अपनों की ही गुगली से परेशान गोगोई

गैरों पे करम, अपनों पे सितम… आजकल असम कांग्रेस के कई विधायक मन ही मन यह लाइन दोहरा रहे होंगे.

Read more

कांग्रेस में अपनी ढपली-अपना राग : राहुल गांधी की फिक्र किसी को नहीं

कांग्रेस में राहुल गांधी के भविष्य की चिंता किसी को नहीं है. अगर है, तो फिक़्र अपने-अपने मुस्तकबिल की. पार्टी में रणनीतिकार की भूमिका निभाने वाले कई नेताओं के लिए राहुल गांधी प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार की बजाय एक मोहरा भर हैं. राहुल गांधी की आड़ में उक्त नेता कांग्रेस पार्टी पर अपनी हुकूमत चलाना चाहते हैं. लिहाज़ा उनके बीच घमासान इस बात का नहीं है कि आम चुनावों से पहले पार्टी की साख कैसे बचाई जाए, बल्कि लड़ाई इस बात की है कि राहुल गांधी को अपने-अपने कब्ज़े में कैसे रखा जाए, ताकि सरकार और पार्टी उनके इशारों पर करतब दिखाए.

Read more

गोगोई की जीत ने कांग्रेस की लाज रख ली

एक्जिट पोल से पहले यह अनुमान लगाया जा रहा था कि असम में कांग्रेस को अपनी सरकार बचाने के लिए खासी मशक्कत करनी पड़ सकती है, लेकिन ऐसा नहीं हुआ और तरुण गोगोई के नेतृत्व में कांग्रेस लगातार तीसरी बार सत्ता में वापस आ गई. असम को लेकर एक सवाल उठना लाजिमी है कि आखिर ऐसी क्या वजह है कि तरुण गोगोई तीसरी बार कांग्रेस को जिता ले गए.

Read more

असमः मंत्रियों की संप‍त्ति की घोषणा पर सवाल

बीती 14 जनवरी को असम सरकार ने अपनी वेबसाइट पर राज्य के सभी मंत्रियों की संपत्तियों का विवरण सार्वजनिक कर दिया. काफी समय पहले असम के मुख्यमंत्री तरुण गोगोई ने वादा किया था कि वह और उनके मंत्रिमंडल के सभी सहयोगी अपनी-अपनी संपत्ति की घोषणा करेंगे, लेकिन कई बार समय सीमा तय करने के बावजूद ऐसा नहीं हो सका.

Read more

घोटाले के घेरे में गोगोई सरकार

जब से असम के उत्तर कछार पर्वतीय स्वशासी ज़िला परिषद में एक हज़ार करोड़ रुपये के घोटाले का मामला उजागर हुआ है, तबसे राज्य की तरुण गोगोई सरकार बचाव की मुद्रा में आ गई है. इस घोटाले से स्पष्ट हो गया है कि असम के शासन तंत्र में भ्रष्टाचार किस हद तक प्रभावी हो चुका है.

Read more

तरूण गोगोईः सत्‍ता में लौटने की छटपटहाट

असम विधानसभा चुनाव अगले साल होने वाले हैं, लेकिन मुख्यमंत्री तरुण गोगोई ने एक साल पहले ही चुनाव प्रचार के ज़रिये माहौल बनाना शुरू कर दिया है. भले ही राज्य की जनता उनके अधूरे वादों को लेकर सवाल पूछ रही है, बावजूद इसके गोगोई नित नए वादे करने में कोई कमी नहीं बरत रहे हैं.

Read more