एक फौजी की निगरानी में है हज मिशन : इस बार धोखेबाजों की खैर नहीं

हर साल पूरी दुनिया से तक़रीबन 20 लाख लोग हज अदा करने सऊदी अरब पहुंचते हैं, जिसमें अकेले भारत की

Read more

चौथी दुनिया में खबर छपने और संसद में आवाज़ उठने से बौखलाए एनटीपीसी के सीएमडी ने : सांसदों को पटाने के लिए पंच सितारा होटल में भोज दिया

नेशनल थर्मल पॉवर कॉरपोरेशन (एनटीपीसी) के सीएमडी अरूप रॉय चौधरी की करतूतों के खिला़फ चौथी दुनिया के विभिन्न संस्करणों में

Read more

बिहार विधानसभा चुनाव पर चौथी दुनिया का पहला सर्वे : नितीश सबसे आगे

क्या आप जाति, धर्म, समुदाय, भाषा और क्षेत्र के नाम पर वोट डालेंगे? इस सवाल के जवाब में 16 प्रतिशत

Read more

पेट्रोगेट और तेल कंपनियां : सच साबित हुई चौथी दुनिया की चार साल पुरानी रिपोर्ट

चार साल पहले चौथी दुनिया ने अपनी स्टोरी, जिसका शीर्षक था-तेल कंपनियां या सरकार, देश कौन चला रहा है, में

Read more

कोयला महाघोटाला : चौथी दुनिया की रिपोर्ट सच साबित हुई

देश के उच्चतम न्यायालय ने पिछले 17 वर्षों में एनडीए और यूपीए समेत अन्य सरकारों के कार्यकाल के दौरान हुए

Read more

ग़रीबों के लिए नहीं है गोरखपुर मेडिकल कॉलेज

नवगठित मोदी सरकार ने देश के सभी सरकारी अस्पतालों में आवश्यक दवाएं मुफ्त देने की बात कही थी, लेकिन बाबा

Read more

हाशिमपुरा नरसंहार: अदालत में आखिरी सुनवाई जारी है…

गत 13 अगस्त 2014 को बदनामे जमाना हाशिमपुरा नरसंहार से संबंधित 27 वर्षीय पुराने मुकदमे की अंतिम दौर की सुनवाई

Read more

आज उदयन होते तो क्या करते

नई पीढ़ी के पत्रकारों और पाठकों के लिए उदयन शर्मा को जानना ज़रूरी है, क्योंकि ये दोनों वर्ग आज पत्रकारिता के उस स्वरूप से रूबरू हो रहे हैं, जहां स्थापित मूल्यों में क्षरण देखने को मिल रहा है. उद्देश्य में भटकाव और विचलन की स्थिति है. युवा वर्ग के साथ ही वह पीढ़ी भी, जिसने कभी रविवार और उदयन शर्मा के धारदार लेखन को पढ़ा, देखा या उसके बारे में जाना है, पत्रकारिता की वर्तमान स्थिति से संतुष्ट नज़र नहीं आ रही है.

Read more

डिफेंडर ऑफ डेमोक्रेसी

चौथी दुनिया ने अपनी परंपरा के अनुरूप साल में एक बार उस शख्सियत को सम्मानित करने का निर्णय लिया है, जिसने लोकतंत्र की साख बचाने में सबसे ज़्यादा महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है. पहला सम्मान देश के मुख्य चुनाव आयुक्त एस वाई कुरैशी को देकर चौथी दुनिया ने पत्रकारिता के इतिहास में एक नई परंपरा शुरू की है.

Read more