बेजान क़ानूनों के सहारे बेज़ुबान

गौधन पर सियासत चरम पर है. पशु बिक्री पर केंद्र सरकार की नई अधिसूचना आते ही कई राज्य सरकारों ने

Read more

मज़बूरी ऐसी कि एक माँ को बेचना पड़ा ‘कलेजे का टुकड़ा’

नई दिल्ली, (राज लक्ष्मी मल्ल) : जिंदगी कभी-कभी दो राहे पर ला कर खड़ा कर देती हैं जिसमें से किसी

Read more

विशेषांक?: पूर्वोतर छात्र मिलन समारोह : हिंदी विद्यापीठ पत्रिका

हिंदी विद्यापीठ पत्रिका झारखंड की सांस्कृतिक राजधानी वैद्यनाथ देवघर से निकलने वाली एक स्तरीय त्रैमासिक शोध पत्रिका है. इस पत्रिका

Read more

मणिपुर इनर लाइन परमिट राज्य के हित में नहीं

पलायन देश के हर हिस्से का एक मुद्दा है. पूर्वोत्तर के राज्यों में मज़दूरों की कमी है, साथ ही प्रशिक्षित

Read more

हस्‍तकलाओं का अस्तित्‍व खतरे में

इक्कीसवीं सदी के ग्लोबलाइज्ड वर्ल्ड में व्यापार लोगों को जोड़ने वाली सबसे शक्तिशाली चीज़ों में से है. लेकिन आश्चर्य यह है कि व्यापार की ब़ढती समृद्धि के साथ ग़रीबी भी ब़ढी है और इससे अमीरी और ग़रीबी के बीच की खाई ब़डी हो गई है. विश्व व्यापार में वे संभावनाएं हैं, जो ग़रीबी हटाने के साथ इकोनॉमिक ग्रोथ के लिए बेहतरीन माध्यम बन सकती हैं.

Read more

महाराष्ट्र में डी वाई पाटिल ग्रुप की हकीकत शिक्षा का माफिया राज

शिक्षा माफिया. इस देश को नव उदारवाद का एक उपहार. धंधा ऐसा कि हींग लगे न फिटकरी, रंग चोखा आ जाए. और जब भैया हों कोतवाल तो फिर डर कैसा, चाहे जो मर्जी हो, वह कर लो. महाराष्ट्र के शिक्षा जगत में भी सालों से कुछ ऐसा ही हो रहा है. डी वाई पाटिल ग्रुप, एक ऐसा ही नाम है. पेश है, चौथी दुनिया की खास रिपोर्ट.

Read more