मध्य प्रदेश: नगर निगम और निकाय चुनावक्या व्यापम घोटाला कांग्रेस के लिए संजीवनी साबित होगा?

मध्य प्रदेश में नगर निकाय चुनावों का बिगुल बज चुका है. राज्य में नगर निगम और नगरीय निकायों में 28

Read more

व्यापमं घोटाला : शिवराज की अग्नि परीक्षा

मध्य प्रदेश व्यावसायिक परीक्षा मंडल (व्यापमं) घोटाले का स्वरूप दिन-ब-दिन व्यापक होता जा रहा है. राज्यपाल, मुख्यमंत्री और कई आलाधिकारियों

Read more

खजुराहो : अदभुत मूर्ति शिल्प का बेजो़ड नमूना

खजुराहो के मंदिरों की बात ही निराली है. यहां की मूर्तियां नृत्य और संगीत की छटा से भक्तों का मन

Read more

आस्था… मंगलनाथ मंदिर : जहां धुल जाते हैं सारे पाप…

यहां का सान्निध्य पाकर लोग धन्य हो जाते हैं, और भक्तों के पाप भी स्वत: धुल जाते हैं. लोग अपनी

Read more

इतना न भुलाओ कि ज़माना भूल जाए

आज जिस तरह भारतीयों के लिए खेल का मतलब क्रिकेट और क्रिकेट का मतलब सचिन तेंदुलकर है, उसी तरह आज़ादी के दौर में खेल का मतलब हॉकी और खिलाड़ी का मतलब ध्यानचंद था. हम ध्यानचंद को हॉकी के जादूगर के रूप में जानते हैं और सचिन को क्रिकेट का भगवान मानते हैं. यदि 50 साल बाद क्रिकेट को स़िर्फ सचिन तेंदुलकर के नाम से जाना जाए तो क्या यह गावस्कर, कपिल, द्रविड़, गांगुली, कुंबले के साथ ज़्यादती नहीं होगी, जिन्होंने अपना सारा जीवन क्रिकेट की सेवा में लगा दिया.

Read more

ऐतिहासिक विक्टोरिया मार्केट अग्निकांड में स्वाहा

ग्वालियर का ऐतिहासिक विक्टोरिया मार्केट 105 वर्ष का स़फर पूरा करने के बाद शॉर्ट सर्किट के कारण अपना अस्तित्व खो चुका है. इस बाज़ार में व्यवसाय कर रहे 116 परिवार आज रोज़ी-रोटी के लिए मोहताज है.

Read more

सार–संक्षेप: तीस करोड़ रुपयों का चावल गोदामों में ख़राब हो रहा है

मध्य प्रदेश में सरकारी गोदामों में लगभग 20 हज़ार टन चावल पिछले डेढ़ वर्ष से पड़ा है. उचित रखरखाव के अभाव में इस चावल की गुणवत्ता दिनों-दिन ख़राब हो रही है. इस चावल का मूल्य लगभग 30 करोड़ बताया जाता है. यह चावल दिसंबर 2008 से जून 2009 के बीच समर्थन मूल्य पर खरीदे गए धान से तैयार किया गया था. उस समय ज़्यादा खरीदी होने के कारण चावल का़फी मात्रा में एकत्रित किया गया.

Read more

भाजपा और कांग्रेस में रेलवे ट्रैक पर श्रेय की दौड़

ग्‍वालियर से श्योपुर तक चलने वाली छोटी लाईन रेल को बड़ी लाईन में किसने परिवर्तित करवाया, इसका श्रेय लेने के लिए इन दिनों कांग्र्रेस और भाजपा के मध्य संघर्ष चल रहा है. भाजपा के नेता इसे अपनी मांग की पूर्ति बताकर विजयी मुद्रा में खड़े हैं, तो वहीं क्षेत्र के प्रभावशाली केंद्रीय मंत्री सिंधिया भी अन्य केंद्रीय मंत्रियों से अपनी वाहवाही का गान करवा रहे है.

Read more

महिला-बाल व्‍यापार का बढ़ता जाल

बाज़ारवाद के इस युग में मनुष्य भी बिकाऊ माल बन गया है. बाज़ार में पुरूष की ज़रूरत श्रम के लिए है, तो वहीं स्त्री की ज़रूरत श्रम और सेक्स दोनों के लिए है. इसलिए व्यापारियों की नज़र में पुरूष की तुलना में स्त्री कहीं ज़्यादा क़ीमती और बिकाऊ है. राजधानी भोपाल की 66 बालिकाएं और 70 बालक ऐसे हैं जिनका पिछले एक साल से कोई अता-पता नहीं है.

Read more