अगर चटकाते है हाथ-पैर की उंगलियां तो हो जाए सावधान!

ज्यादातर देखा गया है कि अक्सर कुछ लोग अपनी हाथ-पैर की उंगलियां चटकते रहते हैं. उंगली चटकाने की यह आदत

Read more

सर्दियों में मूंगफली खाया तो नहीं होंगी ये हेल्थ प्रॉब्लमस

मूंगफली खाने का असली मजा सर्दी के मौसम में ही आता है. इस मौसम में हर कोई मूंगफली खाना पंसद

Read more

सर्दी के मौसम में इन बीमारियों से बचाव करता है तिल का सेवन

मौसम ने करवट बदलना शुरू कर दिया है. गर्मियां खत्म और अब सर्दियां शुरू हो गई हैं. सर्दी का मौसम

Read more

बच्चों में हृदय रोग का ख़तरा

हमारा बचपन ख़तरे में है. हाल ही में हुए एक अंतरराष्ट्रीय शोध के मुताबिक 2010 तक भारत में दुनिया के 60 फीसदी दिल के मरीज हो जाएंगे. ऐसे में आने वाली पीढ़ी को हृदय रोग से बचाना महत्वपूर्ण भी है और एक चुनौती

Read more

गर्भाशय कैंसर की चपेट में हैं लाखों महिलाएं, जानिए क्या है बचाव ?

तमाम तरह के कैंसरों की तरह गर्भाशय कैंसर की वजह भी एचपीवी है. यूटरस महिला का रिप्रोडक्टिव ऑर्गेन होता है.

Read more

ज़िंदादिली की मिसाल स्टी़फन हॉकिंग

इंसान चाहे तो क्या नहीं कर सकता. अपनी हिम्मत और लगन के बूते वह नामुमकिन को भी मुमकिन बना सकता है. इसकी एक बेहतरीन मिसाल है स्टी़फन हॉकिंग, जिन्होंने असाध्य बीमारी के बावजूद कामयाबी के आसमान को छुआ. तक़रीबन 22 साल की उम्र में उन्हें एमियो ट्रोफिक लेटरल स्केलरोसिस नामक बीमारी हो गई थी. यह ऐसी बीमारी है, जो कभी ठीक नहीं होती. इसकी वजह से व्यक्ति का पूरा जिस्म अपंग हो जाता है, स़िर्फ दिमाग़ ही काम करने योग्य रहता है. स्टी़फन ने एक बार कहा था कि मैं भाग्यशाली हूं कि मेरा केवल शरीर बीमार हुआ है. मेरे मन और दिमाग़ तक रोग पहुंच नहीं पाया.

Read more

सेहत से खिलवाड़

भारत दवाओं का एक ब़डा बाज़ार है. यहां बिकने वाली तक़रीबन 60 हज़ार ब्रांडेड दवाओं में महज़ कुछ ही जीवनरक्षक हैं. बाक़ी दवाओं में ग़ैर ज़रूरी और प्रतिबंधित भी शामिल होती हैं. ये दवाएं विकल्प के तौर पर या फिर प्रभावी दवाओं के साथ मरीज़ों को ग़ैर जरूरी रूप से दी जाती हैं. स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण के लिए गठित संसद की स्थायी समिति की एक रिपोर्ट के मुताबिक़, दवाओं के साइड इफेक्ट की वजह से जिन दवाओं पर अमेरिका, ब्रिटेन सहित कई यूरोपीय देशों में प्रतिबंधित लगा हुआ है, उन्हें भारत में खुलेआम बेचा जा रहा है.

Read more

सीवर सफाईकर्मी : पेट की खातिर मौत से पंजा लड़ाने की मजबूरी

सीचिपियाना (ग़ाज़ियाबाद) निवासी फुट सिंह वाल्मीकि ऐसे पिता हैं, जिनके पांच जवान बेटों की मौत सीवर की स़फाई करते समय हो गई. सबकी उम्र 20 से 35 वर्ष के बीच थी. फुट सिंह की पांच विधवा बहुए हैं. इसी तरह 40 वर्षीय तारी़फ सिंह सीवर स़फाई का काम करते थे. वह घर से काम पर निकले थे. शाम को घर पर खबर आई कि तारी़फ सिंह की काम के दौरान हालत बिगड़ गई है, वह अस्पताल में हैं.

Read more

पिज्जा के सिवाय कुछ नहीं

आजकल सभी लोग अपने बच्चों को जंक फूड खाने के लिए मना करते और डांटते रहते हैं, कहते हैं कि बीमार पड़ जाओगे. यह सभी को पता है कि जंक फूड स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है, लेकिन न्यूयॉर्क की एक युवती (19) पिछले आठ साल से स़िर्फ टोमैटो पिज्जा और पनीर खाकर जिंदा है.

Read more

समाज को आईना दिखाती रिपोर्ट

हाल में यूनीसेफ द्वारा जारी रिपोर्ट के अनुसार भारत में 22 फीसदी लड़कियां कम उम्र में ही मां बन जाती हैं और 43 फीसदी पांच साल से कम उम्र के बच्चे कुपोषण का शिकार हैं. रिपोर्ट के अनुसार, ग्रामीण क्षेत्रों के अधिकतर बच्चे कमज़ोर और एनीमिया से ग्रसित हैं. इन क्षेत्रों के 48 प्रतिशत बच्चों का वज़न उनकी उम्र के अनुपात में बहुत कम है. यूनिसेफ द्वारा चिल्ड्रन इन अर्बन वर्ल्ड नाम से जारी रिपोर्ट में कहा गया है कि ग्रामीण क्षेत्रों की अपेक्षा शहरी ग़रीबों में यह आंकड़ा और भी चिंताजनक है, जहां गंभीर बीमारियों का स्तर गांव की तुलना में अधिक है.

Read more

अब बच्चों के स्वास्थ्य के बारे में : सरकार भ्रम फैला रही है

साल 2012 में हमें यह सोचकर खुश होना चाहिए कि समाज के कर्णधार यानी हमारी नौजवान पी़ढी अब ज़्यादा स्वस्थ हो रही है. देश के सर्वोच्च स्वास्थ्य संस्थान एम्स द्वारा 19 ब़डे शहरों में किए गए सर्वे के अनुसार, साल 1992 के मुक़ाबले 2012 के युवा ज़्यादा लंबे और वज़न में भारी हो रहे हैं. इसी तथ्य पर सरकार यह मानती है कि पोषण में पौष्टिकता ब़ढने की वजह से बच्चे अब स्वस्थ हो रहे हैं.

Read more

इंडिया इन ट्रांजिशनः एंटी बायोटिक और अनिवार्य दवाएं न मिल पाने की चुनौतियां

जहां तक एंटी बायोटिक दवाओं का संबंध है, भारत में इस संदर्भ में दो बिल्कुल अंतर्विरोधी समस्याएं हैं. बहुत से लोग इसलिए मरते हैं, क्योंकि उन्हें एंटी बायोटिक दवाएं नहीं मिल पातीं और दूसरे लोग ऐसे हालात में भी इनका प्रयोग करते हैं, जब उन्हें इनकी ज़रूरत नहीं होती और इस प्रकार वे एंटी बायोटिक प्रतिरोध को बढ़ाने में मदद करते हैं.

Read more

बापू साहब बूटी की बीमारी

नागपुर के बापू साहब बूटी को एक बार पेचिस की बीमारी हो गई. साथ ही कै भी होने लगी. उनकी आलमारी तरह-तरह की दवाइयों से भर गई, पर उनकी बीमारी हट ही नहीं रही थी. उल्टी और दस्त के कारण वह इतने कमज़ोर हो गए कि साई बाबा के दर्शन करने भी नहीं जा सकते थे.

Read more

ऐसे मारो घूस को घूंसा

घूसखोरी के बारे में कहा जाता है कि यह कैंसर जैसी लाइलाज बीमारी है. भ्रष्टाचार और घूसखोरी जैसा शब्द सुनकर अब किसी को आश्चर्य नहीं होता, क्योंकि यह हमारे समाज में शायद रोज ही घटित होने वाली एक घटना बन चुकी है.

Read more

अपने सैनिकों की जान बचाने के लिए क्या था हिटलर का सीक्रेट प्रोजेक्ट

क्या आपने कभी सोचा है कि कोई सेनापति अपने सैनिकों को सेक्स करने के लिए कोई सुविधा देता होगा? दरअसल, पहले सेनापति अपने सैनिकों को सेक्स करने के लिए डॉल देते थे. यह सच है, नाजी तानाशाह एडोल्फ हिटलर अपने सैनिकों को सेक्स करने के लिए सेक्स डॉल्स देता था. लंदन के अ़खबार द सन के हवाले से मिली जानकारी के अनुसार, हिटलर ने अपने सैनिकों की सेक्स से जुड़ी ज़रूरतों को पूरा करने के लिए सेक्स डॉल्स के ऑर्डर दिए थे.

Read more

बच के रहना रे बाबा

मधुमेह जैसी घातक बीमारी भारत को जकड़ती जा रही है. इंटरनेशनल डायबिटीज फेडरेशन की ताजा रिपोर्ट के मुताबिक़, विश्व में मधुमेह के सबसे ज़्यादा मरीज भारत में हैं. भारत में मधुमेह के मरीजों की संख्या 5.08 करोड़ है. वहीं चीन 4.32 करोड़ मरीजों के साथ दूसरे नंबर पर है, जबकि अमेरिका 2.68 मरीजों के साथ तीसरे नंबर पर है.

Read more

बाबा रामदेव और भ्रष्टाचार विरोधी मुहिम

रामदेव वर्तमान में देश के सफलतम बाबा हैं. कोई दूसरा बाबा उन्हें चुनौती देने की स्थिति में नहीं है. बाबा रामदेव का दावा है कि उनके सौ करोड़ अनुयायी हैं. असंख्य लोगों का दावा है कि बाबा की योग चिकित्सा पद्धति से उनके लाइलाज रोग ठीक हुए और उनके स्वास्थ्य में चमत्कारिक सुधार हुआ. बहुत कम समय में बाबा ने अरबों रुपये का व्यापारिक साम्राज्य स्थापित कर लिया.

Read more

छत्तीसगढ़ः फ्लोरेसिस ने पांव पसारे, सरकार बेखबर

बस्तर अंचल के संभाग मुख्यालय जगदलपुर से 47 किलोमीटर दूर स्थित आदिवासी बाहुल्य ग्राम बाकेल की आबादी 25 हज़ार है. दूषित पानी की आपूर्ति के चलते इस गांव के 72 लोग फ्लोरेसिस नामक ख़तरनाक बीमारी से पीड़ित हैं, पीड़ितों में महिलाओं और बच्चों की संख्या ज़्यादा है.

Read more

पारीछा थर्मल पावर प्रोजेक्‍ट राख ने नर्क बना दी जिंदगी

बुंदेलखंड के वाशिंदों को विकास के नाम पर विनाश के भंवर जाल में उलझाने का खेल खेला जा रहा है. झांसी मुख्यालय से 20 किलोमीटर की दूरी पर स्थित पारीछा थर्मल पावर स्टेशन की गगनचुंबी चिमनियों से निकलने वाली राख ने आसपास के गांवों में रहने वाले हज़ारों लोगों की ज़िंदगी नर्क कर दी है.

Read more

लगन बनाम लालफीताशाहीः एक डॉक्‍टर की अजब कहानी

लगन और एकाग्रचित्तता बनाम तिकड़म और लालफीताशाही की यह नायाब कहानी है. कानपुर के प्रसिद्ध होम्योपैथिक चिकित्सक डॉ. पी के सचान ने दोबारा मेहनत कर के सीपीएमटी की परीक्षा केवल इसलिए पास की थी, क्योंकि उन्हें फार्माकोलॉजी की पढ़ाई पूरी करनी थी.

Read more

नसों में घुल रहा है आर्सेनिक का जहर

आर्सेनिक के विष से अकेले उत्तर प्रदेश की जनता ही जानलेवा बीमारियों का शिकार नहीं रही है बल्कि बिहार और पश्चिम बंगाल में इसका कहर और अधिक है. चिकित्सकों की मानें तो आर्सेनिक युक्त पानी लंबे समय तक पीने से कई भयंकर बीमारियां शरीर को दबोच लेती हैं. त्वचा का कैंसर हो सकता है.

Read more

रहस्‍यमय बीमारी का कहर और…

कोसी के दियारा इलाक़े में एक रहस्यमय बीमारी ने बच्चों को लीनना शुरू कर दिया है. स्वास्थ्य महकमे के लोगों ने भी अभी तक रहस्यमय बीमारी को या तो जानने का प्रयास नहीं किया है या इसके प्रति उदासीन रवैया अपनाया है.

Read more

पचास हजार बच्‍चों की मौत का जिम्‍मेदार कौन?

उत्तर भारत में फैल रहा अनजाना ज्वर कहीं जैव आतंकवाद का परिणाम तो नहीं? पूर्वी उत्तर प्रदेश, उत्तर पश्चिमी बिहार और इससे सटे नेपाल के तराई इलाक़े में मस्तिष्क ज्वर से रोज़ हो रही औसतन सौ बच्चों की मौत की आख़िर वजह क्या है? पूर्वी उत्तर प्रदेश के पिछड़े ज़िले कहीं जैव आतंकवाद के प्रयोग स्थल और यहां के लोग कहीं गिनी-पिग तो नहीं बनाए जा रहे?

Read more

नेचुरोपैथीः दिल्ली का एक अस्पताल ऐसा भी…

फादर ऑफ मेडिसिन हिप्पोक्रेट्‌स ने कहा है कि एक बीमार आदमी को प्रकृति ठीक करती है न कि एक डॉक्टर. आज हालात ठीक इसके उलट हैं. आज इंसान प्रकृति से दूर हो गया है. डॉक्टरों की संख्या और दवाइयों की खोज तो बढ़ती गई, लेकिन उसी अनुपात में बीमारियां भी बढ़ती जा रही हैं. एलोपैथी दवा खा-खाकर भी आज इंसान रोगमुक्त नहीं हो पा रहा है.

Read more

बाल खोलेगा राज़

विशेषज्ञ अब बाल से जीवन के राज़ खोलेंगे. बाल देखकर वे बता देंगे कि आप कितने दबाव में हैं. इतना ही नहीं, हार्ट अटैक संबंधी बीमारियों के बारे में भी बाल बहुत कुछ बता देंगे. इसका खुलासा इजरायल में हुए एक शोध में किया गया है.

Read more

हरी सब्जी खाइए, मधुमेह से बचिए

हरी और पत्तेदार सब्जियां अगर रोज खाई जाएं तो मधुमेह की बीमारी से बचा जा सकता है. ब्रिटिश मेडिकल जर्नल की एक रिपोर्ट में यह बात सामने आई है. हालांकि इस संदर्भ में शोधकर्ताओं का कहना है कि अभी और रिसर्च करने की ज़रूरत है.

Read more

एड्स की चपेट में मऊ

पूर्वांचल का मऊ जनपद एड्‌स का गढ़ बनता जा रहा है. यहां एचआईवी पॉज़ीटिव लोगों की संख्या 523 हो गई है. इनमें 28 मरीज ऐसे हैं, जो लम्हा-लम्हा मौत की ओर बढ़ रहे हैं. जांच कराने वालों में पुरुषों और महिलाओं का अनुपात बराबर है. बताया यह जा रहा है कि बहुत से पीड़ित तो दीगर जनपदों में अपना इलाज करा रहे हैं.

Read more