हम एक मरते हुए समाज में जी रहे हैं

हमारे देश में कुछ स्थितियां ऐसी बन जाती हैं जिनके पीछे कोई तर्क नहीं होता, लेकिन स्थितियां बन जाती हैं.

Read more

स्वस्थ परंपराओं का निर्वाह लोकतंत्र के लिए ज़रूरी है

अब देश में राजनीतिक पहलू एक गंभीर मसला बन गया है. जब से देश में संविधान बना, तब से एक

Read more

कोयला महाघोटाला : चौथी दुनिया की रिपोर्ट सच साबित हुई

देश के उच्चतम न्यायालय ने पिछले 17 वर्षों में एनडीए और यूपीए समेत अन्य सरकारों के कार्यकाल के दौरान हुए

Read more

लोग मरते रहे और महामहिम व्यस्त हैं

यह कहानी है लोक बनाम तंत्र के बीच जिद की. लोक की जिद है कि वह तंत्र से मिलकर ही

Read more

क्या मोदी झुक जाएंगे अमेरिका के सामने

जिस देश में भूख से मौत होती हो, खाने की कमी से बच्चे कुपोषण का शिकार होते हों और जहां

Read more

दिल्ली का बाबू : संधू का इस्तीफ़ा

अपने कार्यकाल के शेष बचे 20 महीने पहले ही व्यक्तिगत कारणों से नेहचल संधू उप राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार के पद

Read more

प्रधानमंत्री अपने विचार जनता के सामने रखें

न्यायाधीशों की नियुक्ति का मामला देखिए. जस्टिस काटजू ने कुछ खुलासे किए और जो सार्वजनिक डोमेन में आ गए हैं.

Read more

न्यायिक सुधारों का समय आ गया हैं

बहुत तेज़ धूप में कोई भी अपनी छत की मरम्मत नहीं करता और न गर्मी के मौसम में बाढ़ राहत

Read more

सिर्फ आवंटन से मेडल नहीं मिलेंगे

यदि भारत को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर स्वयं को एक स्पोर्ट्स नेशन के रुप में स्थापित करना है तो भारत सरकार

Read more

आर्थिक सर्वे ने फिर निराश किया

इसी फ़रेब में हमने सदियां ग़ुजार दीं, गुज़िश्ता साल से शायद ये साल बेहतर हो. उक्त पक्तियां ताजा आर्थिक सर्वेक्षण

Read more

इराक को ख़त्म कर रहा है अमेरिका

अस्सी के दशक की शुरुआत में एक इराकी दीनार की कीमत 3 अमेरिकी डॉलर के बराबर थी. वर्तमान समय में

Read more

हिंदुत्व से कौन डरता है?

एक आंग्लिकन ईसाई राजतंत्र में रहता हूं, किसी धर्मनिरपेक्ष देश में नहीं. इस देश के हाउस ऑफ लॉर्ड्स में 26

Read more

कांग्रेस का नेता प्रतिपक्ष पद पर नैतिक?अधिकार नहीं

देश में 16वीं लोकसभा अस्तित्व में आ चुकी है. इसके साथ ही एक बड़ी समस्या सामने आई है कि आख़िर विपक्ष

Read more

जनता को भीख नहीं, अवसर चाहिए

देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सामने हम उस तथ्य को रखना चाहते हैं, जिसे वह संभवत: समझते होंगे. देश

Read more

बिजली के लिए जिम्मेदार कौन

गर्मियों का मौसम आते ही देश में बिजली आपूर्ति में कमी कोई असामान्य बात नहीं है. पिछले दिनों जैसे-जैसे मौसम

Read more

देश नरेंद्र मोदी से क्या चाहता है

इस समय देश के हर न्यूज चैनल पर नरेंद्र मोदी का इंटरव्यू आ रहा है. मोदी प्रधानमंत्री बनने वाले हैं,

Read more

एस पी सिंह और एम जे अकबर

आज पत्रकारिता के मायने बदल गए हैं, बदल रहे हैं अथवा बदल दिए गए हैं, नतीजतन, उन पत्रकारों के सामने

Read more

जहां पाप मुक्त करते हैं भोलेनाथ

भगवान शिव हमेशा अपने भक्तों की रक्षा करते हैं, उनकी मनोकामनाएं पूर्ण करते हैं. पूरे देश में भगावन शिव के

Read more

आरोपों का खेल

लीवरपूल फुटबॉल क्लब के मशहूर मैनेजर रहे बिल सैंकली से एक बार यह पूछा गया कि जब विरोधी टीम के

Read more

जीतने वालों से देश की अपेक्षा

दस अप्रैल को दिल्ली और पश्‍चिमी उत्तर प्रदेश के चुनाव हुए. 6 सीटों पर बिहार में भी वोट पड़े. कुल

Read more

लोकसभा 1952 से अब तक…

पहली लोकसभा (1952) देश की पहली लोकसभा का गठन वर्ष 1952 में हुआ. पहले लोकसभा चुनाव के बाद भारतीय राष्ट्रीय

Read more

ब्रू शरणार्थियों के लिए बेमानी है लोकतंत्र का यह महापर्व

चुनाव में जनता के लिए मतदान से बढ़कर कुछ भी नहीं होता, लेकिन जिन्हें मतदान से वंचित कर दिया जाए

Read more

अधिकारों से वंचित महिलाएं

हमारे देश में महिलाओं के साथ भेदभाव की कहानी परिवार से ही शुरू हो जाती है. कई बार तो लड़की

Read more

कांग्रेस को रणनीति बदलनी चाहिए

आख़िरकार, चुनाव पांच सालों के लिए होते हैं और जनता स्थायित्व चाहती है. जनता चाहती है कि क़ानून और व्यवस्था

Read more

लूट के आरोपी को पुलिस की नौकरी!

देश की आर्थिक राजधानी मुंबई के वर्सोवा इलाके में स्थित मशहूर फिल्म निर्माता साजिद नाडियाडवाला का घर. शाम क़रीब तीन

Read more

नरेंद्र मोदी को कौन चुनौती देगा

देश का अगला प्रधानमंत्री कौन होगा? कयासों और दावों के बीच नाम तो कई हैं, लेकिन सभी नामों के साथ

Read more

पुराने पड़ चुके हैं राजनीतिक मुद्दे

कांग्रेस ने तो चुनावों के लिए अपना मनोबल पूरी तरह से खो दिया है. वहीं भाजपा के सामने आम आदमी

Read more

अमीर-ग़रीब के बीच की खाई बढ़ रही है

देश में एक तरफ़ तो हालत तो यह है, तो वहीं दूसरी तरफ़ कॉरपोरेट सेक्टर ज़्यादा से ज़्यादा मुनाफ़ा कमाने

Read more

यह एक औसत सरकार है

यूपीए-दो के कार्यकाल में भ्रष्टाचार के स्तर पर भी यह सरकार असफल ही रही. हालांकि, इस मामले में यूपीए सरकार

Read more

राष्ट्र का पुनर्निर्माण उसके लाखों गांवों का पुनर्निर्माण

जीवन की ऐसी रचना कैसे चलेगी और क्यों चलने दी जाएगी, जिसमें परिवार में स्त्री को, उत्पादन में श्रमिक को,

Read more