इतिहास का ड्राफ्ट

वर्ष 2000 में जब बिहार से अलग हटकर झारखंड राज्य अस्तित्व में आया था, उस व़क्त उम्मीद जगी थी कि इलाक़े के आदिवासियों का समुचित विकास होगा और उनकी समस्याओं पर बेहतर तरीक़े से ध्यान दिया जाएगा.

Read more

मुंबई : पुनर्विकास के बहाने महाराष्ट्र सरकार आराम नगर को बेचना चाहती है

कहते हैं मुंबई में खाने को मिल जाता है, रहने की जगह आसानी से नहीं मिलती. ऐसे में अगर किसी मुंबईवासी को अपना 65 साल पुराना घर छोड़ने के लिए सरकार मजबूर करे तो इसे क्या कहेंगे? सरकार घर तोड़ने की धमकी दे तो किसी पर क्या बीतती होगी?

Read more

मध्‍य प्रदेशः यहां भी है माइनिंग का महाघोटाला

जल, जंगल, ज़मीन और आसमान. ऐसी कोई जगह नहीं जो घोटालेबाज़ों की गिद्ध दृष्टि से बची हो. प्राकृतिक संसाधनों की लूट के इस खेल में सरकार, विपक्ष, पूंजीपतियों समेत हर वह आदमी शामिल है जिसके संबंध सत्ता में बैठे लोगों से हैं और जिनके पास धनबल, बाहुबल है. कर्नाटक, उ़डीसा, झारखंड, गोवा और अब मध्य प्रदेश.

Read more

ककोलत जलप्रपात अस्तित्व पर खतरा

नवादा ज़िले से 35 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है एक ऐसा जलप्रपात जो सुंदरता और प्राकृतिक सौंदर्य के लिहाज से देश के किसी भी जलप्रपात से कम नहीं है, लेकिन सरकारी महकमा इसकी खूबसूरती में चार चांद लगाने के बजाय उसके अस्तित्व को मिटाने के लिए तत्पर हैं.

Read more