सूचना अधिकार : बीपीएल चयन प्रक्रिया में पारदर्शिता कैसे आएगी?

इस अंक में हम एक ऐसी समस्या पर बात कर रहे हैं, जो सीधे-सीधे ग़रीबों के अधिकारों और विकास से

Read more

ग़रीबो को उनका हक़ कैसे मिलेगा?

जिस देश की अधिकांश आबादी ग़रीब हो, वहां यह ज़रूरी हो जाता है कि ग़रीबों से जु़डी योजनाओं को ईमानदारी

Read more

बीपीएल पर फिक्सिंग का साया

संदेहास्पद गतिविधियों में लिप्त होने के कारण एक पाकिस्तानी नागरिक की गिरफ्तारी के बाद बांग्लादेश प्रीमियर लीग (बीपीएल) पर मैच फिक्सिंग के बादल मंडराने लगे हैं. पाकिस्तान के साजिद ख़ान को मीरपुर में चटगांव किंग्स और बारिसाल बर्नर्स के बीच खेले गए मैच के दौरान खिलाड़ियों के क्षेत्र में जाने की कोशिश करते हुए गिरफ्तार किया गया.

Read more

बीपीएल चयन प्रक्रिया की जांच और आरटीआई

जिस देश की 37 फीसदी से ज़्यादा आबादी ग़रीब हो, वहां यह ज़रूरी हो जाता है कि ग़रीबी से जुड़ी योजनाओं को ईमानदारी से लागू किया जाए, लेकिन व्यवहार में अब तक यही देखने को मिला है कि ग़रीबों के विकास के लिए बनाई गईं लगभग सभी योजनाओं में भ्रष्टाचार का बोलबाला रहा है. इस अंक में हम एक ऐसे ही मसले पर बात कर रहे हैं, जो सीधे-सीधे ग़रीबों के अधिकारों और उनके विकास से जुड़ा हुआ है यानी बीपीएल सूची, जिसके आधार पर ग़रीबों को बहुत सी सरकारी योजनाओं का लाभ मिल सकता है.

Read more

बीपीएल चयन प्रक्रिया की जांच कैसे करें

जिस देश की 37 फीसदी से ज़्यादा आबादी ग़रीब हो, वहां यह ज़रूरी हो जाता है कि ग़रीबी से जुड़ी योजनाओं को ईमानदारी से लागू किया जाए, लेकिन व्यवहार में अब तक यही देखने को मिला है कि ग़रीबों के विकास के लिए बनाई गईं लगभग सभी योजनाओं में भ्रष्टाचार का बोलबाला रहा है.

Read more

पारिवारिक सर्वेक्षण सूचीः हजारों लोगों के नाम गायब

कमज़ोर बुनियाद पर ऊंची इमारत की हसरत पूरी नहीं हो सकती. अगर ऐसा होता है तो भविष्य में संकट का भय बना रहता है. हम बात कर रहे हैं सार्वजनिक वितरण प्रणाली के अंतर्गत सरकार द्वारा प्रदत्त उपभोक्ता वस्तुओं के वास्तविक लाभुकों की समस्याओं से.

Read more

इंदिरा आवास योजना ग़रीबों का हक़ है

यह सरकारी सच है. कई दिग्गज नेता यह मान चुके हैं कि केंद्र से चला एक रुपया गांवों तक पहुंचते-पहुंचते 25 पैसा हो जाता है. कुछ नेताओं ने तो यह भी कहा कि यह रक़म दस पैसे में बदल जाती है.

Read more

मनमोहन सिंह से चंद्रशेखर आहत थे : दिग्विजय सिंह

मनमोहन सिंह से चंद्रशेखर बहुत आहत थे. इसका एक बड़ा कारण यह था, क्योंकि चंद्रशेखर जी के प्रधानमंत्रित्व काल में मनमोहन सिंह उनके वित्त सलाहकार थे. पिछले 40 वर्षों में मनमोहन सिंह का भारतीय अर्थनीति के बारे में एक जैसा विचार था. संभवत: यही देखकर चंद्रशेखर जी ने उन्हें अपने वित्तीय सलाहकार के रूप में चुना होगा.

Read more

शीला जी, कैसे जिंदा रहेंगे गरीब

जिस देश के नेताओं पर चारा, खाद, चीनी खा जाने और कोलतार पी जाने तक के आरोप लगते हों, वहां की जनता (अपेक्षाकृत अमीर) अगर ग़रीबों का राशन हड़प ले तो ज़्यादा आश्चर्य नहीं होना चाहिए. लेकिन आश्चर्य तब होता है, जब यह सब कुछ देश की राजधानी यानी दिल्ली में हो रहा हो.

Read more