यह शिवराज सरकार की हिटलरशाही है

शिवराज सिंह चौहान को आम तौर पर भाजपा का नरम चेहरा माना जाता रहा है. लेकिन उनके मौजूदा कार्यकाल में

Read more

Vyapam Scam: A to Z

Vyapam Scam: A to Z

Read more

Editor’s Take- CM Shivraj Seeking CBI probe in Vyapam not enough

 Editor’s Take- CM Shivraj Seeking CBI probe in Vyapam not enough

Read more

मध्य प्रदेश…..हकीकत झुठलाने की कोशीश

चुनावी वर्ष है, इसलिए राज्य की भाजपा सरकार प्रचार का कोई मौक़ा छोड़ना ही नहीं चाहती, भले ही इसके लिए

Read more

नरेंद्र मोदी के ख़िलाफ़ कौन है?

  भारतीय जनता पार्टी में प्रधानमंत्री पद की दावेदारी को लेकर जिस तरह की कश्मकश जारी है, उससे देश की

Read more

दिल्‍ली का बाबूः मुखिया विहीन बैंकिंग सेक्टर

पिछले 9 महीने से पंजाब एंड सिंध बैंक के सीएमडी का पद रिक्त है, लेकिन अब तक इस मसले को लेकर प्रधानमंत्री कार्यालय और वित्त मंत्रालय के बीच जारी तनातनी खत्म होने का नाम नहीं ले रही है. अब तक ये दोनों मिलकर यह तय नहीं कर पाए हैं कि चली आ रही परंपरा के अनुसार इस पद पर एक सिख को बैठाया जाए या नहीं.

Read more

गलत समय पर सही बहस

भले ही मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने राज्य सभा के औचित्य के सवाल पर दिया गया अपना बयान वापस ले लिया है, फिर भी इस पर बहस तो छिड़ ही गई है. जिस तरह भारतीय राजनीति का अपराधीकरण, भ्रष्टाचारीकरण व आर्थिकीकरण हो रहा है, उसे देखकर शिवराज सिंह चौहान के बयान को अप्रासंगिक नहीं ठहराया जा सकता.

Read more

अन्‍नपूर्णा योजना का सचः काम कम, प्रचार ज्‍यादा

मध्य प्रदेश में ग़रीब वोट बैंक को अपने हक़ में हड़पने के लिए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने तरह-तरह के लुभावने राहतकारी और खैरात बांटने वाले कार्यक्रम शुरू किए हैं, लेकिन इन कार्यक्रमों का प्रचार ज़्यादा होता हैं, काम कम होता है.

Read more

क्‍या कर रहे हैं शिवराज सिंह चौहान

भ्रष्टाचार के ख़िला़फ आवाज़ उठाना और भ्रष्टाचार के नाम पर मातम मनाना हमारे सार्वजनिक जीवन का फैशन बन गया है. खासकर सत्ताधारी दल या नेताओं पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाना, तो विरोधी दलों के बयानबाज नेताओं के लिए एक मनोरंजक खेल बन गया है. ख़ैर, सच्चाई यह भी है कि मध्य प्रदेश की भाजपा सरकार के लिए भ्रष्टाचार उसकी विशिष्ट पहचान बन चुका है.

Read more

सिर्फ किताबी योजनाएं और खोखले वायदे

स्‍वर्णिम मध्य प्रदेश का संकल्प पत्र तैयार करने की प्रसव वेदना से प्रदेश की भाजपा सरकार पिछले कई महीनों से जिस प्रकार से चीख- पुकार मचा रही थी, उसे लगता था कि सरकार परिवर्तन का भीमसेन जनने वाली है, लेकिन मध्य प्रदेश विधानसभा के विशेष सत्र में हुए विचार मंथन के बाद जनता को पता चला कि सरकार का बौद्धिक गर्भपात हो गया.

Read more

कांग्रेस और भाजपा का दलित प्रेम

वोट बैंक की राजनीति के कारण आज दलित वर्ग का महत्व इसलिए भी ज्यादा बढ़ गया हैं क्योंकि बहुजन समाज पार्टी ने हिंदी भाषी राज्यों के दलितों को अपनी ओर आकर्षित करने में सफलता पाई है. कई क्षेत्र में बसपा के झंडे तले दलितों के गोलबंद होने से कांग्रेस और भाजपा दोनों ही दलितों से नाराज हैं, लेकिन मजबूरी में दलित प्रेम का दिखावा कर रही हैं.

Read more

महेश्‍वर नर्मदा जल परियोजनाः केंद्र और राज्‍य आमने-सामने

महेश्वर नर्मदा जल परियोजना को लेकर केंद्र और मध्य प्रदेश सरकार में तनातनी चल रही है. प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह ने परियोजना से प्रभावित लोगों के पुनर्वास को लेकर इस पर आगे काम बंद करने के निर्देश दिए तो मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भड़क उठे. उन्होंने प्रधानमंत्री को मध्य प्रदेश के विकास के प्रति अनुदार और संवेदनहीन बताया. लेकिन, सच्चाई मुख्यमंत्री को भी मालूम है.

Read more

हाथठेला मजदूरों का सपना टूटा

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान राजनीति के जादूगर हैं. वह राज्य की भोलीभाली जनता को सुनहरे सपने दिखाने में माहिर हैं और कभी-कभी तो कई दिनों तक सपनों के संसार की सैर भी कराते हैं. बाद में अपने वायदे भूलकर जनता को बेरहमी से धरती पर पटक देते हैं. हाल ही शिवराज सिंह ने राज्य के हज़ारों हाथठेला मज़दूरों की वाहवाही लूटने के लिए वायदा किया था कि सभी हाथठेला चालकों को मालिकाना हक़ दे दिया जाएगा.

Read more

किसान पुत्र का राज और किसान आंदोलन

मध्य प्रदेश सरकार की कृषि और किसान हितैषी नीतियों की पोल राज्य में हर साल होने वाले किसान आंदोलनों से खुल जाती है. राज्य सरकार ने किसान आंदोलनों का लाठी-गोली से दमन तो किया, लेकिन किसानों की समस्याओं को सुलझाने में कोई दिलचस्पी नहीं दिखाई.

Read more

जल संकट से जनता बेहाल

मध्य प्रदेश में भीषण जानलेवा गर्मी पड़ रही है. दोपहर में तो लगता है जैसे हवा आग बरसा रही हो. राज्य में इन दिनों कहीं भी दिन का तापमान 40 डिग्री सेल्सियस से कम नहीं है. निमाड़, मालवा और बुंदेलखंड में तो कहीं-कहीं तापमान 45 डिग्री से ऊपर तक पहुंच जाता है. ऐसे गर्म मौसम में पूरे राज्य में जल संकट जनता के लिए सबसे बड़ी मुसीबत बन गया है.

Read more

लक्ष्‍य पूरा कराने के लिए मौत का टीका

मध्य प्रदेश का स्वास्थ्य विभाग भ्रष्टाचार और लापरवाही के लिए खासा बदनाम है. इस विभाग को लोग हत्यारा विभाग तक कहने लगे हैं. हाल में दमोह ज़िला मुख्यालय में टीकाकरण योजना के तहत खसरे का टीका लगाने के बाद चार बच्चों की मौत हो गई और दस बच्चे गंभीर रूप से बीमार हो गए.

Read more

अभी भी चुनौती है डंपर कांड

मुख्यमंत्री एवं मंत्रियों द्वारा विधानसभा के पटल पर रखी गई, संपत्ति संबंधी जानकारी में राज्य के वित्तीय विशेषज्ञों को असमंजस में डाल दिया है. मध्य प्रदेश हाईकोर्ट ने अपने एक आदेश में शिवराज सिंह चौहान और उनकी पत्नी समेत सात व्यक्तियों के ख़िला़फ जनहित याचिका ख़ारिज़ कर दी है.

Read more

कोटवारों को इंसाफ कब मिलेगा

कोटवार एक ऐसा शब्द जो दूर दराज में रहने वाले ग्रामीणों और प्रशासन के बीच सेतु का काम करता है. सालों से ग्रामीण प्रशासनिक सेवा में लगे ये लोग कोटवार कहे जाते हैं.

Read more

जंगल के राजा पर संकट

विश्व प्रसिद्ध कान्हा नेशनल पार्क में शेरों की संख्या घटकर केवल 89 बची है. वर्ष 1993 में टाइगर रिजर्व घोषित होने के बाद से बढ़ने वाली यह संख्या अब तक के सबसे कम संख्यांक तक पहुंच रही है. कान्हा प्रबंधन भी शेरों की गणना से मीडिया को दूर रखना चाहता है. इससे यह संकेत मिलता है कि, मध्य प्रदेश जैसा विशाल राज्य अपने टाइगर रिजर्व को संरक्षित रख पाने में कहीं-न-कहीं असफल रहा है.

Read more

नौकरशाहों की लोकतंत्र में आस्था नहीं

देश के आला अफसरों की लोकतांत्रिक व्यवस्था में कोई आस्था नहीं है. नौकरशाह मनमाने ढंग से प्रशासन चलाना चाहते हैं और चला भी रहे हैं. संवैधानिक बाध्यता के कारण विधानसभा एवं मंत्री परिषद आदि संस्थाओं की कार्यवाही में वे औपचारिकता ही पूरी करते हैं.

Read more

बासमती चावल उत्‍पादक किसान ठगी के शिकार

भारतीय जनता पार्टी ने मध्य प्रदेश के किसानों को भरोसा दिलाया है कि उसकी सरकार खेती को लाभप्रद व्यवसाय बनाने के लिए उपाय करेगी. मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान किसानों की हमदर्दी पाने के लिए स्वयं को किसान पुत्र तो कहते हैं, लेकिन उन्हें राज्य के किसानों के हितों की ज़रा भी परवाह नहीं है.

Read more

सार-संक्षेप

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के निर्वाचन क्षेत्र बुदनी के वनग्राम खटपुरा के 200 वनवासी परिवारों को एक भाजपा नेता के इशारे पर वन विभाग के अफसर प्रताड़ित कर रहे हैं. 25 वर्षों से वनभूमि पर रहने वाले वनवासियों का आरोप हैं कि उन्हें खेती के लिए पट्टे देना तो दूर, वन अधिकारी उनकी फसल चौपट कर उनके खिला़फ झूठे मुकदमे दर्ज करा रहे हैं.

Read more

मध्य प्रदेश नाकारा और निरंकुश अ़फसरशाही के शिकंजे में

राजधानी में होली पर्व की पूर्व बेला में प्रसारित एक गुमनाम पर्चा प्रशासनिक क्षेत्र में चर्चा का विषय बना हुआ था. यह पर्चा कुछ स्थानीय अ़खबारों में पूरे नमक मिर्च के साथ छापा भी गया है. इस पर्चे ने प्रशासन का मनोबल और भी कमज़ोर दिया है.

Read more

आओ बनाएं अपना मध्‍यप्रदेश बढ़ती बेरोजगारी घटते रोजगार

गरीबी और पिछड़ेपन की समस्याओं से त्रस्त मध्य प्रदेश को खुशहाल और संपन्न राज्य बनाने का सुनहरा सपना दिखाने वाले मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के नेक इरादों की सराहना की जानी चाहिए, लेकिन नेक इरादों के बावजूद उनमें और उनकी सरकार में संकल्प शक्ति नहीं दिखती है, इसीलिए राज्य के विकास और जनकल्याण की तमाम योजनाएं भारी भरकम खर्च के बावजूद प्रभावशून्य और परिणामशून्य ही नज़र आती हैं.

Read more

सार-संक्षेप

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान राज्य के भोले-भाले मेहनतकश किसानों की सहानुभूति बटोर कर अपनी राजनीति चमकाना तो जानते हैं, लेकिन वे किसानों के हित में काम कैसे करते हैं, इसकी नज़ीर यह है कि किसानों की क़र्ज़ मा़फी की घोषणा हुए एक वर्ष हो गया, लेकिन आज भी नौ लाख किसान अपनी क़र्ज़ मा़फी का इंतजार कर रहे हैं

Read more

स्‍वर्णिम मध्‍य प्रदेश सिर्फ एक सपना है

स्‍वर्णिम मध्य प्रदेश की योजनाओं के तहत मध्य प्रदेश सरकार पर 58000 करोड़ रूपए का क़र्ज़ हो चुका है और उस पर 6500 करोड़ का ब्याज भी च़ढ चुका है. प्रदेश में बच्चों के प्रति अपराधों का ग्राफ चढ़ता ही जा रहा है. राज्य में 40 से अधिक सांप्रदायिक घटनाएं हुई हैं, सरकार की देनदारियों में अप्रत्याशित वृद्धि हुई है. महिलाओं और कमज़ोर तबके पर बढ़ते अपराध और अत्याचार, प्रशासनिक स्तर पर वरिष्ठ आईएएस अधिकारियों के भ्रष्टाचारों का खुलेआम नज़र आना. यह सब मिलकर प्रदेश के मनोरम स्वप्न को एक डरावनी हक़ीक़त का रूप देते हैं.

Read more

विकास कार्य स़िर्फ काग़ज़ों में सिमटा

यूं तो मध्य प्रदेश में विलुप्त होते आदिवासियों के विकास के लिए हर वर्ष सैंकड़ों योजनाएं लागू की जाती हैं, पर हक़ीक़त ये है कि सभी योजनाएं स़िर्फ काग़ज़ों में सिमट कर रह जाती हैं और इन योजनाओं के लिए स्वीकृत राशि से सरकारी बाबू अपना वारा-न्यारा करते हैं.

Read more