अब गया में उतरेंगे जम्बो जेट, कार्गो प्लेन और एयर बस

दरभंगा और पूर्णिया में नए हवाई अड्‌डे बनाने से सम्बन्धित मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के हालिया बयान के बाद हवाई यात्रा

Read more

उत्तर प्रदेश में मदरसों पर मठाधीशों की मनमानी, लूट रहे सरकारी धन और ज़कात

उत्तर प्रदेश के ज्यादातर मदरसों की हालत बेहद खराब है. वे आज भी घिसे-पिटे तौर-तरीकों और बाबा आदम के जमाने

Read more

बनल रहे बनारस, मोदी जीते या अखिलेश

नई दिल्ली : ये बनारस के रस का ही कमाल है कि पिछले एक सप्ताह से केन्द्रीय मंत्रिमंडल बनारस में

Read more

प्रधानमंत्री जी, सांसदों की इस खामोशी को समझिए

संसद का मानूसन सत्र कई जानकारियां दे गया. सत्तारूढ़ दल यानी भारतीय जनता पार्टी के भीतर एक गहरा सन्नाटा छाया

Read more

फोटो पत्रकार नेताओं से ज्यादा परेशान रहे

16वीं लोकसभा के लिए हुए आम चुनाव नेताओं के साथ-साथ पत्रकारों के लिए भी थकाने वाला रहा. इस बार फोटोजर्नलिस्टों

Read more

चुनाव प्रचार के अनोखे हथियार

लोकसभा चुनाव जोरों पर है. हाईटेक प्रचार के साथ-साथ कई अन्य दिलचस्प तरीके अपना कर प्रत्याशी इस चुनाव को और

Read more

हवा का रुख नहीं भांप पाने की बेचैनी

उत्तर प्रदेश की 80 लोकसभा सीटों के लिए छोटे-बड़े तमाम दल हाथ-पैर मार रहे हैं. मेरी कमीज तेरी कमीज से

Read more

मंदिरों का शहर वाराणसी

बनारस को मंदिरों का शहर कहा जाता है. यहां कई ऐसे मंदिर हैं, जिनके बारे में यह मान्यता है कि

Read more

फिर एक बार कछुआ और खरगोश : कौन कछुआ कौन खरगोश

अगर आप यह समझते हैं कि राजनाथ सिंह ने बड़ी उदारता से नरेंद्र मोदी को भाजपा की चुनाव प्रचार समिति

Read more

एको अहम की तलाश में द्वितीयोनास्ति

एक समय था, जबकि अख़बारों-पत्रिकाओं में न केवल अक्सर यात्रा वृत्तांत प्रकाशित होते थे, बल्कि पाठक उन्हें बड़े चाव के

Read more

पतितपावनी गंगा : यात्रा की गाथा

हाल में पेंगुइन ने गंगा पर आधारित एक किताब प्रकाशित की है, जिसका नाम है दर दर गंगे. आइए जानते

Read more

न थकेंगे, न झुकेंगे

आखिर अन्ना हज़ारे क्या हैं, मानवीय शुचिता के एक प्रतीक, बदलाव लाने वाले एक आंदोलनकारी या भारतीय राजनीति से हताश लोगों की जनाकांक्षा? शायद अन्ना यह सब कुछ हैं. तभी तो इस देश के किसी भी हिस्से में अन्ना चले जाएं, लोग उन्हें देखने-सुनने दौड़े चले आते हैं? उनकी सभाओं में उमड़ने वाली भीड़ को देखकर कई राजनेताओं को रश्क होता होगा.

Read more

आज भी उतनी ही सुंदर हैं भाग्यश्री

क्रीम कलर के सलवार सूट में जैसे ही वह काले रंग की मर्सिडीज से उतरीं, लोग अपलक उन्हें देखते ही रह गए. वह थीं ही कुछ ऐसी. जी हां, यह और कोई नहीं मैंने प्यार किया की चुलबुली सुमन यानी अभिनेत्री भाग्यश्री थीं. बनारस की धरती पर जब भाग्यश्री ने क़दम रखा, तब उतनी ही खूबसूरत लग रही थीं, जितनी तक़रीबन 22 साल पहले अपनी फिल्म में लगती थीं.

Read more

पूर्वांचल के बुनकरों का दर्दः रिश्‍ता वोट से, विकास से नहीं

केंद्र की यूपीए सरकार से पूर्वांचल के लगभग ढ़ाई लाख बुनकरों को का़फी उम्मीदें थीं. बुनकरों के लिए करोड़ों रुपये के बजट का ऐलान सुनते ही बुनकरों को यक़ीन हो गया कि उनकी हालत अब सुधरने वाली है, लेकिन जब हक़ीक़त सामने आई तो वे खुद को ठगा हुआ महसूस करने लगे.

Read more

बनारस को जानिए-समझिए

आत्म प्रचार और विज्ञापन के इस दौर में भी कुछ लोग ऐसे हैं, जो किसी प्रतिदान की अपेक्षा के बग़ैर चुपचाप निष्ठापूर्वक अपना काम किए जा रहे हैं. ऐसे ही एक शख्स हैं लेखक-पत्रकार कमल नयन. कमल जी के आलेख का़फी पहले साहित्यिक पत्रिका धर्मयुग में प्रमुखता से प्रकाशित होते रहे.

Read more

सियासी चक्की में पिसी हाथ की कारीगरी

बनारस और उसके आस-पास के इला़के के पांच से छह लाख लोग बनारसी साड़ी के कारोबार से जुड़े हैं. इस उद्योग से जुड़े अनिल कुमार के मुताबिक़ बनारसी साड़ी बनाने वाले आधे से अधिक कारीगर काम धंधे की तलाश में पलायन कर गए हैं. जो घर के मोह में बनारस नहीं छोड़ सके, वह ग़रीबी में जीवन यापन करने को मजबूर हैं. वजह भारतीय नारी के सुहाग और श्रृंगार का प्रतीक बनारसी साड़ी का उद्योग संकट के दौर से गुज़र रहा है. इस काम में लगे हज़ारों कारीगरों की माली हालत का़फी खराब हो चली है.
फिरोजाबाद के चूड़ीबनाने वाले कारीगर लगातार मौत के शिकार होते जा रहे हैं. चूड़ी बनाने के दौरान यह कारीगर खतरनाक रासायनिक तत्वों के संपर्क में आते हैं, जिससे वह गंभीर बीमारियों के शिकार हो रहे हैं. इस कार्य में हज़ारों महिलाएं व बच्चे भी लगे हैं. घातक बीमारियां इन्हें भी अपना निशाना बना रही है. चूड़ी उद्योग से जुड़े कारीगरों व मज़दूरों की हर सांस के साथ कांच के महीन कण उनके शरीर के अंदर घुसते जाते हैं, जो अंतत: उन्हें मौत के मुंह में धकेल देता है.

Read more

पुस्‍तक अंशः मुन्‍नी मोबइल- 39

बक्सर गंगा के किनारे बसा है. इसीलिए गंगा यहां के लोगों के जीवन में हर तरह से रची-बसी है. गंगा इस इलाक़े की जीवनदायिनी है. बक्सर में उद्योग-धंधे तो हैं नहीं. गंगा के कारण इलाके की ज़मीन बेहद उपजाऊ है. खेती-किसानी मुख्य पेशा है. आजादी के बाद एक टेक्सटाइल मिल लगी थी.

Read more