दर्शन मात्र से जीवन-मरण के बंधन से मुक्ति

पावन धाम बद्रीनाथ स्वयं भगवान एवं नारद आदि मुनियों से निरंतर सेवित है, इसीलिए इसे सृष्टि के आठवें बैकुंठ के

Read more

चार धाम यात्राः अव्‍यवस्‍था के बावजूद श्रद्धालुओं का सैलाब

देव भूमि उत्तराखंड के चार धामों के कपाट छह माह के लिए परंपरागत रूप से खोल दिए गए. सरकार ने यह यात्रा शुरू होने के पहले ही सभी व्यवस्थाएं दुरुस्त कराने की घोषणा की थी, जो महज़ हवा हवाई सिद्ध हुई. यात्रा के पहले दिन मुख्यमंत्री रमेश पोखरियाल निशंक हवाई मार्ग से बाबा केदारनाथ के दर्शन करने पहुंचे. यात्री सुविधाओं की कमी के संदर्भ में वह मीडिया से कन्नी काटते रहे.

Read more

उपेक्षा की शिकार पुजारी अन्ना की राह पर

उत्तराखंड देवभूमि होने के कारण पर्यटन प्रधान राज्य के रूप में विश्वविख्यात है. इसी राज्य में प्रसिद्ध बद्रीनाथ धाम एवं पावन केदारनाथ धाम भी हैं, जहां मोक्ष की कामना लेकर प्रति वर्ष लाखों श्रद्धालु हाजिरी लगाने आते हैं. आगामी 8 मई को पावन केदारनाथ धाम के पट श्रद्धालुओं के लिए खुलेंगे.

Read more

देवभूमि के पंच केदार

देवभूमि उत्तराखंड के आस्था एवं पर्यटन के लिए विख्यात गंगोत्री यमुनोत्री, बद्री-केदारनाथ चार-धाम यात्रा की यात्रा सनातन धर्म को मानने वाले करोड़ों हिंदुओं में मोक्ष धाम के रूप में मान्यता प्राप्त है. इन चार धाम यात्रा के मंदिरों के कपाट को जगत गुरू शंकराचार्य द्वारा शुरू की गई परंपरा के अनुरूप मात्र छ: माह के लिए खोले जाते हैं.

Read more

बद्रीनाथ धाम: सृष्टि का आठवां बैकुंठ

ब्रह्मांड के पावनतम धामों में से एक है बद्रीनाथ धाम. कहा जाता है कि यह स्वयं भगवान विष्णु एवं नारद द्वारा सेवित है. इसी कारण सृष्टि में बद्रिकाश्रम को अष्टम बैकुंठ के रूप में मान्यता हासिल है.

Read more

दूर हो रहे भगवान

देवभूमि उत्तराखंड के देवालयों में विराजमान नारायण आमजन से कितने दूर हो चुके हैं, यह जनता को इन पावनधामों में पहुंचने पर पता चलता है. इन धामों में दर्शन की फीस में इस वर्ष 40 प्रतिशत की सीधे की गई बढ़ोत्तरी ने भगवान और अवाम की दूरी बढ़ा दी है. इस बढ़ोत्तरी से बदरीनाथ धाम में विराजमान नारायण का दर्शन अब धनाढ्‌य ही कर पाएंगे.

Read more

चार धाम यात्रा अव्‍यवस्‍था का शिकार

देवभूमि उत्तराखंड में धर्म एवं आस्था की मिसाल पेश कर पर्यटन को एक पहचान देने वाली चार धाम यात्रा सरकारी उपेक्षा और अव्यवस्था की भेंट चढ़ कर राम भरोसे चल रही है. इसमें प्रत्येक वर्ष लाखों श्रद्धालु यमुनोत्री-गंगोत्री सहित केदारनाथ एवं बद्रीनाथ धाम की यात्रा करते हैं.

Read more