मुसलमानों को खुश करने में व्यस्त हैं सभी पार्टियां …लेकिन किधर जाएंगे मुसलमान

राजनीति और अंकगणित में एक बुनियादी फ़र्क है. अंकगणित में दो और दो का जोड़ हर हाल में चार ही

Read more

सूक्तियों की कसौटी पर प्रेमचंद

हर साहित्यकार का मूल्यांकन तत्कालीन परिस्थितियों के आधार पर किया जाना चाहिए, लेकिन कुछ अति उत्साही आलोचक आज की सामाजिक

Read more

भागलपुर दंगाः जख्‍म हैं कि भरने का नाम नहीं लेते

21 साल, एक महीना और एक दिन! आप कह सकते हैं, इतना समय कोई भी ज़ख्म भरने के लिए काफी होता है, मगर कुछ ज़ख्म ऐसे होते हैं, जिनके भरने में पीढ़ियां गुजर जाती हैं. बिहार के भागलपुर शहर को भी एक ऐसी ही चोट लगी, जिसके घाव आज भी यहां के बाशिंदों की आंखों से रिसते रहते हैं. दर्द ख़त्म होने का नाम नहीं लेता. कभी मस्ज़िद की अजान से, कभी मंदिरों की घंटियों से तो कभी अदालत के फैसले से यह और भी बढ़ जाता है.

Read more

भागलपुर दंगा न्‍याय के नाम पर अन्‍याय का खेल जारी

दो दशक बीत जाने के बावजूद भागलपुर दंगे के घाव अभी तक नहीं भरे हैं. इस दंगे ने न केवल बिहार, बल्कि यहां की सभ्यता-संस्कृति को भी गहरा आघात पहुंचाया. इसने बिहार के राजनीतिक समीकरण को तितर-बितर करके रख दिया

Read more

सिल्‍क नगरी का सच

चंपानगर (भागलपुर) निवासी मोहम्मद जावेद अंसारी एक बुनकर है. उसके पास ख़ुद का पावरलूम तो है, लेकिन इतना पैसा नहीं कि वह उसे चला सके. इसके अलावा बिजली की समस्या अलग से. नतीजतन, उसके घर की स्थिति दिनोंदिन दयनीय होती जा रही है.

Read more

खतरे में गंगा की डॉल्फिन

भागलपुर के पास बना विक्रमशिला गंगा डॉल्फिन अभ्यारण्य सुल्तान गंज से कहलगांव तक 50 किलोमीटर के क्षेत्र में फैला है. यह एशिया का एकमात्र ऐसा क्षेत्र है, जहां गंगा की विलुप्त हो रही डॉल्फिनों को संरक्षित और बचाने की पहल की गई है.

Read more

यह कैसा सुशासन?

ग्‍यारह फीसदी से ज़्यादा की विकास दर हासिल कर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार फूले नहीं समा रहे हैं. राज्य की अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए तमाम पुरस्कार पाकर वह इतरा रहे हैं. देश भर में इस बात को लेकर उनकी ज़बरदस्त प्रशंसा हो रही है कि बिहार को पटरी पर लाकर उन्होंने ऐतिहासिक काम किया है.

Read more