कब्रिस्तानों पर अवैध क़ब्ज़े : दफ़न के लिए दो गज़ ज़मीन भी मयस्सर नहीं

लोगों ने अपनी ज़मीन-जायदाद वक़्फ करते व़क्त यही तसव्वुर किया होगा कि आने वाली नस्लों को इससे फायदा पहुंचेगा, बेघरों को घर मिलेगा, ज़रूरतमंदों को मदद मिलेगी, लेकिन उनकी रूहों को यह देखकर कितनी तकली़फ पहुंचती होगी कि उनकी वक़्फ की गई ज़मीन-जायदाद चंद सिक्कों के लिए ज़रूरतमंदों और हक़दारों से छीनकर दौलतमंदों को बेची जा रही है.

Read more

मदरसों के बच्चे आधुनिक शिक्षा से वंचित हैं

मुसलमान चाहते हैं कि उनके बच्चे आधुनिक शिक्षा ग्रहण करें, ताकि आज के प्रतिस्पर्द्धा के दौर में वे किसी से पीछे न रहें. सरकार भी चाहती है कि कुछ ऐसा हो, लेकिन समुदाय के बुद्धिजीवियों एवं उलेमाओं को यह म़ंजूर नहीं है.

Read more

जारवा नहीं, हम असभ्य हैं

अंडमान निकोबार स्थित जारवा समुदाय के साथ अमानवीय हरकतों की दास्तां जैसे-जैसे खुल रही है, स्वयं को सभ्य कहने वाले इंसानों का असली चेहरा उजागर हो रहा है. अभी तक कहा जा रहा था कि जारवा समुदाय की स्त्रियों की अर्द्धनग्न वीडियो क्लिप कुछ लोगों ने फिल्माई हैं, परंतु पिछले दिनों ख़ुलासा हुआ कि ऐसी वीडियो क्लिप अंडमान में कार्यरत सभी टूर ऑपरेटरों के मोबाइल में वर्षों से कैद हैं, जिन्हें वे पर्यटकों को दिखाकर उन्हें इन क्षेत्रों में घूमने के लिए प्रेरित करते हैं

Read more

इंडिया इन ट्रांजशिनः प्रौद्योगिकी मानव के इरादों को बुलंद करती है

अपने पर्यावरण की देशीय प्रकृति का ज्ञान संसाधनों के उपयोग, पर्यावरण के प्रबंधन, भूमि संबंधी अधिकारों के आवंटन और अन्य समुदायों के साथ राजनयिक संबंधों के लिए आवश्यक है. भौगोलिक सूचनाएं प्राप्त करना और उनका अभिलेखन समुदाय को चलाने के लिए एक आवश्यक तत्व है.

Read more

अमेरिका : मार्ग से भटकते नागरिक

संयुक्त राज्य अमेरिका की संस्कृति को मेल्टिंग पॉट संस्कृति कहा जाता है. मतलब यह कि वहां रहने वाले लोग चाहे किसी देश, समुदाय, धर्म या क्षेत्र से आए हों, लेकिन अमेरिका आने के बाद उन्हें उसी संस्कृति का हिस्सा बनकर रहना पड़ेगा, जिसे अमेरिका ने स्वीकार किया है.

Read more

वनों में प्रकाश की किरण

भारत में वनों पर निर्भर 250 मिलियन लोग दमनकारी साम्राज्यवादी वन संबंधी क़ानूनों के जारी रहने के कारण ऐतिहासिक दृष्टि से भारी अन्याय के शिकार होते रहे हैं और ये लोग देश में सबसे अधिक ग़रीब भी हैं. वन्य समुदायों के सशक्तीकरण के लिए पिछले 15 वर्षों में भारत में दो ऐतिहासिक क़ानून पारित किए गए हैं.

Read more

नेतृत्‍वाविहीन अमेरिकी मुस्लिम समुदाय

यह अब एक रूटीन सा बन गया है और हमें इसकी आदत सी हो गई है. जैसे ही अमेरिकी मीडिया में किसी आतंकी वारदात या गिरफ्तारी की खबर आती है, इस्लामिक सोसाइटी ऑफ नॉर्थ अमेरिका, मुस्लिम पब्लिक अफेयर्स काउंसिल और काउंसिल ऑफ अमेरिकन इस्लामिक रिलेशंस जैसे संगठनों की पब्लिक रिलेशंस शाखा की गतिविधियां बढ़ जाती हैं.

Read more

मियो समुदाय और तबलीगी जमात

भौगोलिक विस्तार और कार्यकर्ताओं की संख्या के नज़रिए से तबलीगी जमात (टीजे) आज की तारीख़ में दुनिया का सबसे बड़ा इस्लामिक आंदोलन है. तबलीगी जमात के ऐतिहासिक अध्ययन के लिए ज़रूरी है कि हम पहले उन लोगों के बारे में जानें, जहां इसका सबसे पहले प्रसार हुआ.

Read more