‘सोनू निगम’ का नया ट्वीट, इस बात पर मांग सकते हैं मांफी

नई दिल्ली, (राज लक्ष्मी मल्ल) : सोनू निगम ने कल सुबह अपने ट्वीटर पर सुबह मस्जिद में होने वाले अजान

Read more

साजिद-वाजिद ने सुनाई खरी खोटी तो, सोनू बोले ‘मुस्लिम बनने से पहले देश के नागरिक बनो’

नई दिल्ली, (राज लक्ष्मी मल्ल) : सोनू निगम ने कल सुबह अपने ट्वीटर पर सुबह मस्जिद में होने वाले अजान

Read more

सोनू निगम को सलमान खान के करीबियों का जवाब, ज्यादा ड्रग्स लेने से…

नई दिल्ली, (राज लक्ष्मी मल्ल) : सोनू निगम ने कल सुबह अपने ट्वीटर पर सुबह मस्जिद में होने वाले अजान

Read more

सिंगर अभिजीत की राह पर सोनू निगम, अजान पर की आपत्तिजनक टिप्पणी

नई दिल्ली, (राज लक्ष्मी मल्ल) : मशहूर सिंगर सोनू निगम ने आज सुबह मस्जिद में होने वाली अजान पर एक

Read more

सदगुरु का सानिध्य

शिरडी में प्रत्येक रविवार को बाज़ार लगता है. निकटवर्ती ग्रामों से लोग आकर वहां रास्तों पर दुकानें लगाते और सौदा

Read more

श्रीमती तर्खड और साई बाबा

एक बार श्रीमती तर्खड ने तीन वस्तुएं यानी भरित (भुर्ता यानी मसाला मिश्रित भुना हुआ बैगन और दही), काचर्या (बैगन के गोल टुकड़े घी में तले हुए) और पेड़ा (मिठाई) बाबा के लिए भेजीं. बाबा ने उन्हें किस प्रकार स्वीकार किया, अब इसे देखेंगे. बांद्रा के श्री रघुवीर भास्कर पुरंदरे बाबा के परम भक्त थे.

Read more

साई बाबा और संस्कृत ज्ञान

बात उन दिनों की है, जब शिरडी में द्वारकामाई मस्जिद में भीड़ बहुत अधिक नहीं लगती थी. उन दिनों किसी को विश्वास नहीं होता था कि साई बाबा संस्कृत के प्रकांड पंडित हैं. उनके परम प्रिय भक्त नाना साहब चांदोरकर संस्कृत बहुत अच्छी तरह जानते थे.

Read more

त्योहारों का समन्वय

साई बाबा का उद्देश्य हिंदुओं और मुसलमानों के बीच सद्‌भाव और समन्वय स्थापित करना जान पड़ता है. यही कारण रहा होगा कि वह रहते तो थे मस्जिद में, पर उसका नाम उन्होंने द्वारका माई रखा था.

Read more

गोपालगढ़ हत्याकांड : लाशें सड़ती रही, लेकिन इंसाफ नहीं मिला – मामले की सच्चाई क्या है

यह भरतपुर का गोपालगढ़ है, जिसकी मस्जिद की दीवार पर गोलियों के निशान हैं. पूरी मस्जिद इस समय छावनी बनी हुई है. पुलिसकर्मी जूता पहने घूम रहे हैं. मस्जिद के मेहराबों और इमाम के नमाज़ पढ़ाने की जगह पर गोलियों के निशान हैं.

Read more

भविष्यवाणी निरस्त

नाना साहब डेंगले नामक एक बड़े ज्योतिषी ने एक दिन बापू साहब बूटी से कहा, आज का दिन आपके लिए अशुभ और अनिष्टकारी है. आज आपके जीवन को खतरा है. यह भविष्यवाणी सुनकर बापू साहब बूटी बहुत बेचैन हो गए.

Read more

सभी में एक ही प्राण

एक बार साई बाबा मस्जिद में बैठे थे. उनके सामने एक भक्त बैठा था. उसी समय मस्जिद की दीवार पर एक छिपकली ने चिक-चिक की आवाज़ की. उस भक्त ने साई बाबा से जिज्ञासावश पूछा कि छिपकली की यह आवाज़ शकुन की है या अपशकुन की?

Read more

सारा माल लूटकर सरकार कहती है मुसलमान दलितों से भी पिछडे़ हैं

भारत पर मुसलमानों ने लगभग 800 सालों तक शासन किया. इस दौरान कहीं पर उन्होंने क़िले बनवाए तो कहीं सरायख़ाने, कहीं मस्जिदें बनवाईं तो कहीं बाव़िडयां. इन मुस्लिम बादशाहों की गंगा-जमुनी तहज़ीब से भला कौन वाक़िफ़ नहीं है.

Read more

आस्था है तो सब कुछ है

काका साहेब दीक्षित के भ्राताश्री भाई जी नागपुर में रहते थे. जब वह 1906 में हिमालय गए थे, तब उनका गंगोत्री घाटी के नीचे हरिद्वार के समीप उत्तर काशी में सोमदेव स्वामी से परिचय हो गया. दोनों ने एक दूसरे के पते लिख लिए. पांच वर्ष पश्चात सोमदेव स्वामी नागपुर आए और भाई जी के यहां ठहरे.

Read more

विश्वास और महिमा

एक बार गोवा के एक मामलतदार ने, जिनका नाम राले था, लगभग 300 आमों का एक पार्सल शामा के नाम शिरडी भेजा. पार्सल खोलने पर प्रायः सभी आम अच्छे निकले. भक्तों में उनके वितरण का कार्य शामा को सौंपा गया

Read more

बाबा का समभाव

वर्ष 1911 में एक भक्त कृष्णराव जोगेश्वर भीष्म (श्री साई सगुणोपासना के लेखक) अमरावती के दादा साहेब खापर्डे के साथ मेले के एक दिन पूर्व शिरडी के दीक्षित वाड़े में ठहरे. जब वह दालान में लेटे हुए विश्राम कर रहे थे, तब उन्हें एक कल्पना सूझी. उसी समय लक्ष्मणराव उर्फ काका महाजनी पूजन सामग्री लेकर मस्जिद की ओर जा रहे थे.

Read more

बाबा और हज यात्रा

एक मुसलमान सिद्दीकी की बड़ी इच्छा थी कि किसी तरह वह पवित्र तीर्थ मक्का-मदीना की यात्रा पर जाए, लेकिन उसकी आर्थिक स्थिति ऐसी न थी कि वह हज के लिए पैसा इकट्ठा कर पाता. वह प्रतिदिन द्वारिका माई मस्जिद में पौधों को पानी देता था. बाबा की धूनी के लिए भी जंगल से लकड़ियां काटकर लाता था, इस आशा से कि कभी साई बाबा की कृपा उस पर हो जाए और वह हज की मुराद पूरी कर दें.

Read more

बाबा की परीक्षा और ब्रह्म ज्ञान

साई बाबा की प्रसिद्धि बहुत दूर-दूर तक फैल गई थी. शिरडी से बाहर के लोग भी उनके चमत्कार के विषय में जानकर प्रभावित हुए बिना नहीं रह सके. वह साई बाबा के चमत्कारों के बारे में जानकर श्रद्धा से नतमस्तक हो उठते थे. एक पंडित जी को छोड़कर शिरडी में उनका दूसरा कोई विरोधी और उनके प्रति अपने मन में ईर्ष्या रखने वाला न था.

Read more

दयालू साई बाबा

साई बाबा खाना खाने के बाद अपने भक्तों से वार्तालाप कर रहे थे कि अचानक सारंगी के सुरों के साथ तबले पर पड़ी थाप से मस्जिद की गुम्बदें और मीनारें गूंज उठीं. सब लोग चौंक उठे. दूसरे ही क्षण मस्जिद के दालान में सारंगी के सुरों और तबले की थापों के साथ घुंघरुओं की रुनझुन भी गूंज उठी. सभी शिष्य एक रूपसी नवयौवना की ओर देखने लगे.

Read more

प्यार की रोटी

शिरडी में रहते हुए एक बार बाबा साहब की पत्नी श्रीमती तर्खड दोपहर के समय खाना खाने बैठी थीं, तभी दरवाजे पर एक भूखा कुत्ता आकर भौंकने लगा. श्रीमती तर्खड ने अपनी थाली में से एक रोटी उठाकर उस कुत्ते के सामने डाल दी, कुत्ता उस रोटी को बड़े प्रेम से खा गया. उसी समय वहां कीचड़ से सना हुआ एक सूअर आया तो उन्होंने उसे भी रोटी दे दी.

Read more

बाबा और हेमाड पंत का सबक

सुबह, दोपहर और शाम, तीन समय बाबा की आरती होती थी और बाबा के दर्शन के लिए भक्तों की भीड़ लगी रहती थी. ठीक उसी समय मस्जिद में घंटी बजने लगी. बाबा के भक्त रोज़ाना दोपहर को बाबा की पूजा और आरती करते थे, यह घंटी दोपहर की जा-आरती की सूचक थी.

Read more