मगहर को निगल जाना चाहते हैं भाजपा के अजगर, मोदी मुहर लगाने आए थे

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जब मगहर गए तो आम लोगों, अखबार वालों और समाचार चैनल वालों का एक ही सवाल पूरी

Read more

दो साल इंतज़ार के बाद रिलीज़ होगी सनी देओल की ‘मोहल्ला अस्सी’

बनारस के अस्सी घाट पर बसे एक मोहल्ले की कहानी पर बनी फिल्म ‘मोहल्ला अस्सी’ अब बहुत जल्द ही दर्शकों

Read more

क्या फर्ज़ी डिग्री बांट रहा है बीएचयू?

क्या बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय बीएड की फर्ज़ी डिग्रियां बांट रहा है? अगर बीएड कोर्स को मान्यता देने वाली संस्था ‘राष्ट्रीय

Read more

प्रधानमंत्री के संसदीय क्षेत्र में सरकारी योजनाओं का कबाड़ा, नरक भोग रहा बनारस

बाबा विश्वनाथ का नगर और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का संसदीय क्षेत्र, इन दो प्रसिद्धियों की सुखानुभूति से ओतप्रोत बनारस नर्कवास

Read more

पूर्वांचल की बाढ़ में खूब चल रही सियासत की नाव

काशी में बाढ़ का जायजा लेने आए प्रदेश सरकार के कैबिनेट मंत्री शिवपाल यादव ने इस मसले पर भी केंद्र

Read more

क्रुद्ध गंगा घरों में घुस कर चखा रही गंदगी का स्वाद

वाराणसी में गंगा में आई बाढ़ देख कर मलय उपाध्याय की ये पंक्तियां जेहन में उभरती हैं, गंगा ने कहा,

Read more

तबला के औघड़ उस्ताद लच्छू महाराज बोले : तुम मुझे गुरुकुल दो ,मैं नायाब कलाकार दूंगा

लक्ष्मी नारायण जिन्हें तबला के विधा-संसार में पंडित लच्छू महाराज के नाम से जाना जाता है, जो तबले पर हाथ

Read more

उज्जवला योजना के तहत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बलिया में गरीबों में बांटे सिलिंडर : यूपी में डाल-डाल और पात-पात की पॉलिटिक्स तेज

पीएम ने बनारस में दिया ई-रिक्शा और ई-बोट तो अखिलेश ने लखनऊ में दिया मजदूरों को 10 रुपये में भोजन

Read more

संस्कृति सहेजने वाली भावना

आपने यह तो सुना ही होगा कि बनारस का पान खाने से अक्ल का ताला खुल जाता है, लेकिन बनारस

Read more

बुनकरों की बदहाली कब दूर होगी

रहमान मियां से दशाश्‍वमेध घाट पर मुलाकात हुई थी. वही दशाश्‍वमेध घाट, जहां की गंगा आरती देखने के लिए देश

Read more

मोदी का तोड़ छात्र संघ में तलाशते राजनीतिक दल

देश भर की नज़रें इन दिनों छात्र राजनीति की ओर हैं. हर जगह विश्‍वविद्यालयों में छात्रसंघों को बहाल करने की

Read more

मोदी का आदर्श ग्राम

दिल्ली हो या गुजरात हो या फिर बनारस का एक गांव, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जहां भी बोलते हैं, उन्हें पूरा

Read more

अनुच्छेद 370 को ख़त्म नहीं, मज़बूत करना होगा

भाजपा अपने घोषणा-पत्र में राम मंदिर, यूनिफॉर्म सिविल कोड और अनुच्छेद 370 को लगातार शामिल करती रही है. वाजपेयी जी

Read more

उत्तर भारत में भाजपा का परचम

उत्तर भारत के तीन बडे राज्यों उत्तर प्रदेश, बिहार और मध्य प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी ने इस चुनाव में

Read more

फोटो पत्रकार नेताओं से ज्यादा परेशान रहे

16वीं लोकसभा के लिए हुए आम चुनाव नेताओं के साथ-साथ पत्रकारों के लिए भी थकाने वाला रहा. इस बार फोटोजर्नलिस्टों

Read more

आम आदमी पार्टी ने इतिहास रचा

प्रजातंत्र में चुनाव सिर्फ सरकार बनाने की प्रक्रिया नहीं है. यह राजनीतिक दलों की नीतियां संगठन और नेतृत्व की परीक्षा

Read more

देश नरेंद्र मोदी से क्या चाहता है

इस समय देश के हर न्यूज चैनल पर नरेंद्र मोदी का इंटरव्यू आ रहा है. मोदी प्रधानमंत्री बनने वाले हैं,

Read more

पैसा चुनाव जीत रहा है, मुद्दा नहीं

आजकल समाचारपत्रों में, टेलीविज़न चैनलों पर, एफ एम रेडियो पर, सड़कों के किनारे लगे होर्डिंग्स पर, सोशल मीडिया में मोदी

Read more

न थकेंगे, न झुकेंगे

आखिर अन्ना हज़ारे क्या हैं, मानवीय शुचिता के एक प्रतीक, बदलाव लाने वाले एक आंदोलनकारी या भारतीय राजनीति से हताश लोगों की जनाकांक्षा? शायद अन्ना यह सब कुछ हैं. तभी तो इस देश के किसी भी हिस्से में अन्ना चले जाएं, लोग उन्हें देखने-सुनने दौड़े चले आते हैं? उनकी सभाओं में उमड़ने वाली भीड़ को देखकर कई राजनेताओं को रश्क होता होगा.

Read more

पूर्वांचल के बुनकरों का दर्दः रिश्‍ता वोट से, विकास से नहीं

केंद्र की यूपीए सरकार से पूर्वांचल के लगभग ढ़ाई लाख बुनकरों को का़फी उम्मीदें थीं. बुनकरों के लिए करोड़ों रुपये के बजट का ऐलान सुनते ही बुनकरों को यक़ीन हो गया कि उनकी हालत अब सुधरने वाली है, लेकिन जब हक़ीक़त सामने आई तो वे खुद को ठगा हुआ महसूस करने लगे.

Read more

बनारस को जानिए-समझिए

आत्म प्रचार और विज्ञापन के इस दौर में भी कुछ लोग ऐसे हैं, जो किसी प्रतिदान की अपेक्षा के बग़ैर चुपचाप निष्ठापूर्वक अपना काम किए जा रहे हैं. ऐसे ही एक शख्स हैं लेखक-पत्रकार कमल नयन. कमल जी के आलेख का़फी पहले साहित्यिक पत्रिका धर्मयुग में प्रमुखता से प्रकाशित होते रहे.

Read more

सियासी चक्की में पिसी हाथ की कारीगरी

बनारस और उसके आस-पास के इला़के के पांच से छह लाख लोग बनारसी साड़ी के कारोबार से जुड़े हैं. इस उद्योग से जुड़े अनिल कुमार के मुताबिक़ बनारसी साड़ी बनाने वाले आधे से अधिक कारीगर काम धंधे की तलाश में पलायन कर गए हैं. जो घर के मोह में बनारस नहीं छोड़ सके, वह ग़रीबी में जीवन यापन करने को मजबूर हैं. वजह भारतीय नारी के सुहाग और श्रृंगार का प्रतीक बनारसी साड़ी का उद्योग संकट के दौर से गुज़र रहा है. इस काम में लगे हज़ारों कारीगरों की माली हालत का़फी खराब हो चली है.
फिरोजाबाद के चूड़ीबनाने वाले कारीगर लगातार मौत के शिकार होते जा रहे हैं. चूड़ी बनाने के दौरान यह कारीगर खतरनाक रासायनिक तत्वों के संपर्क में आते हैं, जिससे वह गंभीर बीमारियों के शिकार हो रहे हैं. इस कार्य में हज़ारों महिलाएं व बच्चे भी लगे हैं. घातक बीमारियां इन्हें भी अपना निशाना बना रही है. चूड़ी उद्योग से जुड़े कारीगरों व मज़दूरों की हर सांस के साथ कांच के महीन कण उनके शरीर के अंदर घुसते जाते हैं, जो अंतत: उन्हें मौत के मुंह में धकेल देता है.

Read more