दिल्ली से लंदन तक गूंज रहा: कबड्डी कबड्डी कबड्डी

प्रो कबड्डी लीग की शुरुआत क्या हुई, भारत के गांव-देहात का खेल माने जाने वाला कबड्डी दिल्ली से लंदन तक धूम

Read more

जड़ों की खोज का अनूठा प्रयास

अपनी जड़ों की खोज में निकली एक नवजवान गुयानीज़-अमेरिकी महिला पत्रकार गायत्रा बहादुर की साधारण और व्यक्तिगत भारत यात्रा एक

Read more

विवाद का बेवजह कोना

मशहूर अमेरिकी लेखिका एवं शिकागो विश्‍वविद्यालय में इतिहास और धर्म में प्रोफेसर वेंडी डोनिगर की किताब-द हिंदूज, एन अल्टरनेटिव हिस्ट्री

Read more

अंतराष्ट्रीय सहकारिता वर्ष 2012 सशक्‍त कृषि नीति बनाने की जरूरत

संसद द्वारा सहकारिता समितियों के सशक्तिकरण के लिए संविधान संशोधन (111) विधेयक 2009 को मंज़ूरी मिलने के बाद भारत की सहकारी संस्थाएं पहले से ज़्यादा स्वतंत्र और मज़बूत हो जाएंगी. विधेयक पारित होने के बाद निश्चित तौर पर देश की लाखों सहकारी समितियों को भी पंचायतीराज की तरह स्वायत्त अधिकार मिल जाएगा. हालांकि इस मामले में केंद्र एवं राज्य सरकारों को अभी कुछ और पहल करने की ज़रूरत है, ख़ासकर वित्तीय अधिकारों और राज्यों की सहकारी समितियों में एक समान क़ानून को लेकर.

Read more

मूंछ के लिए कुछ भी करेगा

मूंछ नहीं तो कुछ नहीं और मूंछ के लिए कुछ भी करेंगे. कुछ ऐसा ही मानना उन अमेरिकी लोगों का है, जो मूंछ की खातिर अपने देश के राष्ट्रपति से दो-दो हाथ करने को तैयार हैं. मूछें हों तो नत्थू लाल जैसी, वरना न हों. मूछों की बात सुनते ही हिंदी फिल्म का यह मशहूर डॉयलाग याद आ जाता है.

Read more

कुत्ते लिफ्ट में जाएंगे

आजकल हर इंसान में मोटापा ब़डी समस्या है. उनको सीढ़ियों से चढ़ने उतरने में सुविधा देने और समय की बचत को ध्यान में रखते हुए लिफ्ट का इस्तेमाल शुरू होने लगा. अब तो हर जगह लिफ्ट होती है, लेकिन अब कुत्तों में भी बढ़ती चर्बी एक समस्या बन गई है.

Read more

समांथा की ख़्वाहिश

इस वर्ष अमेरिकी ओपन का एकल खिताब जीतने वाली आस्ट्रेलिया की सर्वोच्च वरीयता प्राप्त महिला टेनिस स्टार समांथा स्टोसुर ने आगामी आस्ट्रेलियन ओपन में अच्छे प्रदर्शन की उम्मीद जताई है. एक समाचार पत्र के मुताबिक़, स्टोसुर को इस बात का यक़ीन है कि वह घरेलू माहौल का फायदा उठाकर आस्ट्रेलियन ओपन का खिताब जीतने में सफल रहेंगी.

Read more

बालश्रम खत्म किया जा सकता है

भारत में 14 साल तक के बच्चों की आबादी पूरी अमेरिकी आबादी से भी ज़्यादा है. कुल श्रम शक्ति का लगभग 3.6 फीसदी हिस्सा 14 साल से कम उम्र के बच्चों का है. प्रत्येक दस बच्चों में से 9 काम करते हैं. ये बच्चे लगभग 85 फीसदी पारंपरिक कृषि गतिविधियों में कार्यरत हैं, जबकि 9 फीसदी से कम उत्पादन, सेवा और मरम्मती कार्यों में लगे हैं.

Read more

कुत्तों की त्रासदी

इस बात से तो सभी वाक़ि़फ हैं कि कुत्ते इंसान से भी अधिक संवेदनशील होते हैं, लेकिन आप इस बात से वाक़ि़फ नहीं होंगे कि वे मानसिक रोग के भी शिकार हो जाते हैं. युद्ध प्रभावित इराक और अ़फग़ानिस्तान में अमेरिकी सेना के साथ तैनात कुत्ते युद्ध की भयावह यादों से संबंधित विकृति का शिकार हो रहे हैं.

Read more

जी-20 आईएमएफ की भूमिका बढ़ानी होगी

ग्रीस की आर्थिक बदहाली ने यूरोपीय देशों की परेशानी बढ़ा दी है. यूरो जोन के देश आर्थिक संकट के दौर से गुजर रहे हैं. अमेरिकी वित्तीय संकट से विश्व पूरी तरह उबर भी नहीं पाया कि एक और वित्तीय संकट ने दरवाजे पर दस्तक दे दी.

Read more

भारतीय राजनीति का खालीपन

पिछले साल दीवाली के समय अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा भारत आए थे. ओबामा के जाने के आधे घंटे के भीतर महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री अशोक चव्हाण को आदर्श हाउसिंग घोटाले में संलिप्तता के कारण त्यागपत्र देना पड़ा.

Read more

पाकिस्तान और अमेरिका: बनते-बिगड़ते संबंध

हक्कानी नेटवर्क के साथ पाकिस्तान के संबंधों पर अमेरिकी सैन्य अधिकारी एडमिरल माइक मुलेन की टिप्पणी के बाद दोनों देशों के बीच तनाव बढ़ गया था. दोनों देशों के अधिकारियों एवं राजनीतिक नेतृत्व ने एक-दूसरे के विरुद्ध बयानबाज़ी की थी

Read more

जोकोविच ख़ुश, नडाल निराश

नोवाक जोकोविच ने पिछले चैंपियन रफेल नडाल को हराकर नंबर वन की कुर्सी पर क़ब्ज़ा कर लिया है. पिछले दिनों हुए अमेरिकी ओपन टेनिस के पुरुष सिंगल्स फाइनल में 6-4, 6-2, 6-7, 6-1 से नडाल को हराकर उन्होंने यह खिताब जीता. जोकोविच की यह जीत इसलिए भी काबिलेतारी़फ है कि उन्होंने पीठ की तकलीफ दरकिनार कर खिताब जीता.

Read more

युवाओं को सड़क पर उतरना होगा

संसद में नोट फॉर वोट का मामला फिर से इसलिए गरमाया, क्योंकि विकीलीक्स ने अमेरिकी राजनयिक के एक संदेश को सार्वजनिक कर दिया. संसद में न्यूक्लियर डील को लेकर विवाद चल रहा था.

Read more

अमेरिकी युद्ध अब पाकिस्‍तान में?

पिछले दस सालों के इतिहास का अवलोकन किया जाए तो यह बात स्पष्ट हो जाती है कि अगर पाकिस्तान की ओर से बिना शर्त सहयोग न मिलता और खुफिया जानकारियां मुहैय्या न कराई गई होतीं तो अमेरिका को हरगिज़ यह साहस न होता कि वह अ़फग़ानिस्तान में अपनी सेना दाख़िल कर सके.

Read more

नेतृत्‍वाविहीन अमेरिकी मुस्लिम समुदाय

यह अब एक रूटीन सा बन गया है और हमें इसकी आदत सी हो गई है. जैसे ही अमेरिकी मीडिया में किसी आतंकी वारदात या गिरफ्तारी की खबर आती है, इस्लामिक सोसाइटी ऑफ नॉर्थ अमेरिका, मुस्लिम पब्लिक अफेयर्स काउंसिल और काउंसिल ऑफ अमेरिकन इस्लामिक रिलेशंस जैसे संगठनों की पब्लिक रिलेशंस शाखा की गतिविधियां बढ़ जाती हैं.

Read more

हैलो शशि मोदी, ललित थरूर से मिलिए

शशि थरूर के करियर पर नज़र डालें तो इसमें विरोधाभासों की कोई कमी नहीं है. चार साल पहले थरूर संयुक्त राष्ट्र के महासचिव पद के लिए मनमोहन सिंह के चुने हुए उम्मीदवार थे. कूटनीति के क्षेत्र में दुनिया भर में सबसे प्रतिष्ठित माने जाने वाले इस पद के लिए उनकी उम्मीदवारी को लेकर विदेश मंत्रालय ने प्रधानमंत्री को मना किया था, क्योंकि थरूर के जीतने की संभावना नहीं के बराबर थी, फिर भी मनमोहन अपने फैसले पर क़ायम रहे.

Read more

पाकिस्तान अपना नज़रिया बदले

पाकिस्तान की राजधानी इस्लामाबाद में सड़कों के किनारे नज़र आते पोस्टर्स और टेलीविज़न चैनलों पर प्रसारित किए जा रहे विज्ञापनों में पिछले दो साल के दौरान सरकार की उपलब्धियों को गिनाया जा रहा है. सरकार द्वारा प्रायोजित इन विज्ञापनों में इसकी तथाकथित कामयाबियों को ख़ूब ब़ढा-च़ढाकर पेश किया जा रहा है.

Read more

सरकार फिर जनता के खिला़फ

बजट सत्र के पूर्वार्ध में लोकसभा में परमाणु दायित्व विधेयक (न्यूक्लियर लाइबिलिटी बिल) आना था, लेकिन विरोधी दल के सदस्यों के दबाव की वजह से यह संभव नहीं हो पाया. अ़खबारों में यह खबर पहले छप गई, जिसकी वजह से संसद सदस्यों को लगा कि उन्हें इसका विरोध करना चाहिए.

Read more

हैती: बदहाल स्‍वास्‍थ्‍य सेवाओं के लिए जिम्‍मेदार कौन?

तऱक्की का मापदंड अगर स्वास्थ्य को माना जाए तो कैरेबियाई देश हैती इस मामले में सबसे निचले पायदान पर होगा. यह विकासशील देशों का एक दुखद पहलू है, जो सा़फ करता है कि विकासशील मुल्क खाद्य सुरक्षा और स्वास्थ्य का अधिकार खोते जा रहे हैं.

Read more

अफ़ग़ानिस्तान, तालिबान और अमेरिका

इससे ज़्यादा स्पष्ट और कुछ नहीं हो सकता है कि अ़फग़ानिस्तान में मौजूद विदेशी सेनाओं के अपने-अपने हितों और परिस्थितियों के बीच एक चौड़ी खाई है. हालांकि अमेरिकी अधिकारी कह चुके हैं कि अ़फग़ानिस्तान से सेना को हटाने के बारे में ओबामा प्रशासन द्वारा अंतिम निर्णय लिया जाना अभी बाक़ी है.

Read more