आत्महत्या करने वाले किसानों के परिवार की व्यथा-कथा : उनकी पीड़ा नसों में तेज़ाब भर देती है, पर नेता को कुछ नहीं होता

मध्य प्रदेश का चंबल का इलाका एक समय डकैतों के लिए जाना जाता था, चंबल का नाम लेते ही वहां

Read more

बुंदेलखंड : फ़रमानों से निजात

दस्युओं के परिवारीजन विधानसभा चुनाव में हिस्सा तो ले रहे हैं, लेकिन उनकी गतिविधियां स़िर्फ अपने तक सीमित रह गई हैं. जिन बाहुबलियों को अपने आक़ा पर नाज़ हुआ करता था, वे भी जनता के बीच से नदारद दिख रहे हैं, क्योंकि दस्यु सम्राटों का खात्मा हो चुका है.

Read more

कल चमन था आज वीरान हुआ चंबलः ये डकैत थे या बागी

चंबल जो कि खूंखार डकैतों के शरण स्थली के रुप में जाना जाता था, आजकल वीरान सा है. उत्तर प्रदेश एवं मध्य प्रदेश के ज़्यादातर दस्यु गिरोहों के खात्मे के चलते दस्युओं का खौफ जो ग्रामीणों के सिर चढ़कर बोलता था अब नज़र नहीं आता, चंबल के निकट बसे ग्रामीण अधिकतर डकैतों को डकैत नहीं बल्कि बाग़ी कहना ज़्यादा पसंद करते हैं.

Read more