बंद हो गया इलाहाबाद में स्नानघाटों और शवदाह गृहों का निर्माण

ढिंढोरे से नहीं होती स़फाई , अर्धकुंभ से पहले गंगा-यमुना को प्रदूषण-मुक्त करने का लक्ष्य अधर में प्रचारतंत्र और ढींढोरेबाजी से

Read more

यूपी की स्कूली शिक्षा में कहीं सैकड़ों करोड़ का टेंडर घोटाला तो कहीं ड्रेस घोटाला, पढ़ाई में घोटाला

यूपी बेसिक एजुकेशनल प्रिंटर्स एसोसिएशन के मुताबिक बेसिक शिक्षा विभाग की कक्षा एक से आठ तक की पाठ्य-पुस्तकों के मुद्रण

Read more

गंगा सफाई को लेकर केंद्र सरकार को सूझ नहीं रहा कोई ठोस जवाब : आंकड़े ही आंकड़े दे रहे हैं बांकुड़े!

गंगा की सफाई को लेकर अजीबोगरीब आंकड़े सामने आ रहे हैं. इन आंकड़ों से गंगा की सफाई के प्रति प्रधानमंत्री

Read more

स्मार्ट सिटी में शामिल हुआ लखनऊ, वाराणसी समेत यूपी के 13 और शहर होंगे स्मार्ट : स्मार्ट सिटी बनाम स्मार्ट पॉलिटी

2017 के विधानसभा चुनाव में प्रवेश करते हुए उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ का स्मार्ट सिटी के रूप में बदलने

Read more

सूर्यकांत त्रिपाठी निराला : आदर्शों और सिद्घांतों से कभी समझौता नहीं किया

निराला जैसे व्यक्तित्व सिर्फ एक बार पैदा होते हैं. उन्होंने अपने संपूर्ण जीवन में न केवल परिस्थितियों से लोहा लिया,

Read more

एक संन्यासिनी कवयित्री महादेवी वर्मा

बीसवीं सदी की सर्वाधिक लोकप्रिय महिला साहित्यकार महादेवी वर्मा हिंदी साहित्य में धुव्र तारे की तरह प्रकाशमान हैं. वह एक

Read more

न्यायपालिका के कठघरे में नौकरशाही : क्या अब अधिकारी सुधरेंगे?

अदालत के सख्त रुख़ ने उत्तर प्रदेश के उन नौकरशाहों के होश उड़ा दिए हैं, जो अपने कर्तव्यों की न

Read more

आम आदमी और न्यायपालिका

आज हर कोई न्यायपालिका के उत्तरदायित्व की बात कर रहा है. यानी न्यायपालिका से जुड़े हर एक तंत्र को उत्तरदायी कैसे बनाया जा सके. जज इंक्वायरी एक्ट विधेयक में संशोधन की बात चल रही है, जिसमें राष्ट्रीय न्यायिक परिषद गठित करने की बात है, जो आरोपों के घेरे में आए जजों के ख़िला़फ जांच कर सके.

Read more

यह परीक्षा की घड़ी है

ऐतिहासिक घटनाएं चुनौतियां लेकर आती हैं. बाबरी मस्जिद-राम जन्मभूमि विवाद आज़ाद भारत की पहली ऐसी घटना है, जिसने हमारी राष्ट्रीयता और धर्म निरपेक्षता को एक साथ चुनौती दी है. साठ साल से चल रहे विवाद की सुनवाई खत्म हो गई है. अब फैसले का व़क्त आया है. हालांकि यह भी तय है कि फैसला आते ही मामला सुप्रीमकोर्ट पहुंच जाएगा.

Read more

पुस्‍तक अंश: मुन्‍नी मोबाइल- 32

आनंद विचारों को झटक देना चाहते थे, पर ऐसा उनके साथ कई बार नहीं हो पाता. ख़ासकर इलाहाबाद उनके लिए यादों का शहर रहता है हर बार. विश्वविद्यालय परिसर ही नहीं, कभी-कभी इस शहर का हर कोना उन्हें मानसी के बिना अधूरा-अधूरा लगता. वह कहीं भी जाते, मानसी का वजूद उनका पीछा करता.

Read more

गरीबों के रहनुमा थे वीपी सिंह

जब सामाजिक जीवन विचार केंद्रित, सार्थक परिवर्तन-परिचालित न हो, जनांदोलन रहित हो जाए, ताक़तवर लोगों की सरपरस्ती के तहत ही जीने की मजबूरी हो, लोकतंत्र के विकास के लिए न कोई आकांक्षा हो और न तैयारी, व्यापक असमानता, कुव्यवस्था एवं बेरोज़गारी ही संरचना का चरित्र हो जाए, राजनीति का अकेला अर्थ हो जाए सत्ता के ज़रिए धन का संग्रह, तो वैसे समय में वीपी सिंह जैसे इतिहास पुरुष की याद आनी स्वाभाविक है, जो आज हमारे बीच नहीं हैं.

Read more

सतना पुलिस चौकी को अस्तित्व की तलाश

सतना स्टेशन स्थित जीआरपी पुलिस की चौकी अंग्रेज़ों के राज्य में 160 साल पहले स्थापित की गई थी. मुंबई-हावड़ा प्रमुख रेल मार्ग से गुज़रने वाली सभी ट्रेनें इस चौकी से होकर ही गुज़रती थी. चौकी की स्थापना के समय सतना रेलवे स्टेशन से काशी एक्सप्रेस, मुंबई हाबड़ा मेल, इटारसी इलाहाबाद पेसेंजर और बाम्बे जनता मेल ही गुज़रता था.

Read more

अमिताभ को अपमानित मत करो

अमिताभ बच्चन को अभी और अपमान सहने पड़ सकते हैं. एक व्यक्ति के नाते उनकी व्यथा को कोई समझना नहीं चाहता. कोई से हमारा मतलब आम जनता से नहीं, बल्कि खास लोगों से है. ये खास लोग कांग्रेस से रिश्ता रखते हैं और किसी हद तक जा सकते हैं, क्योंकि इन्हें लगता है कि इनकी हरकतों से सोनिया गांधी और राहुल गांधी खुश होकर इन्हें शाबाशी देंगे.

Read more

गंगा के दिन कब बहुरेंगे?

पिछले दिनों एक ख़बर आई कि पोलैंड के एक नवयुवक मैटीज लेसजेक टर्स्की की गंगाजल पीने से मौत हो गई. यह ख़बर निश्चित तौर पर उन लाखों-करोड़ों लोगों को आघात पहुंचाने वाली थी, जो अभी भी गंगा तेरा पानी

Read more

फर्ज़ी मुठभेड़ के आरोपी पुलिसकर्मियों को सज़ा

सवा छह साल बाद ही सही, सोनभद्र के रनटोला के जंगल में बदमाश बताकर पुलिस द्वारा मारे गए निर्दोष युवकों के घरवालों के साथ न्याय हो गया. अदालत ने फर्ज़ी मुठभेड़ के ज़रिए वाहवाही लूटने की कोशिश करने वाले सोलह में से तेरह पुलिसकर्मियों को आजीवन कारावास और ज़ुर्माने की सज़ा सुना दी है.

Read more

जसवंत सिंह से भाजपा डर रही है

जसवंत सिंह भाजपा के पहले ऐसे राष्ट्रीय नेता बन गए जिनसे न स़फाई पूछी गई, न बोलने का अवसर दिया गया, बस बाहर का दरवाज़ा दिखा दिया गया. उनका इतना सम्मान भी नहीं रखा, जितना एक सामान्य राजनैतिक सहयात्री का दूसरा राजनैतिक सहयात्री रखता है.

Read more