रद्द आयोजनों पर स़फाई

बिहार में विश्व कविता समारोह का प्रस्तावित आयोजन और उसमें अशोक वाजपेयी की केंद्रीय भूमिका लंबे समय तक साहित्य जगत

Read more

स्वार्थसिद्धि से संकल्पसिद्धि की ओर

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी राजनीति में भी अपने गैरपारंपरिक तौर तरीकों से चौंकाते रहे हैं. राजनीति से इतर भी जब वो

Read more

साहित्यकार, सिनेमा और संशय

इस वक्त साहित्यिक हलके में ये खबर आम हो रही है कि मशहूर अंग्रेजी लेखक अमिष त्रिपाठी की बेस्टसेलर किताब

Read more

जौहर की आत्मकथा से खुले राज़

जब 2001 में करण जौहर की फिल्म ‘कभी खुशी कभी गम’ रिलीज होने वाली थी, तो उस वक्त करण जौहर

Read more

Book Review : सभी धर्मों को सम्मान व चन्दा देता था औरंगज़ेब

नई दिल्ली :  जब मैं इलाहाबाद नगरपालिका का चेयरमैन था (1948 ई. से 1953 ई. तक) तो मेरे सामने दाखिल-खारिज

Read more

कालिदाससंस्थानम्‌ – संस्कृत को भारत की राष्ट्रभाषा का दर्जा दिया जाना चाहिए : जोशी

कालिदाससंस्थान्‌म वाराणसी के अध्यक्ष प्रो. रेवा प्रसाद द्विवेदी तथा प्रो. सदाशिव कुमार द्विवेदी द्वारा सम्पादित ‘अलंकारशास्त्रागम्‌’ नामक महत्वपूर्ण ग्रन्थ का

Read more

तू पंत मैं निराला की जकड़न में साहित्य

काफी दिनों के बाद दिल्ली के साहित्य अकादमी जाना हुआ, वहां हिंदी के एक वरिष्ठ आलोचक से मुलाकात हुई. बातें

Read more

साहित्य, संस्कृति और कला का मिलाप

उस दिन मुंबई के मरीन ड्राइव पर सुबह टहलनेवालों का जमावड़ा लगा था तो किसी को यह अंदाजा नहीं था

Read more

जश्न-ए-रेख्ता : उर्दू पुनरुत्थान आंदोलन में मील का पत्थर है

उर्दू का जश्न मनाने के लिए आयोजित तीन दिवसीय जश्न-ए-रेख्ता के समापन पर प्रतिभागी इतने प्रभावित हुए कि उन्हें लगा

Read more

बिछड़े सभी बारी-बारी

हिंदी साहित्य में फेसबुक अब एक अनिवार्य तत्व की तरह उपस्थित है. कई साहित्यकार इस माध्यम को लेकर खासे उत्साहित

Read more

मोदी जी का चित्र परिवर्तन

आज खादी ग्रामउद्योग के कलैंडर और डायरी से सरकार द्वारा गांधी जी को विदा कर दिया गया. इस गोपनीय विदाई

Read more

परद्रव्येषु आत्मवत्‌

बचपन में पढ़ाया जाता था परद्रव्येषु लोष्टवत. पर दारेषु मातृवत तो निरर्थक होता जा रहा है. मोदी जी के आने

Read more

युवाओं से वरिष्ठों को परहेज

पिछले दिनों दिल्ली में दो दिनों का युवा साहित्यकार सम्मेलन – युवा 2016 संपन्न हुआ. ये आयोजन रजा फाउंडेशन और

Read more

प्रगतिशीलता के नाम पर फासीवाद

कोलकाता में एक बार फिर प्रगतिशीलता को लेकर भ्रम की स्थिति बनी रही और इस कथित प्रगतिशीलता ने एक बार

Read more