Alart: अगले 72 घंटों में मौसम में होगा फेर बदल, जोरदार बारिश के साथ आएगा तूफान

इन दिनों मौसम को लेकर आए दिन खबरें गर्म होती रह रही हैं. ऐसे में एक बार फिर मौसम विभाग

Read more

फिल्मी गीतों में महकी साहित्य की खुशबू

गीतकार शैलेंद्र ने फिल्मों में भी साहित्य की महक को बरक़रार रखा, इसलिए काव्य प्रेमियों ने उन्हें गीतों का राजकुमार कहा है. शैलेंद्र मन से कवि ही थे, तभी तो उनके फिल्मी गीतों में भी काव्य की पावन गंगा बहती है. उनसे प्रभावित होकर उपन्यासकार फणीश्वर नाथ रेणु ने उन्हें कविराज का खिताब दिया था. मुंबई के शैलेंद्र प्रशंसक परिवार ने उनकी याद में एक किताब प्रकाशित की है, जिसका नाम है मौसम सुहाना और ये मौसम हसीं.

Read more

किस बात की चेतावनी दे रहा है कोहरा? उफ, ये कोहरा!

पिछले का़फी समय से मौसम का मिज़ाज लगातार बदल रहा है. पृथ्वी के किसी क्षेत्र में बहुत अधिक बाढ़ आ रही है, कहीं बहुत अधिक तू़फान आ रहे हैं, तो कहीं बहुत अधिक ठंड व गर्मी पड़ने लगी है. भारत में भी यह असर बाढ़, सूखे व ठंड में तीव्रता के रूप में देखा जा सकता है. उत्तरी भाग में सबसे अधिक तीक्ष्ण प्रभाव यहां की कष्टप्रद सर्दी है.

Read more

पीलिया और मकोय की पत्ती

अगर आप अंग्रेजी और अन्य तरह की दवाइयों के इलाज के बावजूद पीलिया से छुटकारा न पा सके हों तो आपके लिए यह एक अच्छी ख़बर है. पीलिया का आयुर्वेद में अचूक इलाज है. मौसम बदलने के साथ ही पीलिया का प्रकोप बढ़ रहा है.

Read more

लद्दाख का बदलता पर्यावरण

प्रदूषण वायु, जल और धरती की भौतिक, रासायनिक और जैविक विशेषताओं का एक ऐसा अवांछनीय परिवर्तन है, जो जीवन को हानि पहुंचा सकता है. दुनिया भर में हो रहे तथाकथित विकास की प्रक्रिया ने प्रकृति एवं पर्यावरण के सामंजस्य को झकझोर दिया है. इस असंतुलन के चलते लद्दा़ख जैसे सुंदर क्षेत्र भी प्रदूषण जैसी समस्या से प्रभावित हुए हैं.

Read more

पश्चिम बंगालः नया इतिहास गढ़ने की तैयारी

चुनावी मौसम में मुद्दों का क़ब्रिस्तान खोद डालने का रिवाज नया नहीं है और जब मुक़ाबला ऐतिहासिक रूप से कांटे का हो तो उन मुर्दों के कंकाल से विरोधियों को डराने की कोशिश भी होती रही है.

Read more

परिधानों से मानवता का संदेश

मौसम कोई भी हो, युवाओं का पसंदीदा परिधान वही होता है, जिसमें वे कंफर्टेबल महसूस करते हैं. ज्यादातर युवा, चाहे वे लड़कियां हों या लड़के, टी-शर्ट एवं जींस पहनना पसंद करते हैं. युवाओं की इसी पसंद को ध्यान में रखते हुए कॉटनवर्ल्ड ब्रांड ने टी-शट्‌र्स की एक खास रेंज बाजार में उतारी है. बीइंग ह्यूमन सीरीज की उक्त टी-शट्‌र्स दरअसल कुछ मानवीय कारणों से लोगों के बीच उपलब्ध कराई गई हैं.

Read more

पुस्‍तक अंश: मुन्‍नी मोबाइल-50

रेखा चिटणीस भी आनंद भारती की बात को बढ़ाते हुए कहती हैं, असल में कार्बन उत्सर्जन के नाम पर कुछ देश ग़रीब देशों को उससे रोकने के नाम पर टेक्नोलॉजी बेचकर अपनी जेब भरना चाहते हैं. अभी तक मौसम विज्ञान कोई भी सही भविष्यवाणी करने की स्थिति में नहीं आया है. यदि ऐसा होता तो सुनामी की सूचना पहले से होती और उसमें हज़ारों लोगों को बचाया जा सकता था.

Read more

सूख रहा धान का कटोरा

एक कहावत है, उचित समय और मौसम देखकर बंजर भूमि भी सोना उगलने लगती है. इसके विपरीत सदियों से सोना उगलने वाली शाहाबाद की धरती इस बार नाकाम साबित हो रही है. इंद्रदेव के कोप से यहां की भूमि बंजर होने के क़रीब है.

Read more

निक‍ के रेनकोट्स

आप चिंता कर रहे होंगे कि बारिश का मौसम आने वाला है और तब आपका बाहर निकलना मुश्किल हो जाएगा. खासकर जब बच्चे साथ होंगे. इसलिए जरूरी है कि आप इसके लिए पहले से इंतजाम कर लें. बच्चों के लिए तो व्यवस्था हो चुकी है

Read more

जल संकट से जनता बेहाल

मध्य प्रदेश में भीषण जानलेवा गर्मी पड़ रही है. दोपहर में तो लगता है जैसे हवा आग बरसा रही हो. राज्य में इन दिनों कहीं भी दिन का तापमान 40 डिग्री सेल्सियस से कम नहीं है. निमाड़, मालवा और बुंदेलखंड में तो कहीं-कहीं तापमान 45 डिग्री से ऊपर तक पहुंच जाता है. ऐसे गर्म मौसम में पूरे राज्य में जल संकट जनता के लिए सबसे बड़ी मुसीबत बन गया है.

Read more

बांग्‍लादेश ग्‍लोबल वार्मिंग से निबटने की तैयारी

बांग्लादेशी समाज का तक़रीबन हर तबका सरकारी तंत्र, नागरिक संस्थाएं और देश के प्रमुख विश्वविद्यालय, पर्यावरण पर मची हलचल को लेकर कौतूहल में हैं. सबकी निगाहें इसी पर टिकी हैं कि अब आगे क्या होने वाला है. इस साल की शुरुआत से ही देश भर में इस विषय पर सभा-सेमिनारों की संख्या लगातार ब़ढ रही है.

Read more

पान किसानों पर मौसम की मार

लबों की शान बने बुंदेली पान की खेती उत्तर प्रदेश के ललितपुर, झांसी एवं महोबा और मध्य प्रदेश के सागर, छतरपुर एवं टीकमगढ़ आदि जनपदों में होती है. उत्पादन नगरी पाली ललितपुर में पान की खेती करने वाले किसान आज सरकारी उदासीनता और मौसम की बेरुख़ी के कारण उजाड़ ज़िंदगी जीने को अभिशप्त हैं.

Read more