किसानों के लिए गूंगी-बहरी है सरकार, न मांगें सुनती है न बदहाली देखती है

पिछले कुछ समय से देश के अलग-अलग हिस्सों में किसान आन्दोलन उठते रहे हैं. इन सभी किसान आन्दोलनों की प्रमुख

Read more

स्मार्ट सिटी में शामिल हुआ लखनऊ, वाराणसी समेत यूपी के 13 और शहर होंगे स्मार्ट : स्मार्ट सिटी बनाम स्मार्ट पॉलिटी

2017 के विधानसभा चुनाव में प्रवेश करते हुए उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ का स्मार्ट सिटी के रूप में बदलने

Read more

नहीं रहे डायलॉग डॉन प्राण : आत्मविश्‍वास से भरपूर एक कलाकार

93 साल की उम्र में पिछले दिनों महान फिल्म अभिनेता प्राण की मृत्यु हो गई. आइए, जानते हैं प्राण के

Read more

आज़म ख़ां की नई राजनीतिक चाल झूठे नवाबों, रामपुर छोड़ो!

रामपुर को नवाबों ने बसाया था, इसीलिए लोग इस शहर को आज भी नवाबों के रामपुर के नाम से जानते

Read more

आजम सपा में पर मुसलमान कहां

समाजवादी पार्टी में वापसी के बाद आजम खान ने भले ही अमर सिंह पर निशाना साधा हो, लेकिन उन्हें अब यह भी साबित करना होगा कि उत्तर प्रदेश के मुसलमान आज कहां और किसके साथ खड़े हैं. राजनीति में दोस्ती-दुश्मनी का खेल चलता रहता है, जिसके नफे-ऩुकसान को आम मतदाता, खासतौर पर मुस्लिम समाज अच्छी तरह से समझने लगा है. बिहार विधानसभा चुनाव के परिणाम इसका सबूत हैं. आजम खान की वापसी के बाद मुलायम सिंह यादव, शिवपाल, अखिलेश यादव समेत तमाम नेता ऐसे प्रफुल्लित हैं, मानों समूचा मुस्लिम वोट बैंक पार्टी की झोली में आ गिरा है. सपा के यह खेवनहार लोकसभा चुनाव में रामपुर सीट से जयाप्रदा की शानदार जीत का दृश्य शायद भूल जाते हैं. आजम खान के लाख विरोध करने के बावजूद रामपुर के मुसलमानों ने जयाप्रदा को लोकसभा पहुंचा कर ही दम लिया था. अब सवाल यह है कि जब आजम खान अपने ही घर में प्रभावी नहीं रहे तो वह समूचे उत्तर प्रदेश में मुसलमानों पर कितना प्रभाव छोड़ सकेंगे. वह भी उन परिस्थितियों में, जब मुस्लिम समाज के राजनीतिक मसलों के साथ-साथ प्राथमिकताएं एवं समस्याएं भी बदल चुकी हैं. आम मुसलमान बाबरी मस्जिद की शहादत जैसे भावनात्मक मुद्दों के साथ ही अब शिक्षा और आर्थिक क्षेत्र में हिस्सेदारी के मसले पर भी गंभीर है.

Read more