यह घाव कांग्रेस ने खुद तैयार किया है

भारतीय जनता पार्टी ने जब मोदी को एक बड़े नेतृत्व की जिम्मेदारी सौंपी, तब कांग्रेस को खुश होना चाहिए था,

Read more

प्रधानमंत्री को पारदर्शी होने की ज़रूरत है

देश के लिए यह काफी सुखद है कि आखिरकार प्रधानमंत्री ने अपनी चुप्पी तोड़ी. ससंद के दोनों सदनों में प्रधानमंत्री

Read more

लापरवाही सरकार की भुगत रहे शिक्षक

रंजन को सूचना के अधिकार से मिले दूसरे कागजात में एनसीटीई, डीपीई के बारे में कहती है कि उक्त कोर्स

Read more

देश को बेहतर राजनीतिक नेतृत्व की ज़रूरत है

मौजूदा समय में देश की राजनीतिक दशा बेहद ख़राब है. चालू खाते पर कोई नियंत्रण नहीं रह गया है. मुझे

Read more

साइबर खिड़की के पीछे ख़डा मतदाता

इस बात की चर्चा गर्म है कि 2014 का लोकसभा चुनाव सोशल मीडिया के माध्यम से लड़ा जाएगा. एक ब़डा

Read more

सोच बदलें राजनीतिक दल

जरूरत है कि संसद का एक दिन निर्धारित हो और उस दिन सिर्फ संविधान में कही गई मूल बातों पर

Read more

गृहमंत्री का उतावलापन नक्सल प्रभावित ज़िला घोषित कराने की असलियत

सूबे के जो ज़िले नक्सल प्रभावित नहीं भी हैं, उन्हें जबरन और साजिशन नक्सल प्रभावित घोषित कराने की कवायद ने

Read more

समस्या की जड़ में भी राजनीतिक तंत्र ही है

अगर आप माओवाद को सामाजिक-आर्थिक समस्या मानते हैं, तो आपको एक बार फिर से सोचने की ज़रूरत है. सवाल यह

Read more

वी सी शुक्ल मिलनसार शख्स और कुशल राजनीतिज्ञ थे

नक्सली हमले में गंभीर रूप से घायल हुए वयोवृद्ध कांग्रेसी नेता विद्याचरण शुक्ल का पिछले दिनों निधन हो गया. वह

Read more

खाद्य सुरक्षा बिल : रोटी से खेलने वाला कौन है देश की संसद मौन है …..

ईस्ट इंडिया कंपनी की लूट को भी पीछे छोड़ चुकी कांग्रेस सरकार दरअसल सरकार नहीं, परिवार चला रही है. भ्रष्टाचार

Read more

जब तोप मुकाबिल हो : सेना रायसीना हिल्स तक जा सकती है

छत्तीसगढ़ में बहुत बड़ी घटना हो गई. कांगे्रस के काफिले पर गोली का चलना, लगभग 29 लोगों का मारा जाना,

Read more

नक्सलवाद से माओवाद तक

छत्तीसगढ़ में हालिया माओवादी हमले के बाद एक बार फिर से देश में माओवाद और माओवादी केंद्रीय बहस का मुद्दा

Read more

ये मुख़बिरों की बस्ती है

देश में आज भी धर्म और जाति के आधार पर बस्ती, पारा और मोहल्लों का बसना और इनकी पहचान न स़िर्फ मौजूद है, बल्कि स्वीकार्य भी है. परंतु इसी देश में मु़खबिरों की एक बस्ती भी है, यह सुनकर कोई भी चौंक सकता है.

Read more

क्या छत्तीसग़ढ में लोकतंत्र नहीं है

दिल्ली के उन नेताओं को धन्यवाद देना चाहिए, जो पत्रकारिता जगत का नेतृत्व करते हैं. इनके लिए सारा देश दिल्ली है. अगर दिल्ली में किसी अख़बार के साथ कुछ ग़लत हो तो इनके लिए बहुत बड़ा सवाल बन जाता है. अगर किसी पत्रकार के साथ कुछ हो तो और भी बड़ा सवाल बन जाता है.

Read more

छत्तीसगढ़ः फ्लोरेसिस ने पांव पसारे, सरकार बेखबर

बस्तर अंचल के संभाग मुख्यालय जगदलपुर से 47 किलोमीटर दूर स्थित आदिवासी बाहुल्य ग्राम बाकेल की आबादी 25 हज़ार है. दूषित पानी की आपूर्ति के चलते इस गांव के 72 लोग फ्लोरेसिस नामक ख़तरनाक बीमारी से पीड़ित हैं, पीड़ितों में महिलाओं और बच्चों की संख्या ज़्यादा है.

Read more

जो दिखता है सो बिकता हैः छत्तीसगढ़ का खजुराहो भौरमदेव मंदिर

जो दिखता है सो बिकता है. बाज़ारवाद के इस कमाऊ फॉर्मूले को अब छत्तीसगढ़ सरकार ने पर्यटन उद्योग के विकास और आय बढ़ाने के लिए अपनाया है. सरकार के पर्यटन विभाग ने भौरमदेव मंदिरों की ओर देशी-विदेशी पर्यटकों को आकर्षित करने के लिए इन्हें छत्तीसगढ़ का खजुराहो के रूप में प्रचारित करने का अभियान शुरू किया है.

Read more

दो डीजीपी की जंग में शहीद हो रहे जवान

नक्सलवाद को नेस्तनाबूद करने की ख़ातिर छत्तीसगढ़ में तैनात किए गए दो पुलिस महानिदेशक नक्सलियों को मटियामेट करने के बजाय आपस में ही धींगामुश्ती कर रहे हैं. नक्सलियों का सफाया करने की जगह उनमें इस बात की होड़ मची है कि नक्सलियों के ख़िला़फ चल रहे ऑपरेशन ग्रीन हंट की डोर किसके हाथ रहे और इसका सेहरा किसके सिर बंधे.

Read more

इंसाफ की आवाज पर पाबंदी

चिंता यह कि ऑपरेशन ग्रीन हंट की धमक ने आदिवासियों को आतंक और असुरक्षा के गहरे अंधेरे में धकेल देने का काम किया है. नतीजा यह कि विस्थापन की भगदड़ बेतहाशा फैल रही है, गांव के गांव उजड़ रहे हैं.

Read more