जब अटल बिहारी वाजपेयी ने कहा था- मैं राजीव गांधी की वजह से जिंदा हूं

एक तरफ राजनीति में जहां विरोधी नेता एक-दूसरे को फूंटी आंख नहीं सुहाते, वहीं सभी दलों के नेताओं से व्यक्तिगत

Read more

गांधी-नेहरू को ‘कचरा’ कह बुरे फंसे बीजेपी सांसद

रविवार को असम के बीजेपी सांसद कामाख्या प्रसाद तासा अपने बातों की वजह से विवादों में फंस गए हैं. प्रसाद

Read more

कांग्रेस का एक और झांसा : आदिवासियों के लिए भी कमेटी का गठन

चुनावी वादे करके वोट बटोरने में कांग्रेस को महारत हासिल है. कांग्रेस ने अतीत में भी रंगनाथ मिश्रा आयोग और

Read more

वी सी शुक्ल मिलनसार शख्स और कुशल राजनीतिज्ञ थे

नक्सली हमले में गंभीर रूप से घायल हुए वयोवृद्ध कांग्रेसी नेता विद्याचरण शुक्ल का पिछले दिनों निधन हो गया. वह

Read more

उत्तर प्रदेश- सुल्तानपुर में होगी वरुण की परीक्षा

खबर है कि संजय गांधी के पुत्र वरुण गांधी इस बार सुल्तानपुर संसदीय सीट से अपनी क़िस्मत आजमाएंगे. अगर ऐसा

Read more

राजेश खन्ना: क़िस्मत से मिली कामयाबी

हिंदी सिनेमा के पहले सुपर स्टार राजेश खन्ना अब हमारे बीच नहीं हैं, लेकिन अपने सशक्त अभिनय के ज़रिये उन्होंने कामयाबी

Read more

यह खामोशी देश के लिए खतरनाक है

कोयला घोटाला अब स़िर्फ संसद के बीच बहस का विषय नहीं रह गया है, बल्कि पूरे देश का विषय हो गया है. सारे देश के लोग कोयला घोटाले को लेकर चिंतित हैं, क्योंकि इसमें पहली बार देश के सबसे शक्तिशाली पद पर बैठे व्यक्ति का नाम सामने आया है. मनमोहन सिंह कोयला मंत्री थे और यह फैसला चाहे स्क्रीनिंग कमेटी का रहा हो या सेक्रेट्रीज का, मनमोहन सिंह के दस्तखत किए बिना यह अमल में आ ही नहीं सकता था.

Read more

प्रणब मुखर्जी सफल राष्ट्रपति साबित होंगे

हिंदुस्तान की राजनीति में इंदिरा जी की हत्या के बाद प्रणब मुखर्जी का एक विशेष स्थान रहा. जब इंदिरा जी की हत्या हुई तो प्रणब मुखर्जी और राजीव गांधी दोनों दिल्ली से बाहर थे. न केवल बाहर थे, बल्कि दोनों साथ थे. वापस लौटते हुए जब बातचीत हुई कि अगला प्रधानमंत्री कौन बनेगा, क्योंकि इंदिरा जी की हत्या हो गई है और उनकी लाश दिल्ली में रखी हुई है तो प्रणब मुखर्जी ने लोगों से कहा कि मैं ही सबसे वरिष्ठ हूं और मुझे ही प्रधानमंत्री बनना चाहिए.

Read more

बोफोर्स का पूरा सच

बोफोर्स का जिन्न एक बार फिर बाहर आया है, लेकिन स़िर्फ धुएं के रूप में. चौथी दुनिया ने बोफोर्स कांड की एक-एक परत को खुलते हुए क़रीब से देखा है और हर एक परत का विश्लेषण पाठकों के समक्ष रखा है. अभी स्वीडन के पूर्व पुलिस प्रमुख का एक बयान आया है, जिसमें कहा गया है कि अमिताभ बच्चन और राजीव गांधी ने बोफोर्स में रिश्वत नहीं ली थी.

Read more

दिमाग की खिड़कियां-दरवाजे खोलिए, वक्‍त बहुत कम है

शरीर के अंग जब कमज़ोर हो जाएं तो उन्हें बाहर से विटामिन की ज़रूरत होती है और कभी-कभी जब वे अंग बिल्कुल ही काम नहीं करते तो बहुत ही कड़े बाहरी तत्व की ज़रूरत होती है, जिसे हम लाइफ सेविंग ड्रग्स कहते हैं. अगर हार्ट सींक करने लगे तो कोरामीन देते हैं, बाईपास सर्जरी होती है.

Read more

राहुल गांधी को हार से सबक लेना चाहिए

बजट आ चुका है और उत्तर प्रदेश के चुनाव परिणाम भी. प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने स्वीकार किया है कि सहयोगी दलों द्वारा रोड़े अटकाए जाने के कारण वह कोई कठोर निर्णय नहीं ले पाते हैं. अगर कांग्रेस को आने वाले चुनाव में बेहतर प्रदर्शन करना है तो उसे पुनर्विचार करना होगा कि राहुल गांधी को फिर से मौक़ा दिया जाए या फिर अपनी रणनीति बदली जाए.

Read more

फांसी और दया याचिका: विशेषाधिकार के गले में सियासी फंदा

राजस्थान के बंसवाड़ा ज़िले की एक घटना है. 6 मई, 1993 को गढ़ी तहसील के नोखला गांव का राव जी उर्फ रामचंद्र अपनी पत्नी, तीन बच्चों और एक पड़ोसी की हत्या कर देता है. मामला ज़िला अदालत पहुंचता है, जहां उसे फांसी की सज़ा सुनाई जाती है. फिर हाईकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट में भी यह सज़ा बरक़रार रहती है. दो से ढाई सालों के बीच राव जी का मामला ज़िला अदालत से लेकर उच्चतम न्यायालय तक पूरा हो जाता है.

Read more

कांग्रेस और रामदेव आमने-सामने

भारत की राजनीति का यह अजीबोग़रीब दौर है. संत राजनीति कर रहे हैं और राजनीतिक दल संतों की तरह बर्ताव कर रहे हैं. संत से मतलब मौन धारण करना है. ऐसा पहली बार देखा जा रहा है कि किसी पार्टी पर भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप लगाए जा रहे हैं, देश भर में रैलियां करके राजनेताओं के ख़िला़फ आग उगली जा रही है और देश चलाने वाली पार्टी चुप्पी साधकर सब कुछ सुन कर रही है.

Read more

बोफोर्स का पूरा सच

भारत में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सबसे मशहूर रहे कांड का नाम बोफोर्स कांड है. इस कांड ने राजीव गांधी सरकार को दोबारा सत्ता में नहीं आने दिया. वी पी सिंह की सरकार इस केस को जल्दी नहीं सुलझा पाई और लोगों को लगा कि उन्होंने चुनाव में बोफोर्स का नाम केवल जीतने के लिए लिया था.

Read more

सवालों के घेरे में सोनिया की जीवनी

अभी कुछ दिनों पहले की बात है, जब स्पेनिश लेखक जेवियर मोरो की किताब द रेड साड़ी को लेकर कांग्रेस के नेताओं ने अच्छा-खासा बवाल मचाया था. दरअसल मोरो की यह किताब कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के जीवन पर आधारित है.

Read more

प्रियंका गांधी कांग्रेस की आंधी

कांग्रेस पार्टी प्रियंका गांधी को बिहार के चुनावी दंगल में उतारने वाली है. कांग्रेस के चुनाव प्रचार में प्रियंका का सबसे अहम रोल होगा. चुनाव से पहले और चुनाव प्रचार के दौरान प्रियंका के बिहार दौरे की तैयारी शुरू हो गई है. बिहार के पार्टी संगठन का जायज़ा लिया जा रहा है, जिसके बाद यह तय होगा कि वह किस ज़िले में कब जाएंगी.

Read more