. जिनके पास धन है, वे दिल्ली और मुंबई जैसे महानगरों में अपने मनमाफिक मकान ख़रीद सकते हैं, लेकिन वह आम आदमी, जिसके पास अपनी जीविका और रहने के लिए ज़मीन का एक छोटा सा टुकड़ा है, उसे बेचकर आख़िर वह कहां जाएगा? ऐसे कई ज्वलंत सवालों पर पेश है चौथी दुनिया की यह ख़ास रिपोर्ट…

Read more

यूपीए सरकार का नया कारनामा : किसान कर्ज माफी घोटाला

आने वाले दिनों में यूपीए सरकार की फिर से किरकिरी होने वाली है. 52,000 करोड़ रुपये का नया घोटाला सामने आया है. इस घोटाले में ग़रीब किसानों के नाम पर पैसों की बंदरबांट हुई है. किसाऩों के ऋण मा़फ करने वाली स्कीम में गड़बड़ी पाई गई है. इस स्कीम का फायदा उन लोगों ने उठाया, जो पात्र नहीं थे. इस स्कीम से ग़रीब किसानों को फायदा नहीं मिला. आश्चर्य इस बात का है कि इस स्कीम का सबसे ज़्यादा फायदा उन राज्यों को हुआ, जहां कांग्रेस को 2009 के लोकसभा चुनाव में ज़्यादा सीटें मिली. इस स्कीम में सबसे ज़्यादा खर्च उन राज्यों में हुआ, जहां कांग्रेस या यूपीए की सरकार है.

Read more

सरकार जवाब दे यह देश किसका है

हाल में देश में हुए बदलावों ने एक आधारभूत सवाल पूछने के लिए मजबूर कर दिया है. सवाल है कि आखिर यह देश किसका है? सरकार द्वारा देश के लिए बनाई गई आर्थिक नीतियां और राजनीतिक वातावरण समाज के किस वर्ग के लोगों के फायदे के लिए होनी चाहिए? लाजिमी जवाब होगा कि सरकार को हर वर्ग का ख्याल रखना चाहिए. आज भी देश के साठ प्रतिशत लोग खेती पर निर्भर हैं. मुख्य रूप से सरकारी और निजी क्षेत्र में काम कर रहा संगठित मज़दूर वर्ग भी महत्वपूर्ण है.

Read more

एक अफसर का खुलासाः ऐसे लूटा जाता है जनता का पैसा

महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री एवं शरद पवार के भतीजे अजीत पवार ने अपने पद से इस्ती़फा दे दिया है. हालांकि उनके इस्ती़फे के बाद राज्य में सियासी भूचाल पैदा हो गया है. अजीत पवार पर आरोप है कि जल संसाधन मंत्री के रूप में उन्होंने लगभग 38 सिंचाई परियोजनाओं को अवैध तरीक़े से म़ंजूरी दी और उसके बजट को मनमाने ढंग से बढ़ाया. इस बीच सीएजी ने महाराष्ट्र में सिंचाई घोटाले की जांच शुरू कर दी है.

Read more

सीमेंट फैक्ट्रियों के लिए भूमि अधिग्रहणः खूनी मैदान में तब्‍दील हो सकता है नवलगढ़

करीब पांच दशक पहले तत्कालीन प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू ने 2 अक्टूबर, 1959 को जिस राजस्थान के नागौर ज़िले में पंचायती राज का शुभारंभ किया था, उसी सूबे की पंचायतों और ग्राम सभाओं की उपेक्षा होना यह साबित करता है कि ग्राम स्वराज का जो सपना महात्मा गांधी और डॉक्टर राम मनोहर लोहिया ने देखा था, वह आज़ादी के 65 वर्षों बाद भी साकार नहीं हो सका.

Read more

शेखावटी- जैविक खेती : …और कारवां बनता जा रहा है

पंजाब में नहरों का जाल है. गुजरात और महाराष्ट्र विकसित राज्य की श्रेणी में हैं. बावजूद इसके यहां के किसानों को आत्महत्या करनी प़डती है. इसके मुक़ाबले राजस्थान का शेखावाटी एक कम विकसित क्षेत्र है. पानी की कमी और रेतीली ज़मीन होने के बाद भी यहां के किसानों को देखकर एक आम आदमी के मन में भी खेती का पेशा अपनाने की इच्छा जागृत होती है, तो इसके पीछे ज़रूर कोई न कोई ठोस वजह होगी. आखिर क्या है वह वजह, जानिए इस रिपोर्ट में:

Read more

जनता को चिढ़ाइए मत, जनता से डरिए

शायद सरकारें कभी नहीं समझेंगी कि उनके अनसुनेपन का या उनकी असंवेदनशीलता का लोगों पर क्या असर पड़ता है. फिर चाहे वह सरकार दिल्ली की हो या चाहे वह सरकार मध्य प्रदेश की हो या फिर वह सरकार तमिलनाडु की हो. कश्मीर में हम कश्मीर की राज्य सरकार की बात इसलिए नहीं कर सकते, क्योंकि कश्मीर की राज्य सरकार का कहना है कि वह जो कहती है केंद्र सरकार के कहने पर कहती है, और जो करती है वह केंद्र सरकार के करने पर करती है.

Read more