मिशन 2020

भारत ने लंदन ओलंपिक में 2 रजत और 4 कांस्य पदक जीतकर आज तक का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया. अच्छे प्रदर्शन के बावजूद सबके सामने एक बड़ा प्रश्न है कि सवा अरब की आबादी वाला देश महज़ 6 ओलंपिक पदक ही जीत पाया. लेकिन क्या आबादी मेडल जीतने का सही पैमाना हो सकती है. क्या यह संभव है कि हर देश अपनी आबादी के हिसाब से ओलंपिक पदकों पर क़ब्ज़ा कर सके.

Read more

थोड़ा है थोड़े की जरूरत है

लंदन ओलंपिक का आखिरी दिन. सोने के लिए भारत की आखिरी उम्मीद. पहलवान सुशील कुमार रिंग में थे. और टीवी से चिपके करोड़ों भारतीय मानो उन्माद की अवस्था में. सभी को जापानी पहलवान के आते ही लगा, अब तो सोना पक्का. वजह, सुशील कुमार के आगे उस जापानी पहलवान का कमज़ोर डीलडौल. लेकिन यह उन्माद, यह सोच पहले ही राउंड में ध्वस्त हो गई.

Read more

ऐसे बनते हैं बोल्‍ट

कुछ साल पहले अगर आपसे पूछा जाता कि दुनिया के सबसे तेज़ दौड़ने वाले किस देश के होते हैं, तो शायद आप ठीक-ठीक जवाब नहीं दे पाते. लेकिन लगातार दो ओलंपिक में उसैन बोल्ट और शैली आन फ्रेजर की तेज़ी को महसूस करने के बाद सबके लिए यह बताना आसान हो गया है कि दुनिया में सबसे त़ेज इंसान (पुरुष/महिला) जमैका में मिलते हैं. दुनिया के ऩक्शे पर जमैका जैसे देश को ढूंढ पाना आसान नहीं है.

Read more

भारत की उम्मीदें फिर टूटीं

भारतीय मुक्केबाज़ों का क्यूबा के हवाना में चल रही गिराल्डो कोर्दोवा कार्डिन मेमोरियल मुक्केबाज़ी प्रतियोगिता में स्वर्ण पदक जीतने का सपना पूरा नहीं हो सका और उन्हें केवल एक रजत और पांच कांस्य पदकों के साथ संतोष करना पड़ा. भारत के छह मुक्केबाज़ सेमीफाइनल में पहुंचे थे लेकिन इनमें से कोई भी स्वर्ण पदक जीतने में सफल नहीं हो सका.

Read more

सैफ गेम्‍स में भारत का जलवा कायम

औली में आयोजित सैफ विंटर गेम्स की स्कीइंग प्रतिस्पर्धाओं में भी भारतीय खिलाडि़यों का जलवा कायम रहा. भारत के भाल हिमालय की कोख में बसे औली की बर्फीली ढ़लानों पर पहले दक्षिण एशियाई शीत कालीन खेलों के दूसरे चरण की शानदार शुरुआत हुई.

Read more

नायकों को सलामः सोना मिला, सोने जैसे खिलाड़ी भी

38 स्वर्ण, 27 रजत और 36 कांस्य यानी कुल 101 पदक. यह है 19वें राष्ट्रमंडल खेल में भारत की तस्वीर. खेलों के आठ दशकों के इतिहास में पहली बार भारत ने राष्ट्रमंडल खेल में दूसरा स्थान हासिल किया. शानदार प्रदर्शन और खेलों के सफल आयोजन का सेहरा अपने-अपने सिर बांधने की प्रतिस्पर्धा में शीला दीक्षित और सुरेश कलमाडी की ज़ुबान थक नहीं रही है, लेकिन हम आपको इस सबसे एक अलग कहानी बताते हैं.

Read more

मणिपुरः इंडिया का स्‍पोर्ट्सवेल्‍थ

राष्ट्रमंडल खेलों में मणिपुर का जलवा सबने देखा. जिस अंदाज़ में इस राज्य के खिलाड़ियों ने पदक पर पदक जीते, उसे देखते हुए इस राज्य को स्पोर्ट्‌स का पावर हाउस कहना ग़लत नहीं होगा. भले ही मणिपुर आतंकवाद और अभावों से ग्रस्त हो, फिर भी देश की शान बढ़ाने में यहां के खिलाड़ियों ने कोई कोर-कसर बाक़ी नहीं रखी.

Read more

भारतीय खेलों पर डोपिंग का साया

पहले भारोत्तोलन और अब कबड्डी. यह डोपिंग है कि भारत में खेलों का पीछा छोड़ने का नाम ही नहीं ले रहा. व्यक्तिगत स्पर्द्धा वाले खेलों के किसी भी बड़े टूर्नामेंट से पहले जांच परीक्षणों में भारतीय खिलाड़ियों के पकड़े जाने की खबरें अब आम बनती जा रही हैं.

Read more

राज्यवर्धन राठौर कॉमन वेल्थ गेम्स से बाहर

ओलंपिक खेलों में पदक की क्या अहमियत होती है, यह हम भारतीयों से ज्यादा शायद ही कोई और जानता हो. सवा अरब की जनसंख्या वाला हमारा देश हॉकी के स्वर्णिम युग की समाप्ति के बाद से अक्सर अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिताओं से खाली हाथ ही लौटता रहा है.

Read more