गणतंत्र दिवस: देखिए परेड की ये मनमोहक तस्वीरें

नई दिल्ली (ब्यूरो, चौथी दुनिया)। 68वें गणतंत्र दिवस की छठा राजपथ पर देखने को मिलती है। देश के अलग-अलग राज्यों

Read more

68वां गणतंत्र दिवस : राष्ट्रपति ने फहराया तिरंगा, पूरा देश मना रहा है पर्व

नई दिल्ली (ब्यूरो, चौथी दुनिया)। आज देश अपना 68वां गणतंत्र दिवस मना रहा है। राष्ट्रपति के पहुंचने के बाद तिरंगे

Read more

भारत-सऊदी अरब : निताका ने बढाई चिंता 50 हज़ार कामगार होंगे बेरोजगार

सऊदी अरब सरकार ने निताक़ा नामक क़ानून बनाकर वहां कार्यरत विदेशी कामगारों की चिंता बढ़ा दी है. लगभग 50 हज़ार

Read more

प्रधानमंत्री के नाम अन्ना की चिट्ठी

सेवा में,

श्रीमान् डॉ. मनमोहन सिंह जी,

प्रधानमंत्री, भारत सरकार, नई दिल्ली.

विषय : गैंगरेप-मानवता को कलंकित करने वाली शर्मनाक घटना घटी और देश की जनता का आक्रोश सड़कों पर उतर आया. ऐसे हालात में आम जनता का क्या दोष है?

महोदय,

गैंगरेप की घटना से देशवासियों की गर्दन शर्म से झुक गई.

Read more

जहां डाल-डाल पर सोने की चिडि़या करती है बसेरा

जननी जन्मभूमिश्च स्वर्गादपि गरीयसी… यानी जन्मभूमि स्वर्ग से भी बढ़कर है. जन्म स्थान या अपने देश को मातृभूमि कहा जाता है. भारत और नेपाल में भूमि को मां के रूप में माना जाता है. यूरोपीय देशों में मातृभूमि को पितृ भूमि कहते हैं. दुनिया के कई देशों में मातृ भूमि को गृह भूमि भी कहा जाता है. इंसान ही नहीं, पशु-पक्षियों और पशुओं को भी अपनी जगह से प्यार होता है, फिर इंसान की तो बात ही क्या है.

Read more

राष्‍ट्रीय वीरता पुरस्‍कार-2011 जज़्बे की कोई उम्र नहीं होती

अगर दिल में बहादुरी का जज़्बा हो तो उम्र की ज़ंजीरें बहुत कमज़ोर हो जाती हैं. राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार-2011 के लिए चयनित नन्हें जांबाज़ों के कारनामे कुछ यही बयां करते हैं. राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार इस बार 24 बच्चों को दिया गया. इनमें कुछ बच्चों को यह पुरस्कार मरणोपरांत दिया गया.

Read more

भारतीय कंपनियां भी बेहतर सामरिक साज़ोसामान बना सकती हैं

सैद्धांतिक तौर पर गणतंत्र दिवस परेड हमारी सैन्य शक्तिके प्रदर्शन का एक अवसर है, लेकिन व्यवहारिक तौर पर ऐसा लगता है, जैसे हमारी सैन्य कमज़ोरियां ज़ाहिर हो रही हैं. अगर स़िर्फ कमज़ोर प्रदर्शन का सवाल है तो कोई बात नहीं है. असल समस्या हमारी सैन्य क्षमता में हो रहे ह्रास की है, जो सालों से राजनीतिक मतभेद, नौकरशाहों के अहं और सैन्य निराशा से उपजा है.

Read more