‘बाबूजी’ के सहारे मीरा कुमार, मोदी के भरोसे छेदी पासवान

उत्तर प्रदेश की सीमा से सटे होने के कारण सासाराम लोकसभा क्षेत्र में बसपा का भी अपना प्रभाव है. उसके

Read more

सासाराम का मकबराः आ रहे हैं विदेशी सैलानी

साढ़े चार सौ वर्षों से ज़्यादा का इतिहास संजोए सासाराम की धरती पर खड़ा शेरशाह सूरी का मक़बरा अब सात समंदर पार बैठे सैलानियों को भी लुभाने लगा है. तभी तो वर्ष 2011 की शुरुआत होते ही जर्मनी एवं स्विटजरलैंड के सैलानियों का दल आ पहुंचा, जिसने विश्व के ऐतिहासिक धरोहरों में नामित इस पुरातात्विक खंड की चर्चा देखी व सुनी थी

Read more

सासारामः राजनीतिक विरासत के लिए छिड़ी जंग

देश के पूर्व उप प्रधानमंत्री बाबू जगजीवन राम के निधन के बाद संपत्ति विवाद को लेकर उनके परिवार में उठा तूफान भले ही शांत हो गया हो, लेकिन उनकी राजनीतिक विरासत हथियाने की कवायद अभी थमी नहीं है. लोकसभा अध्यक्ष पद पर काबिज मीरा कुमार को अपने पैतृक संसदीय क्षेत्र सासाराम में आने वाले दिनों में नई चुनौती का सामना करना पड़ सकता है.

Read more

मतदाताओं के साथ नक्सली भी रखेंगे वजन

सासाराम ज़िले के सात विधानसभा क्षेत्रों में से अनुसूचित जाति के लिए सुरक्षित, चेनारी विधानसभा का आगामी चुनाव किसी भी दल एवं प्रत्याशी के लिए आसान नहीं होगा. बात पहले वाली नहीं रही, क्योंकि नए परिसीमन में इस विधानसभा क्षेत्र से शिवसागर एवं कोचस का आधा हिस्सा तथा करगहर का पूरा प्रखंड कटकर अलग हो गया है.

Read more

पत्थर उद्योग पर बंदी का खतरा

रोहतास और कैमूर ज़िलों में पूर्व से स्थापित बड़े एवं छोटे उद्योगों की बंदी या अवसान के बाद अब सासाराम में भी पत्थर उद्योग पर बंदी का खतरा मंडरा रहा है. तत्कालीन राजद सरकार की पर्यावरण नीतियों के कारण 2001 में अनेक खदानें बंद हो गई थीं. नई सरकार बनने के बाद उम्मीद बंधी थी कि अब मजदूरों के जीवन में कुछ नया होगा, लेकिन जो कुछ देखा जा रहा है, वह उम्मीद से परे है.

Read more

परिसीमन ने तस्‍वीर बदल दी

चुनावी साल होने के कारण रोहतास ज़िले के सासाराम विधानसभा क्षेत्र में का़फी चहलपहल दिख रही है. इसका कारण परिसीमन

Read more