संतति नियमन आवश्यक

बढ़ी हुई जनसंख्या निश्चय ही देश का धन है, पर कब और किस हालत में? ज़रा ग़ौर कीजिए. एक दंपत्ति समृद्ध हैं, अपनी परिचर्या के लिए दो नौकर रखे हुए हैं, सब काम उनके वे दोनों नौकर आराम से कर लेते हैं. एक दूसरे दंपत्ति ने अपनी परिचर्या के लिए, अलग-अलग कामों के लिए 9 नौकर तैनात किए हैं. काम इनका भी आराम से हो जाता है. अब बताइए, वे 9 आदमी विशेष काम करते हैं क्या? नहीं.

Read more

अच्छे दोस्त है हृतिक

गणेश हेगड़े और हृतिक डांस में काफी माहिर हैं, यह बात तो सभी जानते हैं, लेकिन यह जानना दिलचस्प है कि हृतिक रोशन गणेश हेगड़े के आने वाले एलबम में डांस करते हुए नज़र आएंगे. गणेश का एलबम जी रिलीज हुआ था 2005 में, अब इस साल वह लेट्‌स पार्टी नामक एलबम लांच करने जा रहे हैं

Read more

कर्म, अकर्म और दुष्कर्म

धनिक या समृद्ध व्यक्ति क्या निठल्ला रहता है या आलस्य में कुछ काम करता ही नहीं? अगर वह मेहनत करता है, काम करता है तो फिर धनिक या समृद्ध होने से आप उसे बुरा क्यों कहते हैं? काम करने वाले किसी भी व्यक्ति को बुरा कहने का अधिकार किसी को नहीं है, बशर्ते कि वह काम करता हो देश के लिए, समाज के लिए या अपने परिवार के लिए कुछ भी उपार्जन करने वाले कामों को ही हम काम कहेंगे.

Read more

मांग के मुताबिक़ मूल्य

पहली योजना है कि हर आदमी जितना वह उपार्जन करे, अपनी मेहनत से पैदा करे, उतना पाए. यह योजना देखने में बड़ी उचित और सुंदर प्रतीत होती है, पर जब इसे कार्यरूप में परिणित करना चाहें तो बड़ी कठिनाइयां पेश आती हैं. पहले तो यह निश्चय कर सकना कि किसने कितना पैदा किया, असंभव सा है.

Read more

अवकाश और श्रम का समन्वय

बंटवारे के लिए देश में रुपये हों, धन हों, तो उसके पहले काम या मेहनत का होना ज़रूरी है. बिना काम या मेहनत किए धन अर्जन ही नहीं होगा तो फिर बंटवारा किस चीज का और कैसे होगा? बिना ज़मीन को जोते-बोए अनाज पैदा ही नहीं होगा. इसके लिए किसान को परिश्रम करना ही होगा. बाद में रोटी बनाने वाले रसोइए को परिश्रम करना होगा, तब कहीं जाकर रोटियां बन पाएंगी.

Read more

काम के नाम पर खानापूर्ति

सरकार जनता का जीवन स्तर सुधारने के लिए उन्हें सड़क, पेयजल, बिजली, नाला, पुल जैसी मूलभूत सुविधा देने के लिए चाहे लाख कल्याणकारी योजनाएं बना ले, लेकिन सही मायने में ऐसी योजनाएं उसी के कारिदों की कारस्तानी के कारण पूरी तरह से धरातल पर उतरती नज़र नहीं आ रही है.

Read more

काम करो या …

केपी रघुवंशी की महाराष्ट्र के एटीएस (एंटी टेररिस्ट स्न्वॉयड) प्रमुख पद से विदाई ने स्वाभाविक रूप से मुंबई पुलिस के हलकों में हलचल मचा दी है. उनकी जगह राकेश मारिया को नया एटीएस प्रमुख नियुक्त किया गया है, जो इससे पहले तक ज्वाइंट कमिश्नर, क्राइम के पद की ज़िम्मेदारी संभाल रहे थे.

Read more

विधायक कोष : आपके विधायक जी ने कितना काम किया?

कोई नेता जब आप से वोट मांगने आता है तो क्या कहता है? वह कहता है कि आप उसे वोट दें ताकि वह आने वाले पांच सालों तक आपकी सेवा करता रहे. मतलब, जनता मालिक और नेता सेवक. लेकिन चुनाव जीतने के बाद क्या होता है? क्या आपको यह पता चलता है कि विधायक जी को स्थानीय क्षेत्र के विकास के लिए जो करोड़ों रुपये सरकार की तऱफ से मिलते हैं, वो कहां जाते हैं?

Read more