पुस्तक मेले लेखकों का प्रचार मंच बन चुके हैं

विश्व में पुस्तक मेलों का एक लंबा इतिहास रहा है. पुस्तक मेलों का पाठकों की रुचि बढ़ाने से लेकर समाज में पुस्तक संस्कृति को बनाने और उसको विकसित करने मे

Read More

प्रकृति से जु़डी है हमारी संस्कृति

इंसान ही नहीं दुनिया की कोई भी नस्ल जल, जंगल और ज़मीन के बिना ज़िंदा नहीं रह सकती. ये तीनों हमारे जीवन का आधार हैं. यह भारतीय संस्कृति की विशेषता है कि

Read More

धूप भी चांदनी-सी लगती है

आधुनिक उर्दू शायरी के क्रांतिकारी शायर अली सरदार जा़फरी ने अपनी क़लम के ज़रिये समाज को बदलने की कोशिश की. उनका कहना था कि शायर न तो कुल्हा़डी की तरह पे़

Read More

ये इल्म का सौदा, ये रिसाले, ये किताबें

बीसवीं सदी के मशहूर शायरों में जां निसार अख्तर को शुमार किया जाता है. उनका जन्म 14 फरवरी, 1914 को मध्य प्रदेश के ग्वालियर में एक सुन्नी मुस्लिम परिवार

Read More

समकालीन गीतिकाव्य पर बेहतरीन शोध ग्रंथ

अनंग प्रकाशन द्वारा प्रकाशित समकालीन गीतिकाव्य : संवेदना और शिल्प में लेखक डॉ. रामस्नेही लाल शर्मा यायावर ने हिंदी काव्य में 70 के दशक के बाद हुए संवे

Read More

सोनिया: कुछ कही, कुछ अनकही

किसी भी शख्स की जीवनी लिखना एक श्रमसाध्य काम है और अगर कोई लेखक किसी मशहूर हस्ती की जीवनी लिखना शुरू करता है तो उसका यह काम उस नट की तरह होता है, जो द

Read More

मैं तुझे फिर मिलूंगी

अमृता प्रीतम ने ज़िंदगी के विभिन्न रंगों को अपने शब्दों में पिरोकर रचनाओं के रूप में दुनिया के सामने रखा. पंजाब के गुजरांवाला में 31 अगस्त, 1919 में जन

Read More

साक्षात्‍कारः बड़े ढांचे में लोकतांत्रिक व्‍यवस्‍था का चलना मुश्किल

83 वर्षीय सच्चिदानंद सिन्हा एक समाजवादी कार्यकर्ता, चिंतक एवं लेखक हैं. उस दौर में जब समाजवादी विचारधारा महानगरों एवं चर्चाओं तक सीमित रह गई हो, तब सच

Read More

गली-गली चोर है

बॉलीवुड में रूमी जा़फरी की पहचान एक लेखक के रूप में है. कई हिट फिल्मों की कहानी, स्क्रीन प्ले और संवाद उन्होंने लिखे हैं. डेविड धवन के लिए उन्होंने कई

Read More

औरत की बोली

पिछले कई सालों से हिंदी में साहित्येतर विधाओं की किताबों के प्रकाशन में का़फी तेज़ी आई है. प्रकाशकों के अलावा लेखकों ने भी इस ओर गंभीरता से ध्यान दिया

Read More

पांच दशक से समीक्षा कर्म में लगे हैं मधुरेश

प्रेमचंद की मशहूर कहानी पंच परमेश्वर में अलगू चौधरी और खाला के बीच एक संवाद है- क्या बिगाड़ के डर से ईमान की बात न कहोगे. यह बात उस प्रसंग में कही गई

Read More

जन्‍मदिवस 31 जुलाई पर विशेषः प्रेमचंद के सपनों का भारत

मुंशी प्रेमचंद के सपनों का भारत निश्चित ही गांधी के सपनों का भारत था. गांधी ने आज़ाद भारत का बड़ा तल्ख तजुर्बा किया. प्रेमचंद इस मायने में भाग्यशाली थे

Read More

कुंठा @ प्रेम डॉट कॉम

विमल कुमार हिंदी के पाठकों के बीच एक जाना-पहचाना नाम हैं. लिक्खाड़ पत्रकार हैं, तमाम पत्र-पत्रिकाओं में साहित्य और साहित्येतर विषयों पर उनके लेख और टिप

Read More

चमकीली दुनिया, काला सच

उपन्यास में आत्मकथ्य की परंपरा हिंदी में बहुत पुरानी है. अपनी रचना में मैं को प्रतिस्थापित करने से एक तो रचना की विश्वसनीयता बढ़ जाती है और दूसरे कल्पन

Read More

तट है, तटस्‍थ नहीं

रामचंद्र गुहा आज़ाद भारत के ऐसे इतिहासकार हैं, जिन्होंने इतिहास लेखन को मार्क्सवादी ढर्रे से मुक्त कराकर उसे लोकप्रिय बनाया. उनकी शैली शास्त्रीय इतिहास

Read More

पद्मश्री आचार्य जानकी वल्‍लभ शास्‍त्रीः तिमिर गरल पिया अमृत भोर के लिए

महाकवि आचार्य जानकी वल्लभ शास्त्री का साहित्य एक सुषुप्त ज्वालामुखी है, जो एक न एक दिन जनसामान्य को उद्वेलित करेगा. महाकाव्य राधा, चाणक्य एवं कालीदास

Read More

प्रचारप्रियता की विचारधारा

चंडीगढ़ में एक सेमिनार में हुर्रियत के  नेता मीरवाइज उमर फारुख के  साथ धक्कामुक्की की गई और उन्हें भाषण देने से रोकने की कोशिश की गई. हंगामा करने व

Read More

लाल चश्मे से देखा गया इतिहास

आत्मकथा या संस्मरण एक ऐसी विधा है, जिसमें अमूमन उसका लेखक खुद को कसौटी पर नहीं कस पाता है. विश्व साहित्य की अगर हम बात करें तो इस बात के सैकड़ों उदाहरण

Read More

समाचार बाज़ार की नैतिकता

जैसा कि किताब के नाम, समाचार बाज़ार की नैतिकता से ज़ाहिर है कि यह मीडिया से जुड़ी पुस्तक है और लेखक ने मीडिया को बाज़ार के बरक्श रखकर नैतिकता को कसौटी पर

Read More

अप्रासंगिक लेखक संगठन

वर्ष 1935 में लंदन के नानकिंग रेस्तरां में बैठकर सज्जाद ज़हीर, मुल्कराज आनंद, ज्योति घोष, प्रमोद सेन गुप्ता एवं मोहम्मद दीन तासीर जैसे लेखकों ने एक संग

Read More

अतीत मेरे लिए बहुत महत्वपूर्ण : राजेंद्र मोहन

मेरे लिए अतीत इसलिए जरूरी है जैसे पेड़ के लिए जड़. जड़ रहित पेड़ खड़ा नहीं रह सकता. संसार में भारत को इसीलिए सबसे ज़्यादा महत्व हासिल है, क्योंकि उसके पास व

Read More

बाज़ार के फंदे में हिंदी कहानीकार

अभी चंद दिनों पहले की बात है, मेरी पत्नी चित्रा मुदगल की किताब-गेंद और अन्य कहानियां ख़रीद लाई. इस संग्रह के ऊपर दो मासूम बच्चों की तस्वीर छपी है और नी

Read More

बयासी साल का ज़िंदादिल जवान

दिल्ली के साहित्य प्रेमियों को हर साल 28 अगस्त का इंतज़ार रहता है. साहित्यकारों को तो खासतौर पर. हर साल यह दिन दिल्ली में एक उत्सव की तरह मनाया जाता है

Read More

नारायण सुर्वे: आम जनता का कवि

ऐसा गामी ब्रह्म, माझे विद्यापीठ एवं जाठीरबामा जैसे कविता संकलनों के रचयिता एवं प्रसिद्ध मराठी विद्वान पद्मश्री नारायण सुर्वे नहीं रहे. पिछले दिनों उनक

Read More

कारण कवन नाथ मोहे मारा

नया ज्ञानोदय के अगस्त 2010 अंक में छपे मेरे इंटरव्यू पर हुई प्रतिक्रियाओं से एक बात स्पष्ट हो गई कि मैंने अपनी लापरवाही से एक गंभीर विमर्श का हेतु बन

Read More

पच्चीस का हंस

आज से पच्चीस साल पहले जब अगस्त 1986 में राजेंद्र यादव ने हंस पत्रिका का पुनर्प्रकाशन शुरू किया था, तब किसी को भी उम्मीद नहीं रही होगी कि यह पत्रिका नि

Read More

प्लेगियरिज़्म और कॉपीराइट क़ानून की उलझन

27 जून के दैनिक हिंदुस्तान में शब्द पृष्ठ के अंतर्गत युवा स्वर स्तंभ में एक स्पष्टीकरण प्रकाशित किया गया है कि 20 जून के अंक में युवा स्वर के तहत प्रक

Read More

अज्ञानता का दर्प

अभी ज़्यादा दिन नहीं बीते हैं, जब फिल्म थ्री इडियट्स में क्रेडिट को लेकर लेखक चेतन भगत ने ख़ासा बवाल खड़ा कर दिया था. चेतन भगत के दो हज़ार चार में लिखे उप

Read More

अदम्य जिजीविषा की दास्तां

आत्मकथा और जीवनियों में मेरी शुरू से ही रुचि रही है. देशी-विदेशी लेखकों, साहित्यकारों, फिल्म कलाकारों और राजनेताओं की दर्जनों आत्मकथाएं मैंने पढ़ी हैं.

Read More

पौराणिक आख्यान, नई व्याख्या

प्राचीन भारतीय ग्रंथों में महाभारत और रामायण दो ऐसे ग्रंथ हैं, जिन्हें लेकर विद्वानों के बीच आज भी आकर्षण है. इन ग्रंथों को पिछले सैकड़ों सालों से नए-न

Read More