विभाजन, युद्ध और प्यार की फिल्में

हिंदी फिल्मों में भारत-पाकिस्तान के विभाजन और उसमें हिंदू-मुस्लिम, पारसी, सिख परिवारों के द्वंद्व पर भी कई फिल्में आईं. भारत-पाकिस्तान

Read more

लीक हुआ ‘मणिकर्णिका’ में कंगना रानौत की तलवारबाज़ी का विडियो

बॉलीवुड में परिवारवाद के खिलाफ आवाज़ उठाने से लेकर हृतिक रोशन से अपने विवादास्पद रिश्ते को लेकर चर्चा में रह

Read more

अब आया ऊंट पहाड़ के नीचे ‘केजरीवाल’ की फाइल पहुंची, मोदी के मेज पर

नई दिल्ली, (राज लक्ष्मी मल्ल) : दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और नरेन्द्र मोदी को लेकर नया मामला सामने आया

Read more

‘राब्ता’ के ट्रेलर में बूढ़े आदमी को नहीं पहचान पाए होंगे आप, अब जान लीजिए कौन है ये

नई दिल्ली, (विनीत सिंह) : हाल ही में बॉलीवुड फिल्म ‘राब्ता’ का ट्रेलर लांच किया गया है जिसमें कृति सैनन

Read more

कर्नाटक के निशाने पर कटप्‍पा, डायरेक्टर ने कटप्‍पा को किया फिल्म से अलग

नई दिल्ली, (राज लक्ष्मी मल्ल) :  बहुचर्चित फिल्म बाहुबली के दूसरे पार्ट यानि ‘बाहुबली – द बिगनिंग’ की रिलीज होने

Read more

64वें राष्ट्रीय पुरस्कार की घोषणा, नीरजा बेस्ट फिल्म और अक्षय बेस्ट एक्टर चुने गए

नई दिल्ली, (प्रवीण कुमार) : हाल ही में 64वें राष्‍ट्रीय पुरस्‍कार की घोषणा कर दी गई है। सोनम कपूर अभिनीत

Read more

विद्या बालन मेहनत ने दी कामयाबी

विद्या बालन उन अभिनेत्रियों में से हैं, जिन्हें विरासत में कुछ नहीं मिला, बल्कि उन्होंने मेहनत की बदौलत कामयाबी हासिल

Read more

अपराध की दुनिया में फंसता बचपन : मासूम या मुजरिम

बदलते परिवेश में बच्चे वक्त से पहले ही ब़डे हो रहे हैं. एक तऱफ वे कम उम्र में तमाम तरह

Read more

जॉली एलएलबी- क़ानून व्यवस्था पर कटाक्ष

फिल्म जॉली एलएलबी भारतीय न्याय व्यवस्था पर एक व्यंग है. इस फिल्म को पत्रकार से फिल्म निर्देशक बने सुभाष कपूर

Read more

मोहम्‍मद रफी : हां, तुम मुझे यूं भुला न पाओगे

बहुमुखी संगीत प्रतिभा के धनी मोहम्मद ऱफी का जन्म 24 दिसंबर, 1924 को पंजाब के अमृतसर ज़िले के गांव मजीठा में हुआ. संगीत प्रेमियों के लिए यह गांव किसी तीर्थ से कम नहीं है. मोहम्मद ऱफी के चाहने वाले दुनिया भर में हैं. भले ही मोहम्मद ऱफी साहब हमारे बीच में नहीं हैं, लेकिन उनकी आवाज़ रहती दुनिया तक क़ायम रहेगी. साची प्रकाशन द्वारा प्रकाशित विनोद विप्लव की किताब मोहम्मद ऱफी की सुर यात्रा मेरी आवाज़ सुनो मोहम्मद ऱफी साहब के जीवन और उनके गीतों पर केंद्रित है.

Read more

मैरी कॉम पर आधारित फिल्‍म जोड़ पाएगी दिलों की?

मणिपुर में पीपुल लिबरेशन आर्मी (पीएलए) की राजनीतिक शाखा रिबोल्यूशनरी पीपुल्स फ्रंट (आरपीएफ) ने हिंदी फिल्मों के प्रदर्शन और हिंदी चैनल पर हिंदी फिल्मों के प्रसारण पर सितंबर 2000 से प्रतिबंध लगाया हुआ है. उनका मानना है कि हिंदी फिल्में मणिपुरी कल्चर को बिगाड़ती हैं. इससे यहां के लोगों की मानसिकता दूषित होती है. इसी प्रतिबंध के कारण 15-18 अप्रैल, 2012 को इंफाल में आयोजित इंटरनेशनल सोर्ट फिल्म फेस्टिवल में 18 हिंदी फिल्मों को नहीं दिखाया गया था.

Read more

ए के हंगल हिंदी सिनेमा का रौशन सितारा

यादगार चरित्र, सशक्त अभिनय और बेमिसाल संवाद अदायगी के लिए पहचाने जाने वाले एके हंगल फिल्मी दुनिया का एक ऐसा सितारा थे, जिसकी चमक से यह दुनिया बरसों तक रौशन रही. वह पहले भी कलाकारों के लिए प्रेरणा स्रोत थे और आगे भी रहेंगे. अवतार किशन हंगल यानीएके हंगल का जन्म एक फरवरी, 1917 में पाकिस्तान के स्यालकोट में कश्मीरी ब्राह्मण परिवार में हुआ. जब वह चार साल के थे, तब उनकी मां का साया उनके सिर से उठ गया.

Read more

फिल्‍मों में लोक संगीत

भारत गांवों का देश है. गांवों में ही हमारी लोक कला और लोक संस्कृति की पैठ है. लेकिन गांवों के शहरों में तब्दील होने के साथ-साथ हमारी लोककलाएं भी लुप्त होती जा रही हैं. इन्हीं में से एक है लोक संगीत. संगीत हमारी ज़िंदगी का एक अहम हिस्सा बन चुका है. संगीत के बिना ज़िंदगी का तसव्वुर करना भी बेमानी लगता है. संगीत को इस शिखर तक पहुंचाने का श्रेय बोलती फिल्मों को जाता है.

Read more

अ़खबारों से ग़ायब होता साहित्य

साहित्य समाज का आईना होता है. जिस समाज में जो घटता है, वही उस समाज के साहित्य में दिखलाई देता है. साहित्य के ज़रिये ही लोगों को समाज की उस सच्चाई का पता चलता है, जिसका अनुभव उसे खुद नहीं हुआ है. साथ ही उस समाज की संस्कृति और सभ्यता का भी पता चलता है. जिस समाज का साहित्य जितना ज़्यादा उत्कृष्ट होगा, वह समाज उतना ही ज़्यादा सुसंस्कृत और समृद्ध होगा.

Read more

फिल्‍मों में देशभक्ति

स्‍वतंत्रता दिवस नेशनल हॉलिडे यानी राष्ट्रीय अवकाश का दिन है. सुबह को झंडा फहराने के बाद यह दिन भी आम छुट्टियों की तरह मान लिया गया है. इस दिन परिवार के साथ फिल्में देखना एक अच्छा ऑप्शन बन गया है. हर साल स्वतंत्रता दिवस पर फिल्म रिलीज होती है. बॉलीवुड इस मौक़े को खूब भुनाता है. महंगी से महंगी, मनोरंजन की दृष्टि से अच्छी या औसत फिल्में इस दिन रिलीज होती हैं और कारोबार का फायदा निर्देशक उठा लेते हैं.

Read more

दिल ढूंढता है फिर वही फुर्सत के रात-दिन

भारतीय सिनेमा में कई ऐसी हस्तियां हुई हैं, जिन्होंने विभिन्न क्षेत्रों में अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाया है. इन्हीं में से एक हैं गुलज़ार. गीतकार से लेकर, पटकथा लेखन, संवाद लेखन और फिल्म निर्देशन तक के अपने लंबे स़फर में उन्होंने शानदार कामयाबी हासिल की. मृदुभाषी और सादगी पसंद गुलज़ार का व्यक्तित्व उनके लेखन में सा़फ झलकता है. आज वह जिस मुक़ाम पर हैं, उस तक पहुंचने के लिए उन्हें संघर्ष के कई प़डावों को पार करना प़डा.

Read more

प्रिया राजवंश : परी कथा सी ज़िंदगी

खूबसूरत और मिलनसार प्रिया राजवंश की ज़िंदगी की कहानी किसी परी कथा से कम नहीं है. पहा़डों की खूबसूरती के बीच पली-ब़ढी एक ल़डकी कैसे लंदन पहुंचती है और फिर वापस हिंदुस्तान आकर फिल्मों में नायिका बन जाती है.

Read more

टॉमी ली जोंस

दो बार ऑस्कर और चार बार एकेडमी अवॉर्ड के लिए नामांकित हुए अमेरिकन अभिनेता और निर्देशक टॉमी ली जोंस को लोग फिल्म मेन इन ब्लैक के एजेंट के रूप में जानते हैं. टॉमी जोंस इस फिल्म की दोनों सीरीज में थे और अब वह मेन इन ब्लैक-3 में भी हैं.

Read more

जरीन की फिटनेस

ज़रीन खान अपनी पहली फिल्म के बाद हुई आलोचनाओं से का़फी दुखी थीं, इसलिए उन्होंने खुद को ज़्यादा फिट कर लिया. उनका कहना है कि आलोचनाओं से तकली़फ हुई थी, लेकिन मैंने उसे सकारात्मक तरीक़े से लिया.

Read more