पुस्तकों के केंद्र में व्यक्ति और प्रवृत्तियां

बीते साल पर अगर नजर डालें तो यह बात साफ तौर पर उभर कर आती है कि फिल्मी सितारों की

Read more

व्यक्तित्व विकास की पहली पाठशाला

पुस्तक लिखना महत्वपूर्ण नहीं है, बल्कि महत्वपूर्ण है कि लेखक ने अपनी पुस्तक के जरिये पाठकों को, समाज को आख़िर

Read more

ककहरा के साथ नए प्रयोग

व्यंग्य में कभी हास्य भाव होता है, कभी कटाक्ष होता है, कभी किसी कुरीति पर मजेदार ढंग से कुठाराघात होता

Read more

लूजर कहीं का

पांडे अनिल कुमार सिन्हा सत्तू और अचार से भरी पेटी लिए अपने क्लर्क पिता की आंखों में आईएएस बनने के

Read more

युवाओं को सावधान करती पुस्तक

अमिताभ कुमार की पुस्तक ऑपरेशन लॉग आउट में सोशल नेटवर्किंग साइट्स के ग़लत इस्तेमाल पर प्रकाश डाला गया है. सच

Read more

तसलीमा सुर्खियों में रहना चाहती हैं

बांग्लादेश की विवादास्पद और निर्वासन का दंश झेल रही लेखिका तसलीमा नसरीन ने एक बार फिर से नए विवाद को जन्म दे दे दिया है. तसलीमा ने बंग्ला के मूर्धन्य लेखक और साहित्य अकादमी के अध्यक्ष सुनील गंगोपाध्याय पर यौन शोषण का बेहद संगीन इल्ज़ाम जड़ा है. तसलीमा ने सोशल नेटवर्किंग साइट ट्विटर पर लिखा- सुनील गंगोपाध्याय किताबों पर पाबंदी के पक्षधर रहे हैं.

Read more

पुस्तक मेले लेखकों का प्रचार मंच बन चुके हैं

विश्व में पुस्तक मेलों का एक लंबा इतिहास रहा है. पुस्तक मेलों का पाठकों की रुचि बढ़ाने से लेकर समाज में पुस्तक संस्कृति को बनाने और उसको विकसित करने में एक अहम योगदान रहा है. भारत में बड़े स्तर पर पुस्तक मेले सत्तर के दशक में लगने शुरू हुए. दिल्ली और कलकत्ता पुस्तक मेला शुरू हुआ. 1972 में भारत में पहले विश्व पुस्तक मेले का दिल्ली में आयोजन हुआ.

Read more

प्रकृति से जु़डी है हमारी संस्कृति

इंसान ही नहीं दुनिया की कोई भी नस्ल जल, जंगल और ज़मीन के बिना ज़िंदा नहीं रह सकती. ये तीनों हमारे जीवन का आधार हैं. यह भारतीय संस्कृति की विशेषता है कि उसने प्रकृति को विशेष महत्व दिया है. पहले जंगल पूज्य थे, श्रद्धेय थे. इसलिए उनकी पवित्रता को बनाए रखने के लिए मंत्रों का सहारा लिया गया. मगर गुज़रते व़क्त के साथ जंगल से जु़डी भावनाएं और संवेदनाएं भी बदल गई हैं.

Read more

मन को छूते मेरे गीत

गीत मन के भावों की सबसे सुंदर अभिव्यक्ति हैं. साहित्य ज्योतिपर्व प्रकाशन द्वारा प्रकाशित पुस्तक मेरे गीत में सतीश सक्सेना ने भी अपनी भावनाओं को शब्दों में पिरोकर गीतों की रचना की है. वह कहते हैं कि वास्तव में मेरे गीत मेरे हृदय के उद्‌गार हैं. इनमें मेरी मां है, मेरी बहन है, मेरी पत्नी है, मेरे बच्चे हैं. मैं उन्हें जो देना चाहता हूं, उनसे जो पानी चाहता, वही सब इनमें है.

Read more

विश्व पुस्तक मेले में किताबों की बहार

पुस्तक प्रेमी विश्व पुस्तक मेले का बेसब्री से इंतज़ार करते हैं. दिल्ली के प्रगति मैदान में बीती 25 फरवरी से 4 मार्च तक चले विश्व पुस्तक मेले का इस बार भी देश भर से आए पुस्तक प्रेमियों ने जमकर लुत्फ उठाया. किसी स्टॉल पर किताबों का लोकार्पण हो रहा था तो किसी स्टॉल पर लोग अपने प्रिय लेखक से गुफ्तगू कर रहे थे.

Read more

सर्वश्रेष्ठ पत्र लेखकों का सम्मान

चौथी दुनिया उर्दू में प्रकाशित होने वाले पत्रों में से हर सप्ताह एक सर्वश्रेष्ठ पत्र को पुरस्कृत किया जाता है. पुरस्कार के रूप में उक्त पत्र के लेखक को क़ौमी काउंसिल बराए फ़रोग उर्दू द्वारा एक हज़ार रुपये की पुस्तकें प्रदान की जाती हैं.

Read more

समीक्षा पर घमासान

साहित्य और विवादों का चोली दामन का साथ रहा है. जब से साहित्यिक लेखन की शुरुआत हुई है, तभी से विषयों को लेकर मतांतर भी हैं. उसी मतांतर की परिणति विवादों में होती है. कुछ विवाद घोर साहित्यिक होते हैं

Read more

दिल्ली पुस्तक मेला : पाठकों के जोश से बाज़ार को उम्मीद

लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक ने कहा था, मैं नरक में भी पुस्तकों का स्वागत करूंगा, क्योंकि ये जहां रहती हैं, वह जगह अपने आप स्वर्ग हो जाती है. इंडिया ट्रेड प्रमोशन ऑर्गनाइजेशन एवं द फेडरेशन ऑफ इंडियन पब्लिशर्स के संयुक्त तत्वावधान में प्रगति मैदान में बीते 27 अगस्त से 04 सितंबर तक चले 17वें दिल्ली पुस्तक मेले में आए असंख्य लोगों ने कमोबेश यही संदेश दिया कि पुस्तकें आज भी मनुष्य की सच्ची मित्र हैं.

Read more

निम्नवर्गीय जीवन संग्राम की कहानियां

मेरे मौला कथाकार डॉ. लालजी प्रसाद सिंह का 20वां कहानी संग्रह है. वैसे वह अब तक हिंदी की विभिन्न विधाओं में 35 किताबें लिख चुके हैं. इस पुस्तक में मेरे मौला, मौत का गीत, मर्सी किलिंग, जगिया और भूचाल आदि पांच कहानियां हैं.

Read more

आतंक के आका कि जीवनी

पाकिस्तान के मिलिट्री शहर एबटाबाद में जब बीते दो मई को दुनिया के सबसे दुर्दांत और खूंखार आतंकवादी को अमेरिकी नेवी सील्स ने मार गिराया तो पूरे विश्व के लोगों में मौत के इस सौदागर ओसामा बिन लादेन के बारे में जानने की जिज्ञासा बेतरह बढ़ गई. अमेरिकी कार्रवाई के बाद जिस तरह से एबटाबाद स्थित ओसामा के ठिकाने से उसके और उसकी पत्नियों, बच्चों, परिवार और उसके रहन-सहन के तौर तरीक़ों के बारे में खबरें निकल कर आ रही थीं, उसने ओसामा और उसकी निजी ज़िंदगी में लोगों की रुचि और बढ़ा दी.ं

Read more

दिलचस्प अनुभवों की शाम

बात अस्सी के दशक के अंत और नब्बे के दशक के शुरुआती वर्षों की है. पुस्तकों को पढ़ते हुए बहुधा मन में विचार आता था कि उस पर कुछ लिखूं, लेकिन संकोचवश कुछ लिख नहीं पाता था. ज़्यादा पता भी नहीं था कि क्या और कैसे लिखूं और कहां भेजूं. मैं अपने इस स्तंभ में पहले भी चर्चा कर चुका हूं कि किताबों को पढ़ने के बाद चाचा भारत भारद्वाज को लंबे-लंबे पत्र लिखा करता था.

Read more

किताबों में बनता इतिहास

प्रभाष जोशी हमारे समय के बड़े पत्रकार थे. उनके सामाजिक सरोकार भी उतने ही बड़े थे. समाज और पत्रकारिता को लेकर उनकी चिंता का दायरा भी बेहद विस्तृत था. हिंदी पट्टी और हिंदी समाज में प्रभाष जी की का़फी इज़्ज़त भी थी. उनके निधन के बाद हिंदी पत्रकारिता में एक खालीपन आ गया है.

Read more

कौन कहता है हिंदी में पाठक नहीं है!

हिंदी में कुछ लोग लगातार पाठकों की कमी का रोना रोते रहे हैं, लेकिन हक़ीक़त इससे अलग है. हिंदी में प्रकाशकों की संख्या के साथ-साथ हर साल प्रकाशित होने वाली किताबों की संख्या भी लगातार बढ़ रही है. हिंदी में भी कई लेखक ऐसे हैं, जिनकी किताबें अब भी बेहिसाब पढ़ी जा रही हैं और लगातार उनके संस्करण प्रकाशित हो रहे हैं.

Read more

पुस्‍तक अंशः मुन्‍नी मोबाइल- 19

नन्हीं सूफी रोज़-रोज़ की तकरार को अपनी आंख से गुज़रते देखती. आनंद का तेज़ गुस्सा देख वह सहमी सी रहती. एक बार कुछ ऐसी ख़ास घटना हो गई, जिससे दरार और बढ़ गई और शिवानी ने अपना सामान बांध मायके जाने का निश्चय कर लिया. आनंद भारती ने कभी किसी को मनाना सीखा ही नहीं था.

Read more

पुस्‍तक अंशः मुन्‍नी मोबाइल- 18

अब यह बात दीगर है कि जमुनापार के दिल्ली में रहने वाले लोग यहां आशियाना बना चुके हैं. फ्लैटों की क़ीमत करोड़ों में है यहां. आज यह सबसे तेज़ी से विकसित होता इलाक़ा है दिल्ली का. दिल्ली की मुख्यमंत्री शीला दीक्षित के बेटे जमुनापार के सांसद हैं, इसलिए विकास की रफ़्तार काफी है.

Read more

पुस्‍तक अंशः मुन्‍नी मोबाइल – 16

नाव परिणामों से सब स्तब्ध थे. बुद्धिजीवी और धर्म निरपेक्ष ताक़तें सकते में थीं. वे मतदाताओं का मूड भांप नहीं पाए. सांप्रदायिक ताक़तों को हराने की उनकी सारी अवधारणाएं हवाई साबित हुईं. उनकी मान्यता थी कि गांधी का गुजरात धर्म के आधार पर नहीं बंटेगा, पर ऐसा हुआ.

Read more

दलित चिंतन को मिटाने की मुहिम

मध्यकाल के रचनाकारों में कबीर का अध्ययन और मूल्यांकन सबसे जटिल और चुनौती भरा रहा है. साहित्य के इतिहासकारों और आलोचकों के अलावा दूसरे विषयों के विद्वानों ने भी कबीर के अध्ययन में रुचि ली है. कबीर का एक विमर्श लोक में भी बराबर चलता रहा है. वहां भी लंबी परंपरा है.

Read more

पुस्‍तक अंश : मुन्‍नी मोबाइल – 15

मोदी को अक्षरधाम के रूप में एक और मुद्दा मिल गया था. मोदी आग उगलते घूम रहे थे. उनकी आग को अक्षरधाम पर आतंकी हमले ने और धधका दिया. हमले के बाद मोदी ने गुजरात की अस्मिता के सवाल को और ज़ोर से उठाया. पाकिस्तान को धमकी दी. मियां मुशर्रफ को ललकारा.

Read more