पढ़िए, शनिदेव के प्रभाव से बचने के उपाय और उनसे जुड़ी कुछ अहम बातें

नई दिल्ली, (राज लक्ष्मी मल्ल) : हिन्दुओं की मान्यता हैं कि सप्ताह का हर एक दिन अगल-अगल देवताओं का विशेष

Read more

पाताल कोट के नन्हे जुगनू

मध्य प्रदेश के छिंदवाड़ा ज़िले के तामिया ब्लॉक का पाताल कोट मानो धरती के गर्भ में समाया है. यह घाटी

Read more

जन्मशती के बहाने उठे सवाल

राष्ट्रकवि रामधारी सिंह दिनकर कहा करते थे, जातियों का सांस्कृतिक विनाश तब होता है, जब वे अपनी परंपराओं को भूलकर

Read more

अंतर्द्वंद्व की सहज अभिव्यक्ति

कोमलता की पहली अनुगूंज किसी ने सुनी थी जो निरंतर अमरबेल की तरह फैलती रही. समाज, व्यवस्था, संस्कृति, परंपरा, स्नेह,

Read more

ख़ूबसूरत लम्हों का सफ़र

यश चोपड़ा हिंदी सिनेमा के ऐसे फ़िल्म निर्माता-निर्देशक, पटकथा लेखक थे, जिन्होंने अपने पचास साल के करियर में हिंदी सिनेमा

Read more

नाम बदलने की परंपरा

कई लोगों को अपने घर वालों द्वारा रखा हुआ नाम पसंद नहीं आता और वे अपना नाम बदल लेते हैं, लेकिन शंघाई में तो कुछ और ही होता है. यहां मरने के बाद नाम बदल दिए जाते हैं. अगर जीवित हैं तो वान और अगर मर चुके हैं तो नाम के बाद लियु जोड़े जाने की यह परंपरा किसी को भी हैरान कर सकती है.

Read more

सहकारी अर्थव्यवस्था की प्राचीन परंपरा

एक और आवाज़ आजकल जोरों से उठाई जा रही है, वह है सहकारिता आंदोलन की. सहकारिता आंदोलन देश के लिए, राष्ट्र के हर व्यक्ति के लिए उपादेय है, बशर्ते कि इस पद्धति का ईमानदारी से अनुसरण किया जाए.

Read more

कुंभ दूर है, साधुओं का दंभ उभरने लगा है

अधिकारियों और ठेकेदारों के चंगुल से महाकुंभ बच भी जाए, पर साधु-संतों के दंभ से वह बच नहीं पाता है! यही अब तक होता आया है और यही अब 2010 के हरिद्वार महाकुंभ में हो रहा है! इतिहास साक्षी है कि कुंभ जैसे महापर्व सामाजिक सौहार्द के ऐसे बड़े अवसर होते हैं, जबकि बारह बरस में एक बार एक स्थान पर एकत्र होकर योगी एवं भोगी सामाजिक चिंतन और भविष्य के लिए नई राहों का अन्वेषण करते हैं. साधु-संन्यासियों को समाज के चिंतक और मनीषी वर्ग में गिना जाता है. अपने लिए भगवद् उपासना व समाज के लिए कल्याण-चिंतन ही इस चतुर्थाश्रम का दायित्व और ध्येय रहा है, लेकिन यह औदात्यपूर्ण परंपरा है, जो अब कालांतर में रूढ़ियों तक सीमित होकर रह गई है.

Read more