लाजवाब फनकार गुलज़ार

गीतकार, निर्देशक एवं पटकथा लेखक गुलज़ार को फिल्म जगत के सर्वोच्च सम्मान दादा साहब फाल्के अवॉर्ड-2013 के लिए चुना गया

Read more

दिल ढूंढता है फिर वही फुर्सत के रात-दिन

भारतीय सिनेमा में कई ऐसी हस्तियां हुई हैं, जिन्होंने विभिन्न क्षेत्रों में अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाया है. इन्हीं में से एक हैं गुलज़ार. गीतकार से लेकर, पटकथा लेखन, संवाद लेखन और फिल्म निर्देशन तक के अपने लंबे स़फर में उन्होंने शानदार कामयाबी हासिल की. मृदुभाषी और सादगी पसंद गुलज़ार का व्यक्तित्व उनके लेखन में सा़फ झलकता है. आज वह जिस मुक़ाम पर हैं, उस तक पहुंचने के लिए उन्हें संघर्ष के कई प़डावों को पार करना प़डा.

Read more

अज्ञानता का दर्प

अभी ज़्यादा दिन नहीं बीते हैं, जब फिल्म थ्री इडियट्स में क्रेडिट को लेकर लेखक चेतन भगत ने ख़ासा बवाल खड़ा कर दिया था. चेतन भगत के दो हज़ार चार में लिखे उपन्यास फाइव प्वाइंट समवन-व्हाट नॉट टू डू एट आईआईटी पर विधु विनोद चोपड़ा ने फिल्म बनाई, जो सुपरहिट रही थी.

Read more