परद्रव्येषु आत्मवत्‌

बचपन में पढ़ाया जाता था परद्रव्येषु लोष्टवत. पर दारेषु मातृवत तो निरर्थक होता जा रहा है. मोदी जी के आने

Read more

युवाओं से वरिष्ठों को परहेज

पिछले दिनों दिल्ली में दो दिनों का युवा साहित्यकार सम्मेलन – युवा 2016 संपन्न हुआ. ये आयोजन रजा फाउंडेशन और

Read more

प्रगतिशीलता के नाम पर फासीवाद

कोलकाता में एक बार फिर प्रगतिशीलता को लेकर भ्रम की स्थिति बनी रही और इस कथित प्रगतिशीलता ने एक बार

Read more

अराजकता का लाइसेंस नहीं स्वायत्तता

समकालीन भारतीय साहित्य इन दिनों संघर्ष, विरोध, प्रतिरोध, प्रदर्शन, प्रति प्रदर्शन, पुरस्कार वापसी आदि जैसे शब्दों से गूंज रहा है.

Read more

यश-भारती के यश पर सवाल

उत्तर प्रदेश के समाजवादी कुनबे में कलह जारी है. सियासत से लेकर अंतःपुर में खेले जाने वाले दांव-पेंच पर पूरे

Read more

पुरस्कार वापसी का पुरस्कार पार्ट-2

चंद दिनों पहले विश्‍व कविता समारोह के आयोजन के हवाले से पुरस्कार वापसी का पुरस्कार शीर्षक से इस स्तंभ में

Read more

जंगल के बीच साहित्यिक विमर्श

विजयादशमी का दिन, जिम कॉर्बेट का विशाल जंगली इलाका और साहित्य पर मंथन करने जुटे करीब डेढ़ सौ लेखक-पत्रकार-कवि और

Read more

पहचान के संकट से जूझता कला केंद्र

दिल्ली में इस बात को लेकर अर्से से शोर मच रहा है कि यहां साहित्य और कला प्रेमियों के लिए

Read more

अपने रहमतल्लिल आलमीन को जानिए : मुहम्मद साहब की जीवनी पर एक नई किताब

पैग़म्बर-ए-इस्लाम हज़रत मुहम्मद साहब के जीवनी पर अनगिनत किताबें लिखी जा चुकी हैं. लेकिन इस विषय पर एक ऐसी किताब

Read more