समस्या से बयान पैदा होता है बयान से कोई समस्या नहीं है

देश की आर्थिक स्थिति चिंताजनक है. इसके दो-तीन मूल कारण हैं. एक तो अब ये सर्वविदित हो गया है कि

Read more

कश्मीर पर भारत का क़ब्ज़ा सिर्फ ताक़त का मुज़ाहिरा है

जब कोई पत्थर चलाता है तो उसके बदले में गोलियां चलाने का क्या मतलब है? आज भी यहां (कश्मीर में)

Read more

जब तोप मुकाबिल हो : प्रार्थना कीजिए, सब कुछ अच्छा हो

कांग्रेस सबसे अच्छी स्थिति में है. भारतीय जनता पार्टी की अंतर्कलह ने उसे नया जीवनदान दे दिया है. महंगाई, भ्रष्टाचार, बेरोज़गारी एवं

Read more

कांग्रेस से ज्यादा भ्रष्ट है भाजपा

देश की मुख्य विपक्षी पार्टी भाजपा की मौजूदा हालत किसी से छिपी नहीं है. संगठन के अंदरखाने चल रही उठापटक

Read more

सीएजी, संसद और सरकार

आज़ादी के बाद से, सिवाय 1975 में लगाए गए आपातकाल के, भारतीय लोकतांत्रिक संस्थाएं और संविधान कभी भी इतनी तनाव भरी स्थिति में नहीं रही हैं. श्रीमती इंदिरा गांधी ने संविधान के प्रावधान का इस्तेमाल वह सब काम करने के लिए किया, जो सा़फ तौर पर अनुचित था और अस्वीकार्य था. फिर भी वह इतनी सशक्त थीं कि आगे उन्होंने आने वाले सभी हालात का सामना किया. चुनाव की घोषणा की और फिर उन्हें हार का सामना करना पड़ा.

Read more

नितिन गडकरी का एजेंडा

नितिन गडकरी ने भाजपा की कमान ऐसे वक्‍त में संभाली है, जब यह पार्टी कई स्‍तर पर, कई दिशाओं से बिखर रही है। बिखराव की सबसे बड़ी वजह संघ और भाजपा के रिश्‍तों को लेकर है। भाजपा पर किसका अधिकार हो, इस बात को लेकर भारतीय जनता पार्टी दो धड़ों में बंटी है।

Read more